• Home
  • Rcom Lenders will get only 10 thousand crore rupee form resolution process

प्रभाव /आरकॉम की बिक्री से कर्जदाताओं को मिलेंगे सिर्फ 10 हजार करोड़, 39 हजार करोड़ का होगा नुकसान

  • रेजोल्यूशन प्रोफेशनल ने तय की आरकॉम की संपत्तियों की कीमत, आरकॉम पर है 49 हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज

Moneybhaskar.com

Sep 02,2019 11:19:00 AM IST

नई दिल्ली। अनिल अंबानी समूह की कंपनी रिलायंस कम्यूनिकेशन (आरकॉम) की बिक्री से कर्जदाताओं को करीब 9 से 10 हजार करोड़ रुपए मिलेंगे। इससे कर्जदाताओं को करीब 39 हजार करोड़ रुपए का नुकसान होगा। आरकॉम पर करीब 49 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है। जानकारों का अनुसार आरकॉम की समाधान प्रक्रिया अक्टूबर के मध्य तक पूरी हो सकती है।

समाधान प्रक्रिया से गुजर रही है आरकॉम

दिवालिया घोषित होने के बाद नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में आरकॉम की समाधान प्रक्रिया चल रही है। एनसीएलटी ने आरकॉम की संपत्तियों की वैल्यू तय करने के लिए रेजोल्यूशन प्रोफेशनल (आरपी) की नियुक्ति की है। इस मामले से जुड़े लोगों के हवाले से ईटी की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आरपी ने आरकॉम की संपत्तियों की वैल्यू 9 से 10 हजार करोड़ रुपए के बीच आंकी है। अब यदि आने वाले महीनों में एनसीएलटी समाधान प्रक्रिया समाप्त करती है तो आरकॉम को कर्ज देने वालों को अधिकतम 9 से 10 हजार करोड़ रुपए ही मिल पाएंगे। आपको बता दें कि 53 कर्जदाताओं ने आरकॉम पर 57,382 करोड़ रुपए के कर्ज का दावा किया है जिसमें से 49,223.88 करोड़ रुपए के दावों को आरपी ने स्वीकृत किया है।

ये हैं संभावित खरीदार

आरकॉम की समाधान प्रक्रिया के बीच कई कंपनियों ने इसे खरीदने की इच्छा जताई है। इनमें रिलायंस जियो, भारती एयरटेल, मोबाइल टावर कारोबार करने वाली फर्म एटीसी टेलीकॉम इंफ्रास्ट्रक्चर, संपत्ति पुनर्गठन फर्म एसेट केयर एंड रिकंस्ट्रक्शन एंटर प्राइजेज लिमिटेड और यूवी एआरसी, निजी इक्विटी फर्म टीपीजी एशिया VII एसएफ पीटीई और इंडिया इंफ्रास्ट्रक्चर फंड II शामिल हैं। आपको बता दें कि आरकॉम और इसकी सहयोगी रिलायंस इंफ्राटेल और रिलायंस टेलीकॉम की समाधान प्रक्रिया चल रही है। समाधान प्रक्रिया में 850 मेगाहर्टज बैंड के स्पेक्ट्रम जो देश के 14 सर्किलों में 4जी सेवा दे रहे हैं और 43 हजार टेलीकॉम टावर शामिल हैं।

इन प्रमुख भारतीय बैंकों का है कर्ज

- स्टेट बैंक ऑफ इंडिया 4800 करोड़ रुपए

- बैंक ऑफ बड़ौदा 2500 करोड़ रुपए

- सिंडिकेट बैंक 1225 करोड़ रुपए

- पंजाब नेशनल बैंक 1127 करोड़ रुपए

इन विदेशी बैंकों का भी है कर्ज

- चाइना डवलपमेंट बैंक 9900 करोड़ रुपए

- एक्जिम बैंक ऑफ चाइना 3356 करोड़ रुपए

- स्टेंडर्ड चार्टर्ड बैंक (मुंबई-लंदन) 2100 करोड़ रुपए

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.