बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-Telecom10,000 रु के फोन में मि‍ल जाते हैं ये फीचर, नहीं मि‍लते एक लाख के iPhone में भी

10,000 रु के फोन में मि‍ल जाते हैं ये फीचर, नहीं मि‍लते एक लाख के iPhone में भी

iOS और Android की डिबेट में दोनों के समर्थकों की अपनी-अपनी राय है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली. आज सभी जगह एंड्राॅयड स्‍मार्टफोन का बोलबाला है। इसके बावजूद iOS और Android की डिबेट में दोनों के समर्थकों की अपनी-अपनी राय है। दोनों ही फोन में बेहतर ऑपरेटिंग सिस्टम होने का दावा करते हैं। ऐप्पल के आईफोन और एंड्रॉयड स्मार्टफोन के कई ऐसे फीचर हैं, जो दोनों तरह के फोन में मि‍लेंगे। लेकि‍न कुछ फीचर ऐसे हैं जो या तो एंड्रॉयड स्‍मार्टफोन में आपको मिलेंगे या फिर आईओएस स्‍मार्टफोन में। ऐसे में आज हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे फीचर्स के बारे में जो एंड्रॉयड फोन में तो मि‍लेंगे लेकि‍न आईओएस में नहीं।  आगे पढ़ें : कैसे आईओएस से आगे हैं एंड्रॉयड स्‍मार्टफोन 

Record phone calls 
 
कुछ कस्टमाइज्ड यूआई से लैस एंड्रॉयड स्मार्टफोन में तो डायलपैड में ही कॉल रिकॉर्ड का विकल्प आने लगा है। वहीं, स्टॉक एंड्रॉयड यूजर को थर्ड पार्टी के सहारे यह सेवा मिल जाती है। आईफोन यूज़र की पहुंच से यह फीचर दूर है। एंड्रॉयड स्मार्टफोन के यूज़र की इस फीचर का आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसे में कई बार जरूरत के समय यह फीचर बहुत काम आता है। 
Split-screen
 
स्प्लिट स्क्रीन ऐसा फीचर है, जिसमें यूज़र को 2 ऐप एक साथ विभाजित स्क्रीन में इस्तेमाल करने का मौका मिल जाता है। यह फीचर एंड्रॉयड 7.0 नूगा और उससे ऊपर के वर्ज़न वाले ज्यादातर स्मार्टफोन में दस्तक दे चुका है। वहीं, ऐप्पल ने आईओएस11 के साथ भी यह फीचर सिर्फ आईपैड में दिया है। जबकि‍ आईफोन में अभी तक स्‍पलि‍ट स्‍क्रीन का कोई फीचर नहीं है।
Smart Text selection
 
एंड्रॉयड स्मार्टफोन स्मार्ट टेक्स्ट सिलेक्शन का भी फीचर होता है। जबकि‍‍ आईफोन में इसकी कमी खलती है। इस फीचर के ज़रिए डिटेल में दिए गए टेक्स्ट में से ई-मेल, पता, फोन नंबर अपने आप सिलेक्ट हो जाता है। ऐसे में यूज़र को आसानी हो जाती है। इस पर लंबा टैप कर आसानी से इसकाा इस्तेमाल किया जा सकता है। 
Choose default apps 
 
एंड्रॉयड स्‍मार्टफोन में यूज़र को डिफॉल्ट ऐप चुनने का मौका भी मि‍लता है। उदाहरण के लिए अगर आप चाहते हैं कि क्रोम के बजाय आपका लिंक ओपरा में खुले, तो आप इसे सि‍लेक्‍ट कर सेट कर सकते हैं। वहीं, अगली बार भी वह आपसे पूछेेगा कि‍ आपको लि‍ंक कौन से ब्राउजर से खोलना है। आप इसे परमानेंट सेट भी कर सकते हैं। वहीं, आईफोन में  आपको इस तरह की सुवि‍धा नहीं मि‍लती। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट