Home » Industry » Manufacturingwhat is the best time to buy house 2018

मकान खरीदने पर टीवी, फ्रिज समेत किचन का सारा सामान मुफ्त, सोने के सिक्के एवं रजिस्ट्री भी फ्री

लेकिन सोच-समझ कर लें फैसला

1 of

नई दिल्ली. फेस्टिवल सीजन में डेवलपर मकान खरीदने के कई ऑफर दे रहे हैं। इसके तहत सोने के सिक्के, मॉड्यूलर किचन, फ्रिज, एसी और टीवी मुफ्त में दिए जा रहे हैं। इसके अलावा डेवलपर की ओर से जीएसटी और रजिस्ट्री में छूट दी जा रही है। एक अंग्रेजी अखबर के मुताबिक मकान की कीमतों में आने वाले दिनों में बढ़ोतरी की संभावना हैं। इसकी वजह रियल एस्टेट (नियमन एवं विकास) अधिनियम या रेरा के स्थिर होने से आपूर्ति में बढ़ोतरी को बताया जा रहा है। वहीं प्रधानमंत्री आवास योजना घर खरीदने में मददगार साबित हो रही है। 

 

कितना मिल रहा फायदा
सरकार की ओर से रियल्टी पर 12 फीसदी जीएसटी की दर लगाई गई है। इसमें डेवलपर छूट दे रहे हैं। मतलब 50 लाख के मकान की खरीद पर 6 लाख रुपए की बचत मिल रही है। इसके अलावा डेवलपर स्टांप शुल्क और रजिस्ट्री पर भी छूट दे रहे हैं, जो कि 5 से 7 फीसदी यानी 3.5 लाख होगी। ऐसे अगर कुल बचत की बता करें, तो वो करीब 10 लाख के आसपास पहुंचती है। इसके अलावा आसान भुगतान की योजना, सोने के सिक्के, मॉड्यूलर किचन और एयर कंडीशनर जैसे उपहार मिल रहे हैं। 

 

आगे पढ़ें- क्या है विशेषज्ञों की राय 

 

 

क्या है विशेषज्ञों की राय 

रियल एस्टेट विशेषज्ञों का मानना है कि पिछले कई सालों से ऐसी छूट दी जा रही थी। इस बार मिलने वाली छूट सबसे ज्यादा है। उनके मुताबिक इस वक्त मकान खरीदने का सबसे सही मौका है। उनके मुताबिक लेकिन अगर आपका इरादा आवासीय संपत्ति में निवेश भर का है तो कुछ और वक्त इंतजार कीजिए। छूट और तोहफों की पेशकश के बाद भी इस समय इंतजार करना ही अच्छा है।'

 

आगे पढ़े- जोखिम का खतरा बरकरार

 

जोखिम का खतरा बरकरार

रियल एस्टेट की बिक्री में सुधार शुरू होने और कीमतों में तेजी का रुख साफ होने के बाद ही निवेशकों को रियल एस्टेट में पैसे लगाने के बारे में विचार करना चाहिए। कुछ रिपोर्टों में कहा गया है कि बिक्री पिछले साल से बेहतर है, जो इस क्षेत्र में सुधार का संकेत है। लेकिन प्रॉपर्टी सलाहकारों का कहना है कि ये आंकड़े तुलनात्मक हैं। ये पिछले साल की इसी तिमाही के मुकाबले बेहतर नजर आ रहे हैं, लेकिन ये तीन साल पहले के मुकाबले कहीं नजदीक भी नहीं ठहरते हैं। बिके मकानों की संख्या पिछले साल से अधिक हो सकती है, लेकिन कीमतों में बढ़ोतरी नहीं हुई है। आवासीय बाजार में दांव तभी लगाएं, जब लगातार दो तिमाहियों में कीमतें बढ़ें। 

 

आगे पढ़े- निवेश में नुकसान के आसार 

 

निवेश में नुकसान के आसार 

प्रॉपर्टी सलाहकारों का मानना है कि लेनदेन की संख्या बढऩे के बावजूद कीमतों में तिमाही दर तिमाही बढ़ोतरी की स्थिति आने में कम से कम दो साल लग सकते हैं। माना कि आप किसी घर खरीदने पर 1 करोड़ रुपये निवेश करते हैं और पहले साल कीमतें उसी स्तर पर रहती हैं या महज 2 से 3 फीसदी बढ़ती हैं तो आपका महंगाई समायोजित प्रतिफल ऋणात्मक होगा। उस एक साल में आप घर में निवेश के बजाय कम ब्याज वाली बैंक सावधि जमा में निवेश करने पर भी बेहतर स्थिति में रहेंगे।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट