Advertisement
Home » इंडस्ट्री » आईटी/टेलिकॉमfarming through 5G technology soon in india

खेत में पानी देना है या कीटनाशक, 5G सेवा से किसानों को चल जाएगा पता

पेबल्स सेंसर टेक्नोलाजी की मदद से होगा संभव और वर्ष 2019 की दूसरी छमाही में 5जी सेवा शुरू हो सकती है।

farming through 5G technology soon in india

 

 

राजीव कुमार, नई दिल्ली

 

5जी सेवा की शुरुआत के बाद किसानों को मोबाइल के जरिए पता लग जाएगा कि खेत में कब पानी देना है और कब कीटनाशक दवाइयां छिड़कनी है। पेबल्स सेंसर टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से यह संभव हो पाएगा। लेकिन 5जी की मदद से ही पेबल्स सेंसर टेक्नोलॉजी को लागू किया जा सकता है। पेबल्स टेक्नोलॉजी को चलाने के लिए इंटरनेट की स्पीड 5जी की तरह होनी चाहिए। इस टेक्नोलॉजी को इंटेल जैसी कंपनियां विकसित कर रही हैं। इस साल अक्टूबर में आयोजित होने वाले इंडिया मोबाइल कांग्रेस में इस प्रकार की टेक्नोलॉजी का प्रदर्शन किया जाएगा।

 

 

सेंसर युक्त टुकड़ों को डालेंगे खेत में

सेलुलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (COAI) के महानिदेशक राजन मैथ्यू ने मनी भास्कर को बताया कि पेबल्स टेक्नोलॉजी के तहत सेंसर युक्त छोटे-छोटे टुकड़ों को खेत में डाल दिया जाएगा। ये टुकड़े किसानों को उनके मोबाइल फोन के जरिए रियल टाइम में अलर्ट भेजते रहेंगे कि उन्हें खेत में कब पानी देना है। वैसे ही, कीटनाशक की जरूरत महसूस होने पर किसानों को कीटनाशक डालने का अलर्ट आ जाएगा।

Advertisement

 

 

नदी के प्रदूषण स्तर की भी मिलेगी रियल टाइम जानकारी

मैथ्यू ने बताया कि नदियों में इस प्रकार के छोटे टुकड़ों को डालने पर रियल टाइम में यह पता चल जाएगा कि नदी के पानी में कितना प्रदूषण है और इसे दूर करने के लिए क्या करने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि पेबल्स टेक्नोलॉजी के लिए 5जी जैसी स्पीड की जरूरत होगी। इसलिए भारत में पेबल्स सेंसर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल 5जी आने के बाद ही संभव हो पाएगा। उन्होंने बताया कि टेलीकॉम कंपनियों की तैयारियों को देखते हुए 2019 के आखिर तक या फिर 2020 तक ही 5जी सेवा शुरू हो पाएगी।

Advertisement

 

 

5जी सेवा के लिए फाइबर का होना जरूरी

मैथ्यू ने बताया कि 5जी सेवा के लिए फाइबर की उपलब्धता जरूरी है। इसलिए आने वाले समय में भी 5जी सेवा स्मार्ट सिटी जैसी सीमित जगहों में उपलब्ध होगी। उन्होंने बताया कि भारत में 4जी सेवा का ही बोलबाला रहेगा। 5जी के लिए हैंडसेट में भी बदलाव करने की जरूरत पड़ेगी। डेंस एरिया के लिए (मतलब जहां कम एऱिया में इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले काफी अधिक संख्या में लोग होंगे), 5जी सेवा काफी सफल साबित होगी।

 
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement