Home » Industry » IT-Telecomsatellite phones tariffs in india around Rs 25 to 30 per minute

BSNL इस साल बेचेगा 10 हजार सैटेलाइट फोन, देश के किसी भी कोने से करें बात, 25 रु प्रति मिनट है कॉल रेट

टाटा कम्युनिकेशन का satellite phones का लाइसेंस खत्‍म होने के बाद BSNL यह देश में यह सेवा दे रही है।

1 of

 
 
नई दिल्‍ली. भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने चालू वित्‍तीय वर्ष में 10 हजार satellite phones बेचने का लक्ष्‍य तय किया है। अभी तक वह 4 हजार कनेक्‍शन दे चुका है। इन सैटेलाइट फोन से देश के किसी भी हिस्‍से से कहीं भी काल की जा सकती है। सैटेलाइट फोन को सिग्‍लन हजारों किलोमीटर दूर आसमान में स्थित सैटेलाइट से मिलता है। इसलिए इनका इस्‍तेमाल देश कि किसी भी हिस्‍से सहित विमान और समुद्र के बीच में भी किया जा सकता है।
 
 
पिछले साल लॉन्‍च हुई सर्विस
देश में satellite phones सेवा की शुरुआत पिछले साल हुई है। देश में इस सर्विस के लिए BSNL को लाइसेंस मिला है। BSNL के चेयरमैन अनुपम श्रीवास्‍तव के अनुसार सैटेलाइट फोन की डिमांड काफी है और उनको उम्‍मीद है कि वह चालू वित्‍तीय वर्ष में 10 हजार सैटेलाइट कनेक्‍शन बेचने में सफल रहेंगे। उनके अनुसार अभी कंपनी 4 हजार सैटेलाइट फोन हैंडसेट बेच चुकी है, जिसमें शुरुआत में डिमांड डिफेंस, सेना, बीएसएफ सहित डिजास्‍टर मैनेजमेंट सर्विस की तरफ से आई है। हालांकि अब कार्पोरेट्स की तरफ से भी डिमांड आ रही है।
 
 
मोबाइल फोन से अलग है यह सर्विस
मोबाइल फोन सेवा के लिए जगह जगह पर टॉवर लगाए जाते हैं, जिससे हैंडसेट को सिग्‍नल मिलते हैं। जबकि सैटेलाइट फोन में सिग्‍लन आसमान में स्थि‍त सैटेलाइट से मिलते हैं। इसलिए इस फोन के सिग्‍लन कभी भी गायब नहीं होते हैं। इसका इस्‍तेमाल देश के किभी भी हिस्‍से में किया जा सकता है। इसके अलावा इनका इस्‍तेमाल हवाई यात्रा के अलावा शिप में भी संभव होता है।
 
 
अभी महंगी है सर्विस
श्रीवास्‍तव के अनुसार हालांकि अभी इस सेवा में इस्‍तेमाल होने वाले हैंडसेट महंगे हैं साथ ही यह सर्विस भी महंगी है। औसतन 25 से 30 रुपए प्रति मिनट इसकी कॉल पड़ती है। लेकिन इसके बाद भी इनकी भारी मांग देखी जा रही है। उनके अनुसार कार्पोरेट्स लगातार कनेक्‍टेड रहने के लिए इसका इस्‍तेमाल करना चाह रहे हैं। इसके अलावा राज्‍य पुलिस से लेकर रेलवे और डिजास्‍टर मैनेजमेंट सेवा के लोगों की तरफ से भी इनकी मांग आ रही है।
 
 
आगे पढ़ें : देश में कितना बड़ा है बाजार
 
 
 
 
100 करोड़ रुपए का किया कारोबर
BSNL ने अभी तक इस सेवा से 100 करोड़ रुपए का रेवेन्‍यु जेनरेट किया है। इस सेवा को पिछले साल मई में लॉन्‍च किया गया था। श्रीवास्‍तव के अनुसार इस कारोबार में काफी संभावना है और कंपनी इस पर काम कर रही है। पहले सरकारी विभागों पर फोकस किया गया था, लेकिन अब गैर सरकारी कंपनियों को भी फोकस किया जा रहा है।
 
कई सेक्‍टर से आ रही है मांग
उनके अनुसार नेवी, होटल्‍स, फिशिंग इंडस्‍ट्री सहित कई सेक्‍टर से भारी मांग आ रही है। इसके अलावा केरल और तमिलनाडु की राज्‍य सरकारों से इस सबंध में बात हुई है। यह राज्‍य सरकारें अपने फिशिंग इंडस्‍ट्री के लिए सैटेलाइट फोन चाहती हैं।
 
आगे पढ़ें : टाटा के बाद मिला BSNL को लाइसेंस
 
 
टाटा कम्युनिकेशन का लाइसेंस खत्म
सैटेलाइट फोन की सर्विस पहले टाटा कम्युनिकेशन मुहैया कराती थी, लेकिन इसका लाइसेंस 30 जून 2017 तक ही था। इसके बाद BSNL ने सैटेलाइट कम्युनिकेशन की जानी-मानी कंपनी INMARSAT से समझौता करके सैटेलाइट मोबाइल सेवा देश में शुरू की है।
 
रिकॉर्ड हो सकेगी बातचीत
इस सेवा में जियो फेंसिंग भी की गई है। इसका मतलब यह हुआ कि BSNL के द्वारा दिया गया सैटेलाइट फोन देश के बाहर काम नहीं करेगा। इसके अलावा इन मोबाइल पर हो रही बातचीत को BSNL रिकॉर्ड कर सकेगी और जरूरत पड़ने पर सुरक्षा एजेंसियों को इसका डाटा उपलब्ध कराया जा सकेगा।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट