बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-TelecomJio का झटका, रातोंरात बदली इन 10 लाख मोबाइल कस्टमर्स की कंपनी

Jio का झटका, रातोंरात बदली इन 10 लाख मोबाइल कस्टमर्स की कंपनी

क्या आप इस बात पर यकीन करेंगे कि रातोंरात लाखों मोबाइल कस्टमर्स की कंपनी बदल जाए, शायद नहीं। लेकिन ऐसा संभव हुआ है।

1 of

चेन्नई. क्या आप इस बात पर यकीन करेंगे कि रातोंरात लाखों मोबाइल कस्टमर्स की कंपनी बदल जाए, शायद नहीं। लेकिन ऐसा संभव हुआ है। दरअसल जियो के आने के बाद से टेलिकॉम सेक्टर में बड़ी उथलपुथल देखने को मिल रही है। इसके चलते ही देश के 10 लाख मोबाइल सब्सक्राइबर्स को बड़े बदलाव से गुजरना पड़ा है। ये मोबाइल सब्सक्राइबर्स एयरसेल के हैं, जिसने बैंकरप्सी के लिए आवेदन किया है। देश की दिग्गज टेलिकॉम सर्विस प्रोवाइडर यह जानकारी देते हुए कहा कि एयरसेल के 10 लाख कस्टमर्स ने उसकी सर्विसेस अपना ली हैं।

 

जियो ने दिया झटका
मुकेश अंबानी की Jio के चलते टेलीकॉम कंपनियों की बैलेंसशीट पर काफी दबाव बढ़ा है। इसके चलते कंपनियां अपने कर्ज को चुकाने में परेशानी महसूस कर रहीं थी। इस वजह से भी इंडस्ट्री में ऐसे घटनाक्रम देखने को मिल रहे हैं।

 

 

यह भी पढ़ें-टाटा का उल्टा पड़ा दांव, मिनटों में डूब गए 35 हजार करोड़ रुपए

 

6 सर्किल्स में बंद हुईं एयरसेल की सर्विसेस

टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर एयरसेल की सर्विसेस 30 जनवरी से 6 सर्किल्स में बंद हो गईं। इसे देखते हुए टेलिकॉम रेग्युलेटर ट्राई ने कंपनी को अपने ग्राहकों से अन्य कंपनियों में नंबर पोर्ट कराने में मदद करने का भी निर्देश दिया है।

दरअसल कंपनी ने गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश (पश्चिम) के अपने लाइसेंस को लौटा दिया है। उसकी सेवा लाइसेंस लौटाने की तिथि यानी एक दिसंबर 2017 के बाद 60 दिन में बंद होनी थी।

 

यह भी पढ़ें-आटा बेचकर खड़ा किया 4 हजार करोड़ का ब्रांड, अब रामदेव को देगा टक्कर


वोडाफोन से जुड़े 10 लाख कस्टमर्स

वोडाफोन ने एक बयान में कहा कि अभी तक एयरसेल के 10 लाख कस्टमर्स ने वोडाफोन में पोर्ट कर लिया है, यानी उसकी सेवाएं अपना ली हैं। कंपनी ने कहा, ‘कस्टमर्स की हर संभव मदद करने के लिए वोडाफोन अपने सभी टच प्वाइंट्स को हफ्ते में सातों दिन खोल रही है।’

 

 

आगे भी पढ़ें

 

 

एयरसेल ने बैंकरप्सी के लिए किया था आवेदन

हाल में एयरसेल ने बैंकरप्सी के लिए आवेदन किया था। कंपनी ने कहा था कि इंडस्ट्री में बढ़ते कॉम्पिटीशन और वित्तीय तंगी के चलते उसे यह कदम उठाना पड़ा है। एयरसेल ने कहा था, ‘एक नई कंपनी के आने के बाद कॉम्पिटीशन बढ़ने से लीगल और रेग्युलेटरी चुनौतियां पैदा हुई हैं। कर्ज और घाटा तेजी से बढ़ा है।’

 

40 लाख कस्टमर्स पर पड़ा असर

सामान्य तौर किसी ऑपरेटर को सब्सक्राइब करने के बाद 90 दिन के भीतर पोर्ट कराने की अनुमति नहीं होती है. एयरसेल के स्थिति में ट्राई ने उन ग्राहकों को 10 मार्च, 2018 तक पोर्ट करने की अनुमित दी थी, जो एयरसेल से 90 दिनों के भीतर ही जुड़े हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट