Advertisement
Home » Industry » IT-TelecomFacebook has multi-year plans to overhaul its systems: Zuckerberg

Facebook के लिए जुकरबर्ग ने पेश किया प्लान, कहा-ओवरहॉलिंग में लगेंगे कई साल

Mark Zuckerberg ने Facebook के लिए बड़ा प्लान पेश किया है।

Facebook has multi-year plans to overhaul its systems: Zuckerberg

 

सैन फ्रांसिस्को. लंबे अरसे से दुनिया भर में सरकारों, प्राइवेसी के सपोर्टर्स और इन्वेस्टर्स की तरफ से आलोचनाओं का सामना कर रही फेसबुक (Facebook Inc) के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) ने कंपनी के लिए बड़ा प्लान पेश किया है। उन्होंने कहा कि भले ही कंपनी के लिए गलत जानकारियों और यूजर्स का पर्सनल डाटा सुरक्षित करने के लिहाज से बीता एक साल मुश्किल भरा रहा है, इसके बावजूद हम ‘हम अपनी प्रोग्रेस पर गर्व करते हैं।’

 

कुछ समस्याओं का हल नहीं निकाला जा सकता

मार्क जुकरबर्ग ने अपनी एक फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘इन दिक्कतों का हल निकालना स्पष्ट तौर पर एक साल से ज्यादा लंबा चैलेंज है। इलेक्शन में दखल या नफरत भरे भाषण (hate speech) जैसी कुछ समस्याओं का पूरी तरह हल कभी नहीं निकाला जा सकता।’

 

सिस्टम की ओवरहॉलिंग के लिए कई साल का प्लान

जुकरबर्ग ने कहा कि उन्होंने अपने सिस्टम की ओवरहॉलिंग के लिए कई साल का प्लान बनाया है और उसे लागू करन के लिए रोडमैप तैयार किया है। उन्होंने कहा कि हमें सुनिश्चित करना है कि लोगों का अपनी सूचनाओं पर कंट्रोल हो और उनकी सेवाओं से लोगों को फायदा हो। हालांकि इसका यह मतलब नहीं कि फेसबुक अपने प्लेटफॉर्म पर हर बैड फैक्टर या बैड कंटेंट का पता लगाएगी। गौरतलब है कि फेसबुक 2018 में कैम्ब्रिज एनालिटिका डाटा स्कैंडल में फंस गई थी।

 

फेसबुक पर उठे थे सवाल

फेसबुक से जुड़े स्कैंडल तेजी से सामने आने के बाद जानकारों ने सोशल मीडिया कंपनी पर सवाल उठाना शुरू कर दिया था। उनका कहना था कि क्या फेसबुक लॉन्ग टर्म में अपने 200 करोड़ यूजर्स को बचाए रखने में कामयाब हो पाएगी।

 
डेमोक्रेसी को प्रभावित करने के लगे आरोप

सबसे पहले अमेरिकी अरबपति इन्वेस्टर जॉर्ज सोरोस (George Soros) ने इंटरनेट मोनोपॉली को लेकर हमला किया। उन्होंने चेतावनी दी थी कि सोशल मीडिया कंपनियां डेमोक्रेसी पर नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती हैं।

 
बढ़ गई थी फेसबुक की स्क्रूटनी

2018 की शुरुआत में खुलासा हुआ था कि कैम्ब्रिज ऐनालिटिका (Cambridge Analytica) को अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प के लिए काम करते समय गलत तरीके से 8.70 करोड़ यूजर्स का डाटा मिल गया था। इसके बाद फेसबुक की स्क्रूटनी खासी बढ़ गई थी।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement