Home » Industry » IT-Telecomई-वेस्‍ट जनरेट करने वाले टॉप 5 देशों में भारत, सि‍र्फ 5% होता है रि‍साइकि‍ल

ई-वेस्‍ट जेेनरेट करने वाले टॉप 5 देशों में भारत, सि‍र्फ 5% होता है रि‍साइकल

भारत दुनि‍या के उन पांच देशों में शामि‍ल है जो सबसे ज्‍यादा ई-वेस्‍ट जनरेट करते हैं।

ई-वेस्‍ट जनरेट करने वाले टॉप 5 देशों में भारत, सि‍र्फ 5% होता है रि‍साइकि‍ल
नई दि‍ल्‍ली. भारत दुनि‍या के उन पांच देशों में शामि‍ल है जो सबसे ज्‍यादा ई-वेस्‍ट जेेनरेट करते हैं। एक रि‍पोर्ट के मुताबि‍क इन पांच देशों में भारत के अलावा चीन, अमेरि‍का, जापान और जर्मनी शामि‍ल हैं।
दुनि‍याभर में हर साल 20 फीसदी की दर से ई-वेस्‍ट बढ़ रहा है। 2016 में जहां दुनि‍या में 44.7 मि‍लि‍यन टन ई-वेस्‍ट जनरेट हो रहा था, जो साल 2021 तक 52.2 मि‍लि‍यन टन तक पहुंच जाएगा।  
 
 
किन राज्‍यों से नि‍कलता है सबसे ज्‍यादा ई-वेस्‍ट 
भारत की बात करें तो देश में हर साल लगभग 2 मि‍लि‍यन टन ई-वेस्‍ट जनरेट होता है। वहीं, महाराष्‍ट्र में सबसे ज्‍यादा 19.8 फीसदी ई-वेस्‍ट जनरेट होता है। इसकी तुलना में सि‍र्फ 47,810 टन ई-वेस्‍ट को रि‍साइकल कि‍या जाता है। यह रि‍पोर्ट एसोचैम और एनईसी ने 5 जून को होने वाले वि‍श्‍व पर्यावरण दि‍वस के एक दि‍न पहले जारी की है। 
 
 
इसके अलावा तमि‍लनाडुु की ई-वेस्‍ट में 13 फीसदी हि‍स्‍सेदारी है, जबकि‍ वह 52,427 टन ई-वेस्‍ट को हर साल रि‍साइकल करता है। इसके बाद उत्‍तर प्रदेश 10.1 फीसदी ई-वेस्‍ट जेेनरेट करने के साथ 86,130 टन हर साल रि‍साइकल करता है। इन राज्‍यों के अलावा पश्‍चि‍म बंगाल (9.8 फीसदी), दि‍ल्‍ली (9.5 फीसदी), कर्नाटक (8.9 फीसदी), गुजरात (8.8 फीसदी) और मध्‍य प्रदेश में (7.6 फीसदी) ई-वेस्‍ट जेेनरेट होता है। 
 
 
सि‍र्फ 20 फीसदी ई-वेस्‍ट होता है रि‍साइकल  
एक शोध के मुताबि‍क 2016 में कुल ई-वेस्‍ट का सि‍र्फ 20 फीसदी (8.9 मि‍लि‍यन टन) को ही रि‍साइकल कि‍या जाता है, जबकि‍ बाकी बचे हुए ई-वेस्‍ट का कोई रि‍कॉर्ड नहीं है। हालांकि भारत में इसकी स्थिति ज्यादा खराब है, क्‍योंकि‍ कुल ई-वेस्‍ट का सि‍र्फ 5 फीसदी ही रि‍साइकल हो पाता है। इसका सबसे बड़ा कारण है कि‍ खराब इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और कठोर कानून न होना हैै। 
 
 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट