Advertisement
Home » Industry » IT-TelecomGoogle to launch Political Advertising Transparency Report and Political Ads Library

Google खोलेगा नेताओं की पोल, बजाएगा उनके खर्चे का ढोल

2019 के लोकसभा चुनावों में वोटर्स को सही नेता चुनने में मदद करेगा गूगल

1 of

नई दिल्ली.

मई में होने वाले लोकसभी चुनावों में पारदर्शिता बनी रहे और वोटर्स सही नेता का चुनाव कर सकें इसके लिए गूगल एक बड़ी पहल करने जा रहा है। Google ने मंगलवार को कहा कि वह चुनाव से पहले भारत पर केंद्रित Political Advertising Transparency Report और Political Ads Library जारी करेगा। इस रिपोर्ट और लाइब्रेरी में लोगाें को पूरी जानकारी मिलेगी कि किस नेता ने गूगल के प्लेटफॉर्म पर कितने election ad खरीदे और उसके लिए कितना रुपया खर्च किया गया। यह रिपोर्ट और Ad लाइब्रेरी मार्च में लाइव होगी और इससे वोटर्स को चुनाव से संबंधित जरूरी जानकारी हासिल करने में मदद मिलेगी।

 

विज्ञापन चलाने के लिए चुनाव आयोग से लेनी होगी अनुमति

गूगल ने भारत के लिए इलेक्शन ऐड पॉलिसी को अपडेट किया है। इसके तहत देश में इलेक्शन संबंधी विज्ञापन चलाने वाले लोगों को Election Commission of India (ECI) या ECI से मान्यता प्राप्त किसी व्यक्ति से मिला हुआ ‘pre-certificate’ दिखाना होगा। हर नए विज्ञापन के लिए नया सर्टिफिकेट देना होगा। इतना ही नहीं अपने प्लेटफॉर्म पर ऐड चलाने से पहले गूगल विज्ञापन प्रदाताओं की आइडेेंटिटी भी वेरीफाई करेगा। वेरिफिकेशन की यह प्रक्रिया 14 फरवरी काे शुरू होगी।

 

ऑनलाइन चुनावी प्रचार को बनाएंगे पारदर्शी

Google India के पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर चेतन कृष्णास्वामी ने कहा, “2019 में 85 करोड़ से भी अधिक भारतीय आम चुनावों में अपना वोट डालेंगे। हम चुनावों के बारे में काफी सोच-विचार कर रहे हैं और यह भी देख रहे हैं कि कैसे हम भारत और दुनियाभर में गणतंत्र को और मजबूत कर सकते हैं। इसी क्रम में हम चुनावों की ऑनलाइन एडवर्टाइजिंग में पारदर्शिता लाने की कोशिश कर रहे हैं। साथ ही लोगों तक जरूरी जानकारी पहुंचाने का भी प्रयास कर रहे हैं, जिससे वे बेहतर तरीके से चुनावी प्रक्रिया को समझ सकें।"

 

 

10 हजार करोड़ का है डिजिटल ऐड कारोबार

Dentsu Aegis Network की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में डिजिटल ऐडवर्टाइजिंग बहुत तेजी से बढ़ रही है। फिलहाल डिजिटल ऐड पर 10,819 कराेड़ रुपए खर्च हो रहे हैं। यह पूरी एडवर्टाइजिंग इंडस्ट्री का 17 फीसदी है। यह 31.9 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रही है। 2019 में इसके 14,281 करोड़ रुपए होने का अनुमान है। इसमें से अधिकतर रकम इस साल के चुनावी विज्ञापनों से आने का अनुमान है।

 

 

आसानी से मिलेगी चुनाव से जुड़ी जानकारियां

अपने प्लेटफॉर्म पर चलने वाले विज्ञापनों की डिटेल्स के अलावा गूगल चुनाव आयोग की वेबसाइट पर मौजूद चुनावी जानकारी को सर्च करना आसान करने जा रहा है। Google अपने वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म YouTube पर, सर्च पेज पर और Adsense व Adwords नाम के प्राेग्राम के जरिए ऐड चलाता है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Don't Miss