बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-Telecomसस्‍ता फोन खरीदने के चक्‍कर में हो जाता है नुकसान, इन बातों का रखें ध्‍यान

सस्‍ता फोन खरीदने के चक्‍कर में हो जाता है नुकसान, इन बातों का रखें ध्‍यान

अगर आप महंगा स्‍मार्टफोन खरीदना चाहते हैं। लेकि‍न आपका बजट कम हैं तो आपके लि‍ए रिफर्बिश्ड फोन एक अच्‍‍‍‍छा ऑप्‍शन है।

1 of
 
 
नई दिल्ली. अगर आप महंगा स्‍मार्टफोन खरीदना चाहते हैं। लेकि‍न आपका बजट कम हैं ऐसे में आपके लि‍ए रिफर्बिश्ड फोन एक अच्‍‍‍‍छा ऑप्‍शन है। भारत में नए स्मार्टफोन के साथ-साथ रिफर्बिश्ड स्मार्टफोन का बाजार भी तेजी से बढ़ रहा है। बाजार में तमाम दुकानें और बहुत सी ई-कॉमर्स साइट रिफर्बिश्ड स्मार्टफोन में डील करती हैं। 
 
 
 
रिफर्बिश्ड फोन मतलब ... 
 
कई बार लोग ई-कॉमर्स साइट से स्‍मार्टफोन खरीदते हैं और फि‍र कुछ दि‍न बाद उनमें कुछ दि‍क्‍कत बताते हुए वापस कर देते हैं। या फि‍र कई बार स्‍क्रेच के चलते फोन वापस आ जाते हैं। इसके बाद कंपनी इन फोन को रि‍पेयर कर फि‍र से बाजार में उतारती है। इन्‍हें ही रिफर्बिश्ड फोन कहा जाता है। कंपनी की ओर से इन्‍हें पूरी जि‍म्‍मेदारी और रिफर्बिश्ड फोन कहकर ही बेचा जाता है। ऐसे मेंं अगर आप पुराना या रिफर्बिश्ड स्मार्टफोन खरीद रहे हैं तो बेहतर डील के लिए आपको कुछ बातों का ख्याल रखना बेहद जरूरी है।moneybhaskar.com अपनी खबर में बता रहा ऐसी ही 5 बातें :  
 
आगे पढ़ें : क्‍या है सबसे जरूरी 
 
1. फोन अनलॉक हो 
 
रिफर्बिश्ड फोन को खरीदने से पहलें चेक कर ले कि वह फोन किसी खास नेटवर्क पर लॉक तो नहीं किया गया है। ऐसा होने पर उस नेटवर्क पर आपका फोन काम नहीं करेगा। रिफर्बिश्ड फोन खरीदने पर आप किसी खास नेटवर्क से बंधे नहीं होते हैं, अपनी पसंद के नेटवर्क और डाटा प्लान का चुनाव कर सकते हैं। अगर फोन किसी नेटवर्क पर लॉक है तो उसे अनलॉक करवा लें क्योंकि इसके लिए कई बार कंपनियां पैसे मांगती है जो आपके फोन की कीमत को बढ़ा देगा।   
 
आगे पढ़ें : भरोसा होने पर ही खरीदें  
2. विक्रेता विश्वसनीय हो 
 
रिफर्बिश्ड फोन खरीदने से पहले सबसे जरुरी और ध्यान देने वाली बात यह है कि‍ जिस भी स्टोर या विक्रेता से आप फोन को खरीद रहे हैं वो विश्वसनीय हो। इसके साथ ही आप जो फोन खरीदना चाहते हैं उसके बारे में पहले पता कर ले कि फोन चोरी का तो नहीं है। बाजार में रिफर्बिश्ड फोन को चेक करने के लिए तमाम कंपनियां या वेबसाइट मौजूद हैं। 
 
आगे पढ़ें : नकली न हो माल 
3. एसेसरीज ओरिजनल हो 
 
पुराने स्मार्टफोन को खरीदने से पहले एक और बात ध्यान रखें कि फोन के साथ दी गईं सभी एसेसरीज ओरिजनल हो। फोन की एसेसरीज ओरीजनल न होने पर फोन की वैल्यु कम हो जाती है। इसके साथ ही नकली एसेसरीज इस्तेमाल करने से फोन की परफॉर्मेंस पर भी असर पड़ता है। ऐसे में फोन के साथ मिलने वाली सारी एसेसरीज को अच्छे से जांच लें।  
 
आगे पढ़ें : वारंटी जरूर चेक करें 
4. ध्‍यान से ले लें वारंटी पेपर 
 
रिफर्बिश्ड फोन को खरीदने से पहले उस फोन से जुड़ी डिटेल्स ले लें। इसके साथ ही, फोन की वारंटी डेट को भी चेक कर लें। इसके अलावा डिवाइस के वारंटी पेपर्स भी होने चाहिए। ज्यादातर स्मार्टफोन कंपनियां अपने डिवाइस पर 60 दिन और 12 महीनों की वॉरेंटी ऑफर देती है। वारंटी कई बार कंपनियां बिल के आधार पर देती है। ऐसे में जहां से भी आप पुराना फोन खरीद रहे हैं उसके साथ उसका बिल जरूर लें। 
 
आगे पढ़ें : क्‍वॉलि‍टी पर भी दें ध्‍यान 
5. क्‍वॉलि‍टी भी करें चेक 
 
रिफर्बिश्ड फोन को खरीदने से पहले उसकी क्वालिटी को चेक कर ले। जाहिर है कि नए और पुराने फोन की कंडीशन में अंतर होगा। ऐसे में यह देख लें कि जिस पुराने स्मार्टफोन की कीमत आप चुका रहे है वो उस लायक है भी या नहीं। इसके लिए ई-कॉमर्स साइट प्रोडक्ट के साथ कंडीशन पुअर, एक्सीलेंट या गुड जैसे विकल्प देती हैं। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट