बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Manufacturing328 टेक्सटाइल आइटम्स पर सरकार ने दोगुनी की इंपोर्ट ड्यूटी, मैन्युफैक्चरिंग को मिलेगा बूस्ट

328 टेक्सटाइल आइटम्स पर सरकार ने दोगुनी की इंपोर्ट ड्यूटी, मैन्युफैक्चरिंग को मिलेगा बूस्ट

सरकार ने मंगलवार को 328 टेक्सटाइल प्रोडक्ट्स पर इंपोर्ट ड्यूटी दोगुनी करते हुए 20 फीसदी कर दी है।

Govt doubles import duty on 328 textile items to 20 pc


नई दिल्ली. सरकार ने मंगलवार को 328 टेक्सटाइल प्रोडक्ट्स पर इंपोर्ट ड्यूटी दोगुनी करते हुए 20 फीसदी कर दी है। देश में इन आइटम्स की मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए यह फैसला किया गया है। वित्त राज्य मंत्री पी राधाकृष्णन ने इससे संबंधित नोटिफिकेशन को लोकसभा में पेश किया। नोटिफिकेशन में कहा गया कि ‘कस्टम एक्ट, 1962 के सेक्शन 159 के अंतर्गत टेक्सटाइल प्रोडक्ट्स की 328 टैरिफ लाइंस पर कस्टम ड्यूटी की मौजूदा रेट को 10 फीसदी से बढ़ाकर 20 फीसदी किया जाता है।’ 

 

 

नए रोजगार पैदा होंगे
ड्यूटी में यह बढ़ोत्तरी से घरेलू मैन्युफैक्चरर्स को फायदा मिलेगा, क्योंकि इंपोर्टेड प्रोडक्ट्स फिलहाल सस्ते पड़ते हैं। मैन्युफैक्चरिंग एक्टिविटी में बढ़ोत्तरी से सेक्टर में नई जॉब्स पैदा होंगी, जो लगभग 10.5 करोड़ लोगों को रोजगार देता है। 

 

 

50 से ज्यादा आइटम्स पर बढ़ाई जा चुकी है ड्यूटी
सरकार ने बीते महीने जैकेट्स, सूट्स और कालीन सहित 50 से ज्यादा टेक्सटाइल प्रोडक्टस इंपोर्ट ड्यूटी दोगुनी बढ़ाकर 20 फीसदी कर दी थी। इस पहल का उद्देश्य डॉमेस्टिक मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देना था। ट्रेड एक्सपर्ट्स के मुताबिक, भारत टेक्सटाइल सेक्टर को सीधे तौर पर कोई एक्सपोर्ट इंसेंटिव नहीं देगा, इसलिए डॉमेस्टिक मैन्युफैक्चरिंग को प्रोत्साहन देने के लिए इस सेगमेंट को सपोर्ट दिए जाने की जरूरत है।
जून में टेक्सटाइल यार्न, फैब्रिक, मेड-अप आर्टिकल्स का इंपोर्ट 8.58 फीसदी बढ़कर 16.86 करोड़ डॉलर के स्तर पर पहुंच गया था। 

 

 

रेडीमेंड गारमेंट का एक्सपोर्ट घटा
हालांकि कॉटन यार्न/फैब्रिक्स/मेड-अप्स, हैंडलूम प्रोडक्ट्स का एक्सपोर्ट्स 24 फीसदी बढ़कर 98.62 करोड़ डॉलर के स्तर पर पहुंच गया। मैन-मेड यार्न/फैब्रिक्स/मेड-अप्स का एक्सपोर्ट 8.45 फीसदी बढ़कर 40.34 करोड़ डॉलर के स्तर पर पहुंच गया। हालांकि सभी रेडीमेड गारमेंट का एक्सपोर्ट 12.3 फीसदी गिरकर 13.5 अरब डॉलर रह गया था। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट