Advertisement
Home » इंडस्ट्री » आईटी/टेलिकॉमFacebook shares dive on weak outlook, weighing on Nasdaq

मिनटों में Facebook के डूब गए 8.50 लाख करोड़ रु, कमजोर आउटलुक से 20% टूटा शेयर

कमजोर ग्रोथ के अनुमान से गुरुवार को Facebook का स्टॉक 20 फीसदी टूट गया।

Facebook shares dive on weak outlook, weighing on Nasdaq

न्यूयॉर्क. कमजोर ग्रोथ के अनुमान से गुरुवार को Facebook का स्टॉक 20 फीसदी टूट गया। इससे मार्केट खुलने के साथ कुछ मिनटों के भीतर ही कंपनी की मार्केट वैल्यू लगभग 126 अरब डॉलर यानी 8.50 लाख करोड़ रुपए कम हो गई। कंपनी के स्टॉक टूटने की वजह दूसरे क्वार्टर के नतीजे खराब आना रही है। 

 

 

दूसरे क्वार्टर में अनुमान से कम रही सेल्स और यूजर ग्रोथ

बुधवार को फेसबुक के दूसरे क्‍वार्टर की सेल्‍स और यूजर ग्रोथ एनालि‍स्‍ट के अनुमानों से कम रही और कंपनी ने बुधवार को कहा था कि इस साल इन आंकडों में कि‍सी प्रकार का सुधार नहीं होगा। फेसबुक के चीफ फाइनेंशि‍यल ऑफि‍सर डेवि‍ड वेहनर ने कहा कि‍ रेवेन्‍यू ग्रोथ रेट तीसरे और चौथे तिमाही में गि‍रेगी। इस बयान के बाद कंपनी के शेयर्स 20 फीसदी तक गि‍र गए।

फेसबुक को कई साल से उनके कंटेट पॉलि‍सीज, प्राइवेट डाटा को बचाने में वि‍फल होना और एडवर्टाइजर्स के लि‍ए अपने नि‍यमों को बदलने की वजह से आलोचना का सामना करना पड़ रहा था। अब तब यह परेशानि‍यां बि‍जनेस की सफलता पर असर नहीं डाल रही थीं।

Advertisement

 

2015 में फेसबुक का रेवेन्‍यू रहा था अनुमान से कम

साल 2015 के पहले क्‍वार्टर में कंपनी ने अपने रेवेन्‍यू टारगेट को हासि‍ल नहीं कि‍या था। लेकिन डाटा प्राइवेसी मामले में कड़ी स्‍क्रूटनी का सामना करना पड़ा और मार्क जुकरबर्ग को अमेरि‍की कांग्रेस के सामने कई घंटों तक गवाही देनी पड़ी।  

 

कई देशों में हुए सख्‍त कानूनों से नुकसान

मौजूदा क्‍वार्टर में यूरोप की ओर से नए सख्‍त डाटा कानूनों को लागू कि‍या गया जि‍सके बाद फेसबुक पर डेली वि‍जि‍टर्स कम हो गए। कंपनी को म्‍यांमार और श्रीलंका जैसे देशों में लोगों की कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा। इन देशों में गलत जानकारी से हिंसा भी हुई। इसके अलावा,  2016 के अमेरिकी राष्‍ट्रपति‍ चुनाव के दौरान रूसी धोखेबाजी में कंपनी को जांच का सामना भी करना पड़ा।

Advertisement

 

कम हो रहे हैं यूजर्स और रेवेन्‍यू

इन सब परेशानि‍यों का असर फेसबुक के 2.23 अरब एक्‍टि‍व मंथली यूजर्स पर पड़ा, जोकि‍ हमेशा नहीं बढ़ सकते हैं। एक एनालि‍स्‍ट ने कहा कि‍ कोर फेसबुक प्‍लेटफॉर्म गि‍र रहा है। ब्‍लूमबर्ग के मुताबि‍क, जून में फेसबुक ने कहा कि‍ उनके पास 1.47 अरब डेली एक्‍टि‍व यूजर्स हैं जबकि‍ अनुमान 1.48 अरब का था। अमेरि‍का और कनाड़ा में यूजर्स की संख्‍या कम हुई है, यूरोप में 1 फीसदी यूजर्स घट गए हैं। टोटल औसत डेली यूजर्स सालाना आधार पर 11 फीसदी ही बढ़े हैं।

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Don't Miss