Home » Industry » IT-TelecomWhy computer drives starts with C where is A and B

क्‍यों C से शुरू होती है कंप्‍यूटर की ड्राइव, कहां चले गए A और B

आपने कभी सोचा है कि‍ विंडोज कंप्यूटर में ए या बी ड्राइव क्यों नहीं होता।

1 of
नई दि‍ल्‍ली. स्‍मार्टफोन आने के बाद टेक्‍नाेलॉजी लगातार आसान होती जा रही है। इसके बावजूद आज भी कंप्यूटर का अपना अलग महत्व है। बड़ी स्‍क्रीन, की बोर्ड और माउस के चलते कंप्यूटर को चलाना तेज और आसान है। यही कारण है कि‍ हर हाथ में स्‍मार्टफोन होने के बावजूद आॅफिस और घर में लोग कंप्यूटर या लैपटॉप रखना पसंद करते हैं। इसके अलावा स्‍मार्टफोन की मैमोरी फुल होने पर कंप्यूटर की हार्ड ड्राइव में ढ़ेर सारा डाटा स्टोर होता है। कंप्यूटर के सी ड्राइव में सॉफ्टवेयर और डी और ई ड्राइव में डाटा रखते हैं। आप चाहें तो ई और एफ सहित अन्य ड्राइव भी बना सकते हैं। लेकि‍न इन सब बातों के बीच आपने कभी सोचा है कि‍ विंडोज कंप्यूटर में ए या बी ड्राइव क्यों नहीं होता। ऐसे में आज हम आपको बताएंगे इसके पीछे की पूरी कहानी। आखि‍र क्‍यों नहीं होती कंप्यूटर में A और B ड्राइव। 
आगे पढ़ें : शुरुआती कंप्यूटर में छि‍पा है इसका राज 

पुराने कंप्यूटर में छि‍पा हैै इसका राज  
 
आपको बता दूं कि इसका जवाब पुराने कंप्यूटर में छिपा है। जब कंप्यूटर को इज़ाद किया गया तो उनमें इंटरनल स्टोरज नहीं होती थी। कंप्यूटर में किसी चीज को सेव नहीं किया जा सकता था। ऐसे में डाटा सेव करने के लिए अलग से एक एक्सटर्नल फ्लॉपी​ डिस्क ड्राइव को लगाना होता था।  
 
शुरुआत में तो सवा पांच इंच वाले फ्लॉपी डिस्क का उपयोग हुआ करता था जो कि‍ A ड्राइव में लगती थी। इसके बाद कंप्यूटर के लिए दूसरे डिस्क ड्राइव का इजाद हुआ जो थोड़ा छोटा साढ़े तीन इंच का था। यह फ्लॉपी डिस्क जिस ड्राइव में लगता था उसे ​B ड्राइव का नाम दिया गया। इन्हीं दोनों फ्लॉपी डिस्क को रन करने के लिए कंप्यूटर में दो ड्राइव बनी होती है जिन्हें ड्राइव ‘A’ और ड्राइव ‘B’ कहा गया। ऐसे में आज भी जब आप कंप्‍यूटर खरीदते हैं तो इन दो ड्राइव के लिए उनमें स्थान निर्धारित होते हैं। जिन्हें आप खाली छोड़ देते हैं। 
आगे पढ़ें : हार्ड ड्राइव ने की नई शुरुआत 
हार्ड ड्राइव को कंप्यूटर में मि‍ली स्थाई जगह 
 
1980 के बाद कंप्यूटर में हार्ड ड्राइव चलन में आया। आसान स्टोरेज, इनबिल्ट सुविधा और डाटा नष्ट होने का कम खतरा होने की वजह से जल्द ही हार्डड्राइव को कंप्यूटर में स्थाई जगह मि‍ल गई। इसे कंप्यूटर में तीसरी श्रेणी के ड्राइव का दर्जा मिला। इसके बाद से ही हार्ड ड्राइव को कंप्यूटर में सी ड्राइव कहा जाने लगा। इसके बाद जब मैमोरी ज्‍यादा होने लगी तो हाई ड्राइव का पार्टीशन किया जाने लगा और लोग सी ड्राइव में ही डी, ई और एफ ड्राइव को निर्धारित करने लगे। इसके बाद से सी ड्राइव में कंप्यूटर का आॅपरेटिंग सिस्टम इंस्टॉल किया जाता है।
आगे पढ़ें : हार्ड ड्राइव ने की नई शुरुआत   
फ्लापी को कि‍या चलन से बाहर 
 
कंप्यूटर टेक्नोलॉजी बदलती गई और धीरे-धीरे फ्लॉपी डिस्क चलन बाहर हो गई। हार्ड ड्राइव ने फ्लॉपी डिस्क को चलन से बाहर कर दिया है। अब कंप्यूटर में सिर्फ सी ड्राइव बचा है। वहीं, आप अगर किसी यूएसबी (पैैन ड्राइव) ड्राइव का उपयोग करते हैं तो उसे आपका कंप्यूटर एफ और जी ड्राइव दिखाता है।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट