Home » Industry » IT-TelecomTop Huawei executive detained in Canada, angering China

Huawei की शीर्ष अधिकारी कनाडा में अरेस्ट, चीन हुआ नाराज, US से बढ़ सकती है तनातनी

कनाडा से अमेरिका को प्रत्यर्पण की कार्रवाई शुरू

Top Huawei executive detained in Canada, angering China


 

ओटावा. अचानक हुए एक घटनाक्रम में चीन की अग्रणी टेलिकॉम कंपनी हुआवेई (Huawei) के एक टॉप एग्जीक्यूटिव और कंपनी के फाउंडर की बेटी को कनाडा में अरेस्ट कर लिया गया है। इसके साथ ही उनके अमेरिका को प्रत्यर्पण की कार्रवाई भी शुरू हो गई है। कनाडा के अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। इस खबर पर चीन ने कड़ी नाराजगी जाहिर की है। माना जा रहा है कि इससे अमेरिका और चीन के बीच तनातनी और बढ़ सकती है।

 

ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों के उल्लंघन का संदिग्ध मामला

ईरान पर लगे प्रतिबंधों का संदिग्ध तौर पर उल्लंघन पर अमेरिकी अधिकारियों द्वारा हुआवेई के खिलाफ जांच शुरू किए जाने की खबरों के बाद हुआवेई की चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर मेंग वांझोऊ को गिरफ्तार किया गया है। हुआईवेई पहले से ही यूएस इंटेलिजेंस के अधिकारियों के रडार पर है और अमेरिका पहले से ही कंपनी को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए चुनौती के तौर पर देखता रहा है।

 

अमेरिका-चीन के बीच बढ़ सकती है तनातनी

एग्जीक्यूटिव की गिरफ्तारी से अमेरिका और चीन के बीच फिर से तनातनी बढ़ सकती है। हाल ही में दोनों देश ट्रेड वार तीन महीने के लिए शांत करने को राजी हुए थे। गिरफ्तारी की खबर का असर चीन, हॉन्गकॉन्ग सहित ज्यादातर एशियाई बाजारों में दिख रहा है। अमेरिका और चीन के बीच टकराव बढ़ने की आशंकाओं को देखते हुए भारत, चीन सहित अधिकांश एशियाई बाजार बड़ी गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं।

 

सुरक्षा हितों से खिलवाड़ चुपचाप नहीं देख सकतेः अमेरिका

ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों से संबंधित गिरफ्तारी पर अमेरिकी सीनेटर बेन सैसे ने एक बयान में कहा, ‘चीन हमारे राष्ट्रीय सुरक्षा हितों को कमजोर करने की दिशा में लगातार काम कर रहा है और अमेरिका व उसके सहयोगी देश इसे चुपचाप होता नहीं देख सकते।’ उन्होंने कहा, ‘कभी कभा चीन की आक्रामकता सरकार प्रायोजित होती है और कभी कभार वह ऐसा अपने तथाकथित प्राइवेट सेक्टर के माध्यम से करता रहता है।’

 

यह भी पढ़ें-जिस चीज के लिए भिड़े अमेरिका और चीन, भारत में मिलती है 40 रु किलो 

 

कनाडा ने दिया यह बयान

कनाडा की मिनिस्ट्री ऑफ जस्टिस ने एक बयान में कहा कि मेंग को वैंकोवर के वेस्टर्न सिटी से 1 दिसंबर को अरेस्ट किया गया था। मिनिस्ट्री ने कहा कि अमेरिका ने उनके प्रत्यर्पण की मांग की है और उनकी बेल पर शुक्रवार को सुनवाई होगी। मेंग हुआवेई के फाउंडर रेन झेंगफी की बेटी हैं, जो चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी में इंजीनियर रहे हैं।

 
चीन ने किया विरोध

उनकी गिरफ्तारी उसी दिन हुई, जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग अर्जेंटीना में ट्रेड वार पर बातचीत कर रहे थे। ओटावा में चीन की एम्बेसी ने एक बयान में कहा, ‘चीन इसका पुरजोर विरोध करता है और यह मानवाधिकारों का पूरी तरह उल्लंघन है।’ चीन ने कहा कि उसने अमेरिका और कनाडा से इसका कड़ा विरोध दर्ज कराया है। साथ ही मेंग वांझोऊ की व्यक्तिगत स्वतंत्रता तुरंत बहाल करने की मांग की।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट