बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-Telecom5G के लि‍ए 6000 मेगाहर्ट्ज के स्पेक्ट्रम तैयार, मंजूरी मि‍ली तो होगा सबसे बड़ा स्पेक्ट्रम आवंटन

5G के लि‍ए 6000 मेगाहर्ट्ज के स्पेक्ट्रम तैयार, मंजूरी मि‍ली तो होगा सबसे बड़ा स्पेक्ट्रम आवंटन

नेक्‍स्‍ट जेनरेशन फास्‍ट सर्वि‍स 5जी के लि‍ए लगभग 6000 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम उपलब्ध कराया जा सकता है।

5G panel identifies 6000 Mhz spectrum as available for next gen service
नई दि‍ल्‍ली. दूरसंचार मंत्रालय के 5जी पैनल की ओर से कहा गया है कि‍ नेक्‍स्‍ट जेनरेशन की फास्‍ट सर्वि‍स के लि‍ए बिना समय गंवाए लगभग 6000 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम उपलब्ध कराया जा सकता है। अगर पैनल की सिफारिश जो कि‍ सरकार को भेजी गई है उसे स्वीकार कर लि‍या जाता है तो भारत के सबसे बड़े स्पेक्ट्रम आवंटन हो सकता है। 
 
पैनल के एक विशेषज्ञ सदस्य अरोग्‍यस्वामी पॉलराज ने बताया कि 5जी सेवा की शुरुआत में मौजूदा स्तर की तुलना में भारत में मोबाइल डाटा की स्‍‍‍‍‍पीड को 50 प्रतिशत तक बढ़ाया जाएगा। 
 
अरोग्‍यस्वामी पॉलराज स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं। वहीं, एमआईएमओ (MIMO) वायरलैस कम्‍यूनि‍केशन के फाउंडर भी हैं। जो कि‍ वायरलैस टेक्‍नोलॉजी को और बेहतर करने का काम करती है। स्टैनफोर्ड की वेबसाइट के अनुसार एमआईएमओ (MIMO) अब सभी नए वायरलेस सिस्टम में शामिल है। पॉलराज ने आगे कहा कि‍ दूरसंचार विभाग (डीओटी) नई सेवा के लिए स्पेक्ट्रम उपलब्ध कराने के लिए मजबूत पहल कर रहा है। 
 
2016 में आयोजित देश की सबसे बड़ी नीलामी में लगभग 5.63 लाख करोड़ रुपये के 2,354.55 गाहर्ट्ज के स्पेक्ट्रम आवंटित कि‍‍‍ए गए थे। फि‍लहाल देश में मोबाइल फोन सिग्नल की बात करें तो यह 800 मेगाहर्ट्ज से लेकर 2600 मेगाहर्ट्ज तक फैले हुए हैं। 
 
वहीं, अब पैनल ने 11 बैंडाें में 5जी सेवा के लिए स्पेक्ट्रम देखा है जिसमें से 4 बैंड - प्रीमियम 700 मेगाहर्ट्ज बैंड, 3.5 गीगाहर्ट्ज (गीगा), 24 गीगाहर्ट्ज और 28 गीगा बैंड तुरंत सेवा के लिए उपलब्ध कराए जा सकते हैं।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट