बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-Telecomकॉल ड्रॉप पर टेलीकॉम कंपनियों को नोटिस, ट्राई ने 1 हफ्ते में मांगा जवाब

कॉल ड्रॉप पर टेलीकॉम कंपनियों को नोटिस, ट्राई ने 1 हफ्ते में मांगा जवाब

ट्राई ने नए कॉल ड्रॉप सर्विस क्‍वालिटी नॉर्म्‍स पूरा न कर पाने के लिए कुछ टेलीकॉम कंपनियों को नोटिस जारी किया है।

1 of

नई दिल्‍ली. ट्राई ने कॉल ड्रॉप को लेकर नए सर्विस क्‍वालिटी नॉर्म्‍स पूरा न कर पाने के लिए कुछ टेलीकॉम कंपनियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। ट्राई ने इस नोटिस का जवाब एक हफ्ते के अंदर मांगा है। नए कॉल ड्रॉप नॉर्म्‍स को 1 अक्‍टूबर, 2017 से प्रभावी किया गया है। 

 

कंपनियों का नाम न उजागर करते हुए ट्राई के चेयरमैन आरएस शर्मा ने बताया कि रेगुलेटर इन कंपनियों के खिलाफ नेम एंड शेम वाली पॉलिसी नहीं अपनाना चाहता है। उन्‍होंने कहा कि कारण बताओ नोटिस कुछ विशेष सर्किलों में नए सर्विस क्‍वालिटी क्राइटेरिया को पूरा न कर पाने के लिए भेजा गया है। शर्मा ने नोटिस की संख्‍या का भी खुलासा नहीं किया। 

 

दिसंबर तिमाही की परफॉर्मेंस है आधार 

नए फॉर्मूले के तहत कंपनियों की पहली समीक्षा का आधार दिसंबर तिमाही है। कंपनियों की अक्‍टूबर से दिसंबर 2017 की परफॉर्मेंस को देखने के बाद नोटिस भेजा गया है। नए नियमों के अंतर्गत कॉल ड्रॉप को लेकर टेलीकॉम कंपनी पर 10 लाख रुपए तक का जुर्माना लग सकता है। कॉल ड्रॉप को अब टेलीकॉम सर्किल लेवल के बजाय मोबाइल टावर लेवल के आधार पर मापा जाएगा। 

 

जवाब आने के बाद तय होगी आगे की कार्रवाई

शर्मा ने कहा कि नोटिस पाने वाली कंपनियों की ओर से प्रतिक्रिया आ जाने के बाद ट्राई 1 माह के अंदर की जाने वाली आगे की कार्रवाई का फैसला करेगा। आगे बताया कि हमारी एक प्रोसेस है, जिसके तहत कंपनियों को नोटिस का जवाब देने के लिए वक्‍त दिया जाता है। इस मामले में यह डेडलाइन 1 हफ्ते की है।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट