बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Manufacturingगारमेंट मैन्युफैक्चरिंग में उतरेगी पतंजलि, एड कैंपेन में कम दिखेंगे रामदेव

गारमेंट मैन्युफैक्चरिंग में उतरेगी पतंजलि, एड कैंपेन में कम दिखेंगे रामदेव

योग गुरु और पतंजलि के को-फाउंडर बाबा रामदेव ने अगले वित्त वर्ष से गारमेंट मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में उतरने की घोषणा की।

1 of


पणजी. योग गुरु और पतंजलि के को-फाउंडर बाबा रामदेव ने घोषणा की कि उनकी कंपनी अगले वित्त वर्ष से गारमेंट मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में उतरेगी। उन्होंने कहा कि कंपनी स्पोर्ट्स और योग गारमेंट के बिजनेस में भी उतरेगी। पतंजलि ने बीते साल ही ‘स्वदेशी’ लाइन के तहत गारमेंट मैन्युफैक्चरिंग के बिजनेस प्लान का ऐलान किया था।

 

 

अंबानी और बिड़ला से होगी टक्कर
ऐसे में अगले साल से पतंजलि की मुकेश अंबानी और कुमार मंगल बिड़ला की कंपनियों से टक्कर होना तय हो गया है। दरअसल मुकेश अंबानी अपनी विमल सूटिंग एंड शर्टिंग के माध्यम से कपड़ों के बिजनेस में है। इसके साथ ही ई-कॉमर्स पोर्टल एजियो के माध्यम से गारमेंट बिजनेस में ऑपरेट करती है। 
वहीं कुमार मंगलम बिड़ला के स्वामित्व वाला आदित्य बिड़ला ग्रुप पैंटालून रिटेल, पीटर इंग्लैंड के माध्यम से गारमेंट बिजनेस में है। 

 

 

बच्चों, बड़ों सभी के कपड़े करेंगे लॉन्च 
योग गुरु एडवर्टाइजिंग एजेंसीज एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एएएआई) द्वारा आयोजित ‘गोवा फेस्ट 2018’ के दौरान प्रोफेशनल्स को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘लोग मुझसे पूछ रहे हैं कि आप अपनी कंपनी की जींस को मार्केट में कब लॉन्च कर रहे हैं। इसलिए हमने अगले साल से इथनिक वियर सहित बच्चों, पुरुषों और महिलाओं के लिए गारमेंट प्रोडक्ट्स लॉन्च करने का फैसला किया है।’

 

स्पोर्ट्स-योग के कपड़े भी होंगे लॉन्च 
रामदेव ने यह भी घोषणा की कि कंपनी स्पोर्ट्स और योग के लिए गारमेंट्स भी लॉन्च करेगी। कंपनी कॉस्मेटिक और फूड प्रोडक्ट्स के बिजनेस में पहले से है। उन्होंने दावा किया कि पतंजलि आयुर्वेद साल दर साल वित्तीय तौर पर मजबूत हो रही है और आने वाले दिनों में कंपनी टर्नओवर के मामले में देश की सबसे बड़ी कंपनी होगी।

 

एड कैंपेन में बड़े फेस नहीं लेने से बचा पैसा
पतंजलि की फिस्कल पॉलिसीज पर बात करते हुए रामदेव ने कहा कि उनकी कंपनी में मोटी सैलरी वाले प्रोफेशनल्स अप्वाइंट नहीं किए, बल्कि ऐसे लोगों को रखा गया जो काम के लिए प्रतिबद्ध हैं। रामदेव अपनी कंपनी के विज्ञापन में खुद ही नजर आते हैं। इस संबंध में उन्होंने कहा कि एड कैंपेन में बड़े फेस को नहीं लेने से कंपनी का खासा पैसा बचा है।

 

पतंजलि से भावनात्मक रूप से जुड़े लोग 
उन्होंने कहा, ‘मैं कैमरे पर आता हूं और अपने ब्रांड के लिए कैंपेन करता हूं। हम लोगों के साथ भावनात्मक रूप से जुड़े हुए हैं। हमारे एड कैंपेन में बड़े फेस नहीं होने के बावजूद हमारे ब्रांड को लोगों ने स्वीकार किया है।’ उन्होंने दावा किया कि अपनी नॉलेज बेस्ड एडवर्टाइजिंग के कारण पतंजलि ब्रांड पहले ही मार्केट में अपनी पहचान बना चुका है। उन्होंने कहा, ‘हम मल्टी नेशनल कंपनियों की तरह ग्लैमर के बजाय नॉलेज बेस्ड एडवर्टाइजिंग को बढ़ावा दे रहे हैं।’

 

दूसरे देशों में ले जाएंगे बिजनेस
हालांकि योग गुरु ने कहा कि वह पहले ही कई विज्ञापनों से हट चुके हैं और अगले कुछ साल में एड कैंपेंस से पूरी तरह हट जाएंगे। रामदेव ने यह भी घोषणा की कि पतंजलि आर्थिक रूप से कमजोर देशों सहित कई अन्य देशों में वेंचर स्थापित करेंगे और प्रॉफिट को वापस देश में लगाया जाएगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट