बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-Telecomस्‍मार्टफोन को लॉक कर बि‍टकॉइन में फि‍रौती मांग रहा वायरस, ये हैं बचने के तरीके

स्‍मार्टफोन को लॉक कर बि‍टकॉइन में फि‍रौती मांग रहा वायरस, ये हैं बचने के तरीके

डबल लॉकर एक नया एंड्राॅयड ransomware वायरस है, जो फोन को इन्फेक्ट करने के साथ सभी फाइलों को एन्क्रिप्ट भी कर देता है।

1 of
 
नई दि‍ल्‍ली. डबल लॉकर एक नया एंड्राॅयड ransomware वायरस है, जो फोन को इन्फेक्ट करने के साथ-साथ सभी फाइलों को एन्क्रिप्ट भी कर देता है। इसके बाद यह वायरस डि‍वाइस को लॉक कर देता है और अनलॉक करने के लिए फिरौती (Ransom) की मांग करता है। वहीं, वायरस की ओर से ये रकम बि‍टकॉइन (जो एक प्रकार की डिजिटल करंसी है) में पेमेंट करने के लिए कहा जाता है। इसकी वार्निंग के अनुसार आपको 24 घंटे के अन्दर पेमेंट करनी होती है। ऐसा नहीं करने पर आपका फोन हमेशा के लिए लॉक हो जाएगा। ऐसेे में इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे आप इस वायरस से कैसे बच सकते हैं। वहीं, अगर फोन में वायरस आ ही जाए तो कैसे आप बि‍ना रैनसम मनी दि‍ए वायरस को रिमूव कर सकते हैं। 

 
 
ऐसे फैल रहा है यह वायरस ? 
 
यह malware डिवाइस के अंदर malicious “adobe flash player” के द्वारा इंस्टॉल करवाया जा रहा है। आपने देखा होगा कि किसी अननोन साइट के खुलने पर उसके ऊपर आपको “update your flash player” बैनर आता है, यह वायरस इसी प्रकार के लिंक के जरिए इंस्टॉल किया जा रहा है। 
एक बार इंस्टॉल होने के बाद यह यूजर से Goolge Play Services के accessibility फीचर को एक्टिवेट करने के लिए कहता है और इस दौरान बैक बटन को डिसएबल कर देता है, ताकि आप पीछे न जा सकें। 
अगर आपने होम बटन द्वारा इसे हटा भी दिया तो यह पॉप अप हर कुछ समय पर शो होता रहता है और यूजर को accessibility फीचर को एक्टिवेट करने के लिए फोर्स करता रहता है। 
एक बार यूजर ने इस फीचर को एक्टिवेट कर दिया तो इस virus को device administrator के राइट्स मिल जाते हैं जिसके जरिये ये फोन पर कंट्रोल कर लेता है। 
 
 
आगे भी पढ़ें
 
Double locker इतना डेंजरस क्यों है? 
डबल लॉकर वायरस एक बार डिवाइस में इंस्टॉल हो जाए तो पूरी डिवाइस को इन्फेक्ट कर देता है और एक रैंडम कॉम्बिनेशन के जरिये यूजर पिन को बदल देता है, जिसकी वजह से न्यू पिन किसी भी तरीके से रिकवर नहीं हो पाती है। यह वायरस मोबाइल के प्राइमरी स्टोरेज में जितनी भी फाइल्स हैं, उन सभी  को एन्क्रिप्ट कर देता है और इन फाइल्स का एक्सटेंशन cryeye में बदल देता है।  
 
इंटेलिजेंट है यह वायरस 
double locker एक बहुत ही उम्दा किस्म का वायरस है और बहुत ही इंटेलिजेंट भी है। ये डिवाइस के अंदर बने रहने की पूरी कोशिश करता है, इसके लिए यह खुद को डिवाइस के होम ऐप की जगह पर रख देता है, यूजर अगर किसी तरह से इसे बाईपास भी कर दे तो होम बटन दबाने पर यह दुबारा एक्टिवेट हो जाता है और डिवाइस फिर से लॉक हो जाता है।
 
आगे भी पढ़ें
इस वायरस से कैसे बचें? 
 
कभी भी कोई भी ऐप डेवलपर की वेबसाइट से या फिर गूगल प्ले स्टोर से ही डाउनलोड करें। कोई भी ऐप किसी लिंक के जरिये डाउनलोड ना करें चाहे वो advertisement, email, sms या whatsapp मेसेज के द्वारा आया हो। 
 
अपने डाटा को सिक्योर करने के लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन जगह पर बैकअप बना कर रखें। आप किसी अच्छे एंटीवायरस का इस्‍तेमाल करें जो आपको किसी malicious वेबसाइट पर जाने से पहले अलर्ट करे और इन्फेक्टेड ऐप्स को इंस्टॉल होने से ब्‍लॉक करें।  
 
आगे भी पढ़ें
 
वायरस को कैसे रिमूव करें? 
आप अपने फोन को रिसेट कर सकते हैं और यह ऑप्‍शन हर एक एंड्रायड मोबाइल में होता है। इस फीचर को हार्ड रिसेट कहते हैं। हार्ड रिसेट करने पर आपके फोन की इंटरनल मेमोरी फॉर्मेट हो जाएगी और वायरस के साथ आपका सारा डाटा भी डिलीट हो जाएगा। ऐसे में कोशि‍श करें कि‍ रि‍सेट करने से पहले अपने काम की फाइल्‍स को पहले ही अलग कर लें। 
 
 
फोन में वायरस आ गया तो क्या करें? 
अगर किसी वजह से आपका फ़ोन इन्फेक्टेड हो गया तो, हम आपको यही सलाह देंगे की आप किसी भी सूरत में रैनसम मनी पेमेंट न करें, क्योंकि इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि आपके पेमेंट करने के बाद आपका फोन अनलॉक हो जाएगा।  
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट