बिज़नेस न्यूज़ » Industry » Manufacturingमई में मैन्‍युफैक्‍चरिंग PMI में हल्‍की गिरावट, RBI बढ़ा सकता है ब्‍याज दरें

मई में मैन्‍युफैक्‍चरिंग PMI में हल्‍की गिरावट, RBI बढ़ा सकता है ब्‍याज दरें

भारत की मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर एक्‍टि‍वि‍टी में हल्‍की गि‍रावट दर्ज की गई है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। भारत की मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर एक्‍टि‍वि‍टी में हल्‍की गि‍रावट दर्ज की गई है। नि‍क्‍कई इंडि‍या मैन्‍युफैक्‍चरिंग पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्‍स (PMI) के मंथली सर्वे में कहा गया है कि‍ नए वर्क ऑर्डर में धीमी गति‍ के साथ इजाफ हुआ है जबकि‍ महंगाई के बढ़ते दबाव की वजह से रि‍जर्व बैंक की ओर से ब्‍याज दरों को बढ़ाया जा सकता है। 

 

मई में मैन्‍युफैक्‍चरिंग PMI गि‍रकर 51.2 पर पहुंच गया जोकि‍ अप्रैल में 51.6 पर था। आईएचएस मार्कि‍ट के इकोनॉमि‍स्‍ट और रि‍पोर्ट की लेखि‍का आशना डोढि‍या ने कहा कि ताजा PMI सर्वे इस बात का संकेत दे रहा है कि‍ मई में मैन्‍युफैक्‍चरिंग की हालत में सुधार धीमी गति‍ के साथ हो रहा है। यह बताता है कि‍ आउटपुट, नए बि‍जनेस और रोजगार के वि‍स्‍तार में कमजोरी है। गौतलब है कि‍ लगातार 10वें माह मैन्‍युफैक्‍चरिंग PMI 50 अंक के ऊपर बना हुआ है।    

 

तेल की कीमतों की वजह से महंगाई का दबाव

 

ग्‍लोबल ऑयल प्राइस में इजाफा होने की वजह से इनपुट कॉस्‍ट और आउटपुट इंफ्लेशन फरवरी के बाद सबसे ज्‍यादा है। इसकी वजह से महंगाई का दबाब दोबारा बढ़ने लगा है। डोढि‍या ने कहा कि‍ कच्‍चे तेल के नेट इंपोर्टर होने के नाते भारत की रि‍वकरी अस्‍थि‍र हो गई है, खासतौर पर नि‍जी उपभोग के मामले में।   

 

रुपए में गि‍रावट जारी रहने की संभावना

 

डोढि‍या ने कहा कि‍ उच्‍चे तेल के दाम की वजह से भारतीय रुपए में गि‍रावट जारी रह सकती है और इसकी वजह से चालू खाता घाटा भी बढ़ सकता है। 

 

आरबीआई बढ़ा सकता है ब्‍याज दरें

 

डोढि‍या ने कहा कि‍ महंगाई को रोकने और वित्‍तीय स्‍थि‍रता को बनाए रखने के लि‍ए आरबीआई ब्‍याज दरों में इजाफा कर सकता है। आरबीआई ने अप्रैल में 2018-19 की पहली मौद्रि‍क नीति‍ में रेपो रेट को 6 फीसदी पर बरबरार रखा था। वहीं, बीते साल अगस्‍त के बाद से MPC में लगातार चौथी बार कोई बदलाव नहीं कि‍या गया।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट