विज्ञापन
Home » Industry » ManufacturingAir Strike Pichkari And Gulal Hand Grenade in This Holi

Air Strike के बाद बाजार में खुलेआम बिक रही हैं AK-47 और हैंड ग्रेनेड, सिर्फ इतनी है कीमत

इस हैंड ग्रेनेड को फेंकने पर निकलेगा गुलाल

Air Strike Pichkari And Gulal Hand Grenade in This Holi

Air Strike Pichkari And Gulal Hand Grenade in This Holi: होली के बाजार में इस बार भारतीय सेना की तस्वीरों वाली पिचकारी लोगों को आकर्षित कर रही है। खासकर हाल ही में हुए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से पिचकारी बाजार में भी सर्जिकल स्ट्राइक और वायुसेना की तस्वीरों वाली पिचकारी छाई है। इसके अलावा बंदूक, खिलौने सहित कई तरह की पिचकारियां बिक रही हैं। इनकी कीमत 20 रुपए से लेकर 200 रुपए तक है।

नई दिल्ली.

होली के बाजार में इस बार भारतीय सेना की तस्वीरों वाली पिचकारी लोगों को आकर्षित कर रही है। खासकर हाल ही में हुए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से पिचकारी बाजार में भी सर्जिकल स्ट्राइक और वायुसेना की तस्वीरों वाली पिचकारी छाई है। इसके अलावा बंदूक, खिलौने सहित कई तरह की पिचकारियां बिक रही हैं। दिल्ली की मार्केट भी होली पर सर्जिकल स्ट्राइक के लिए तैयार है और मार्केट में मशीनगन, मिसाइल और बम जैसी तमाम पिचकारियां मिल रही हैं। हालांकि इन बंदूकों से गोली और बारूद नहीं, बल्कि गुलाल निकलेगा। इनकी कीमत 20 रुपए से लेकर 200 रुपए तक है।

 

10 रुपए से 1000 रुपए तक है कीमत 

अगर आप बच्चों के लिए छोटी पिचकारी लेना चाहते हैं, तो उसकी कीमत 10 रुपए से ही शुरू हो जाती है। लेकिन अगर बात करें मशीनगन और मिसाइल वाली पिचकारियों की, तो इनकी कीमत 100 रुपए से लेकर 900 रुपए तक है। आप 400 रुपए तक में भी एक बड़ी मशीनगन ले सकते हैं। हैंड ग्रेनेड की कीमत 25 रुपए से लेकर 450 रुपए तक है। 

यह भी पढ़ें- होली पर प्रियंका पिचकारी के जवाब में चलेगी मोदी गन, जानिए किसकी है कितनी कीमत

चुनावी रंग में सराबोर हुआ होली का बाजार

कम हो रहा है चीनी माल

पिचकारी विक्रेता ने बताया कि इस बार देशी पिचकारियों की ही अधिक बिक्री हो रही है। कई तरह के मुखौटे, रंग-अबीर, पोटीन आदि की भी बिक्री खूब हो रही है। दुकानदार भी खरीदारों को लुभाने के लिए नई डिजाइनर पिचकारियों के साथ चाइनीज मास्क, हैट और अन्य सामानों को दुकानों में सजाए हुए हैं। पहले जहां बच्चों के हाथों में बांस की बनी परंपरागत पिचकारी या फिर उसी शक्ल की प्लास्टिक की पिचकारी होती थीं, वहीं अब इसकी जगह चाइनीज एके-47 और एसएलआर दिखाई देंगे। बाजार में पीतल से लेकर लोहे और टीन तथा प्लास्टिक की परंपरागत पिचकारी भी 50 रुपए से 200 रुपए तक में मौजूद हैं, लेकिन बच्चो की पसंद चाइनीज एके-47 ही बनी हुई है, जिसकी कीमत 300 रुपए और एसएलआर की कीमत 250 रुपए तक है। जब से सरकार ने चीन से आने वाले माल पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई है, तब से चाइनीज माल बेहद कम आ रहा है। इसका असर यह हुआ है कि अब इंडियन पिचकारी मार्केट में सबसे ज्यादा है। क्वालटी के नजरिए से भी चाइनीज भारतीय पिचकारी का मुकाबला नहीं कर सकते। रेट की बात की जाए, तो भारत में बनी पिचकारी चाइनीज पिचकारी से 20 प्रतिशत तक कम रेट पर मिल रही हैं।

 

 

हर्बल गुलाल की बढ़ी बिक्री

युवाओं में कलर स्प्रे तो बच्चों में वाटर बैलून का क्रेज दिख रहा है। लिहाजा बाजार में दुकानदार भी चाइनीज बैलून और कलर स्प्रे का स्टॉक कर मांग पूरी करने में जुटे हैं। ग्राहकों की पहली पसंद हर्बल और सुगंधित गुलाल है। बाजार में गुलाल 15 रुपए प्रति 100 ग्राम से लेकर 80 रुपए प्रति सौ ग्राम तक का मौजूद है लेकिन बिक्री महंगे सुगंधित गुलाल का ही सबसे ज्यादा है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन