Home »Industry »IT-Telecom» Netizens Uninstall Snapdeal App Instead Of Snapchat

स्नैपचैट के चक्कर में यूजर्स कर रहे स्नैपडील को अनइंस्टॉ‍ल, ट्विटर पर शेयर हुए फोटोज

नई दिल्‍ली।स्‍नैपचैट सीईओ इवान स्‍पीगल के कथित तौर पर भारत को गरीब देश कहने के विरोध में लोग लगातार इस ऐप को अनइंस्‍टॉल कर रहे हैं, लेकिन स्‍नैपचैट के सीईओ की वजह से उठे इस विवाद का खामियाजा स्‍नैपडील को भी भुगतना पड़ रहा है। दरअसल रविवार को कुछ लोगों ने सोशल नेटवर्किंग ऐप स्‍नैपचैट को अनइंस्‍टॉल करने की बजाय ई-कॉमर्स स्‍नैपडील की ऐप को डिलीट करना शुरू कर दिया।
 
स्‍नैपचैट सीईओ के बयान से उठा विवाद
रविवार को सोशल मीडिया पर स्‍नैपचैट के सीईओ इवान स्‍पीगल के खिलाफ विरोध अभियान चलता रहा। स्‍पीगल का यह विरोध उनके उस कथित बयान से हो रहा है, जिसमें उन्‍होंने कहा था कि यह ऐप सिर्फ अमीरों के लिए है और यह भारत और स्‍पेन जैसे गरीब देशों में अपना बिजनेस बढ़ाने में इंटरेस्‍टेड नहीं हैं। यह आरोप ऐप के एक पूर्व अधिकारी ने ही लगाए हैं। हालांकि स्‍नैपचैट ने इसका खंडन किया है।
 
दिनभर ट्रेंड करता रहा स्‍नैपचैट
जैसे ही यह विवाद सामने आया, भारत में स्‍नैपचैट यूजर्स ने इस ऐप को अनइंस्‍टॉल करना शुरू कर दिया। दिनभर #BoycottSnapchat ट्रेंड करता रहा। लोगों ने ट्विटर पर इसे अनइंस्‍टॉल करने के साथ ही खराब रेटिंग देने के लिए अभियान चला दिया। कुछ लोगों ने तो ये भी बताना शुरू कर दिया कि माइक्रोसॉफ्ट और गूगल जैसी बड़ी कंपनियों के सीईओ भी भारतीय हैं।
 
कुछ ने कर दिया स्‍नैपडील को ही अनइंस्‍टॉल
स्‍नैपचैट को अनइंस्‍टॉल करने के चक्‍कर में कुछ इंटरनेट यूजर्स ने स्‍नैपडील को ही अनइंस्‍टॉल करना शुरू कर दिया। यह तब पकड़ में आया, जब यूजर्स ने इसके फोटोज ट्विटर पर शेयर करने शुरू किए। इसके बाद कुछ लोगों ने दोनों ऐप के बीच फर्क बताना और समझाना भी शुरू किया। एक यूजर ने लिखा कि दोस्‍तों रेटिंग में संतुलित बनाए रखने की जरूरत है। स्‍नैपचैट के सीईओ ने भारत विरोधी बयान दिया था। आप लोग इसके लिए स्‍नैपडील को नुकसान पहुंचा रहे हैं। रेटिंग चेंज करें।

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY