• Home
  • More than 10 thousand customers filed online petition in TRAI to end IUC

अपील /जियो के समर्थन में उतरे ग्राहक, आईयूसी खत्म करने को लेकर ट्राई में डाली ऑनलाइन याचिका

  • जियो ने दूसरे नेटवर्क पर कॉल के लिए लगाया है 6 पैसे प्रति मिनट का चार्ज
  • अपने ऊपर भार बढ़ता देख ग्राहकों की ट्राई से समस्या के समाधान की मांग

Moneybhaskar.com

Oct 10,2019 04:15:00 PM IST

नई दिल्ली। इंटरकनेक्ट यूजेस चार्ज अर्थात आईयूसी को लेकर दूरसंचार कंपनियों के बीच मचे घमासान में उपभोक्ता भी कूद पड़े हैं और इसे ग्राहकों पर बोझ बताते हुए भारतीय दूरसंचार नियामक संस्था (ट्राई) से इसके शीघ्र समाधान की मांग की है।

जियो ने लगा दिया है 6 पैसे प्रति मिनट का चार्ज

मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो ने आईयूसी मुद्दे पर ट्राई के ढुलमुल रुख का हवाला देते हुए बुधवार को दूसरे नेटवर्क पर काल करने के लिए छह पैसे प्रति मिनट का चार्ज लगाने का ऐलान किया था। कंपनी के इस एलान के बाद जियो के ग्राहक अपने ऊपर पड़ने वाले भार को देखते हुए कंपनी के समर्थन में उतर आए और ट्राई से जल्द से जल्द इसका समाधान निकालने की मांग की है। जियो के उपभोक्ताओं ने अपनी मांग ट्राई तक पहुंचाने के लिए ऑनलाइन याचिका का रास्ता अपनाया है। खबर लिखे जाने तक करीब 10 हजार जियो उपभोक्ता इसके समर्थन में आ चुके हैं। अपनी बात संबंधित संस्था तक पहुंचाने के लिए ऑनलाइन याचिका का प्रचलन प्रभावी ढंग से किया जाता है।

ट्राई के परामर्श पेपर से हुई विवाद की शुरुआत

आईयूसी पर विवाद की शुरुआत ट्राई के एक परामर्श पेपर से शुरू हुई बताई जाती है। ट्राई 2011 से ही आईयूसी को खत्म करने की वकालत करता रहा है लेकिन जब इसका समय 31 दिसंबर 2019 नजदीक आया तो परामर्श पेपर जारी कर इस बंद हो चुके अध्याय को एक बार फिर से खोल दिया। नियामक अनिश्चितताओं के बीच रिलायंस जियो का मानना है कि वह आईयूसी से सबसे अधिक प्रभावित होने वाली कंपनी है। आईयूसी के फ्री हो जाने से ग्राहकों के लिए इनकमिंग और आउटगोइंग कॉल फ्री हो जाएगा। रिलायंस जियो का कहना है कि वह फ्री कालिंग की सुविधा देती रही है लेकिन इसके लिए उसे भारी कीमत चुकानी पड़ती है। आईयूसी की व्यवस्था पुरानी हो चुकी है और विश्व की ज्यादातर टेलीकॉम मार्केट जीरो आईयूसी को फालो करती हैं।

एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया के 2जी ग्राहक देते हैं मिस्ड कॉल

दरअसल एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया का निम्न आय वर्ग के ग्राहकों के लिए जो टैरिफ प्लान है उसमें कालिंग की दरें इंडस्ट्री में सबसे अधिक बताई जा रही हैं। कुछ मामलों में तो यह डेढ़ रुपए प्रति मिनट से भी ज्यादा हैं। इनमें कंपनियों के ऐसे बड़ी संख्या में ग्राहक 2 जी नेटवर्क से जुड़े हुए हैं जो मोबाइल का इस्तेमाल अधिकार कालिंग के लिए ही करते हैं क्योंकि डेटा की कीमतें भी इन निम्न आय वर्ग के ग्राहकों के लिए 500 रुपए जीबी से अधिक हैं। रिलायंस जियो का कहना है कि दोनों कंपनियों के 2जी ग्राहक पैसा बचाने के लिए जियो के ग्राहकों को मिस्ड कॉल देते हैं और जब जियो का ग्राहक अन्य आपरेटर के उपभोक्ता को फोन करता है तो जियो को छह पैसे प्रति मिनट चुकाने पड़ते हैं। जियो का दावा है कि कंपनी पर तीन वर्षों में इस मद में साढ़े तेरह हजार का बोझ आ चुका है। रिलायंस जियो का कहना है कि यदि आईयूसी को ट्राई खत्म कर दे तो वह पहले की तरह सभी तरह की कॉलिंग फ्री कर देगी।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.