विज्ञापन
Home » Industry » IT-TelecomIndia 2nd in government requests for users' data on FB

खुलासा / फेसबुक से यूजर्स का डाटा मांगने में भारत सरकार दुनिया में दूसरे नंबर पर

डाटा मांगने में पहले नंबर पर अमेरिकी सरकार रही।

India 2nd in government requests for users' data on FB
  • यह खुलासा फेसबुक ने अपनी ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट में किया।

नई दिल्ली.

फेसबुक से यूजर्स का डाटा मांगने वाली शीर्ष सरकारों में भारत सरकार दूसरे पायदान पर रही। देश की सरकार ने बीते साल जुलाई से दिसंबर के बीच 20,805 यूजर्स का डाटा फेसबुक से मांगा। इसमें 861 इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स थीं। फेसबुक ने 53 फीसदी मामलों में कुछ जानकारी सरकार को मुहैया कराई। डाटा मांगने में पहले नंबर पर अमेरिकी सरकार रही जिसने 40 हजार से ज्यादा यूजर्स का डाटा मांगा। यह खुलासा फेसबुक ने अपनी ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट में किया।

 

सबसे आगे रहा अमेरिका

जुलाई-दिसंबर, 2018 में दुनियाभर की सरकारों की तरफ से फेसबुक से यूजर डाटा मांगने की रिक्वेस्ट्स में 7 फीसदी इजाफा हुआ। यह मांग 1,03,815 से बढ़कर 1,10,634 हो गया। इसमें से सबसे ज्यादा रिक्वेस्ट्स (41,336) अमेरिका ने की। इसके बाद भारत, ब्रिटेन, जर्मनी और फ्रांस का नंबर आया।

 

फेसबुक ने डिलीट किए तीन अरब फेक अकाउंट्स

एक अन्य रिपोर्ट में फेसबुक ने बताया कि अक्टूबर, 2018 से मार्च, 2019 के बीच फेसबुक से तीन अरब फेक अकाउंट्स डिलीट किए गए। फेसबुक ने बताया कि उसके कुल मंथली यूजर्स में से 5 फीसदी फर्जी थे। फेसबुक के वाइस प्रेसिडेंट फॉर इंटिग्रिटी Guy Rosen ने बताया कि, फेसबुक पर कंटेंट देखने वाले हर 10 हजार लोगों में से 11 से 14 व्यू ऐसे कंटेंट के लिए होते हैं, जो प्लेटफॉर्म की अडल्ट न्यूडिटी और सेक्शुअल एक्टिविटी पॉलिसी का उल्लंघन करते हैं।

 

25 लाख से कंटेट हटाया फेसबुक ने

जुलाई-दिसंबर, 2018 के बीच 9 देशों में 53 बार फेसबुक की सेवा में बाधा आई। इसमें 85 फीसदी बाधाएं भारत में गिनी गईं। फेसबुक और इंस्टाग्राम पर कंपनी ने कॉपीराइट उल्लंघन की 5,11,706 रिपोर्ट के आधार पर 25,95,410 कंटेंट हटाया। ट्रेडमार्क की 81,243 रिपोर्ट के आधार पर 2,15,877 कंटेंट हटाया और जालसाजी की 62,829 रिपोर्ट के आधार पर 7,81,875 कंटेंट हटाया।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन