Home » Industry » IT-Telecomdue to jio 43 cr mobile to vodafone-idea subscribers company name will change overnight

Jio के चलते 43 करोड़ मोबाइल ग्राहकों की बदलने वाली है कंपनी, नया नाम होगा Vodafone Idea

Jio की लॉन्चिंग के लगभग 22 महीनों के बाद भारत के टेलिकॉम मार्केट में अब तक का सबसे बड़ा डेवलपमेंट होने जा रहा है।

1 of

 

नई दिल्ली. मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली Jio की लॉन्चिंग के लगभग 22 महीनों के बाद भारत के टेलिकॉम मार्केट में अब तक का सबसे बड़ा डेवलपमेंट होने जा रहा है। दरअसल सरकार ने Idea और Vodafone के मर्जर को फाइनल मंजूरी दे दी है, जिसके बाद बनने वाली नई कंपनी देश की सबसे बड़ी मोबाइल ऑपरेटर होगी। इससे देश के 43 करोड़ मोबाइल ग्राहकों की कंपनी का नाम बदलने का रास्ता साफ हो गया है।

 

कैसे बदलेगा कंपनी का नाम

मर्जर के बाद बनने वाली नई कंपनी का नाम ‘वोडाफोन आइडिया लिमिटेड’ करने के प्रस्ताव पर आइडिया का बोर्ड पहले ही मुहर लगा चुका है। इस प्रकार मर्जर के बाद आइडिया और वोडाफोन के सब्सक्राइबर्स के लिए नई कंपनी का नाम वोडाफोन आइडिया लिमिटेड हो जाएगा।

हालांकि इसके लिए रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (आरओसी) से मंजूरी लेनी होगी, जिसके बाद कंपनी का नाम बदल जाएगा।

 

 

Jio के चलते हुआ मर्जर

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, रिलायंस जियो के मार्केट में आने के बाद से प्राइस वार शुरू होने के बाद से आइडिया का खर्च बढ़ा और कर्ज लगातार बढ़ता गया। वोडाफोन इंडिया के साथ भी यही हुआ। हालांकि भारती एयरटेल तो किसी तरह सर्वाइव करने में कामयाब रही।

फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि दोनों कंपनियों के मर्जर से नई कंपनी के पास एक बड़ा बेस हो जाएगा। अपने बेस को बनाए रखने के लिए डाटा वार शुरू करने में सक्षम हो सकती है। ऐसा करके वह मार्केट में अपनी हिस्सेदारी मजबूत रखना चाहेगी।

 

 

सरकार ने दी फाइनल मंजूरी

सरकार ने गुरुवार को Vodafone और Idea Cellular के मर्जर को मंजूरी दे दी है। इस घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले DoT के एक अधिकारी ने कहा कि मर्जर के लिए फाइनल मंजूरी दे दी गई और अब एंटिटीज मंजूरी से जुड़ी निर्धारित फाइलिंग के लिए रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (RoC) संपर्क करेंगी। इससे मर्जर से जुड़ी अंतिम औपचारिकता माना जा रहा है। DoT ने मर्जर के लिए 9 जुलाई को सशर्त मंजूरी दी थी और दोनों कंपनियों को आधिकारिक तौर पर मर्जर के लिए पूर्व में की गईं डिमांड की भरपाई करने के लिए कहा था।

 

आगे भी पढ़ें

 

 

यह भी पढ़ें-सरकार के आगे झुके बिड़ला, जमा कराने पड़े 7200 करोड़ 

 

 

Vodafone Idea के होंगे 43 करोड़ सब्सक्राइबर्स

मर्जर के साथ ही भारती एयरटेल से भारत की सबसे बड़ी टेलिकॉम सर्विस प्रोवाइडर का तमगा छिन जाएगा। नई कंपनी के मोबाइल सब्सक्राइबर्स की संख्या लगभग 43 करोड़ होगी। एक अनुमान के मुताबिक, मर्जर के बाद बनने वाली नई कंपनी की मार्केट वैल्यू लगभग 23 अरब डॉलर (1.5 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा) होगी। हालांकि दोनों कंपनियों पर लगभग 1.15 लाख करोड़ रुपए का कर्ज होगा।

नई एंटिटी में वोडाफोन के पास 45.1 फीसदी, जबकि कुमार मंगल बिड़ला की अगुआई वाले आदित्य बिड़ला ग्रुप के पास 26 फीसदी और आइडिया शेयरहोल्डर्स के पास 28.9 फीसदी हिस्सेदारी होगी।  

 

 

आगे भी पढ़ें  

 

आइडिया और वोडाफोन को मिलेगी राहत

मर्जर से कर्ज के बोझ से दबी आइडिया और वोडाफोन को गलाकाट प्रतिस्पर्धा से गुजर रहे मार्केट में खासी राहत मिलेगी। इस मार्केट में कंपनियों को मार्जिन में कमी की समस्या से जूझना पड़ रहा है।

नई कंपनी के पास देश के सभी टेलिकॉम सर्किल्स में 4जी स्पेक्ट्रम होगा। आइडिया द्वारा दिए गए प्रिजेंटेशन के मुताबिक, दोनों कंपनियों के संयुक्त 4जी स्पेक्ट्रम से 12 भारतीय मार्केट्स में 450 मेगाबाइट प्रति सेकंड ब्रॉडबैंड स्पीड की पेशकश करने की क्षमता होगी।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट