Advertisement
Home » इंडस्ट्री » आईटी/टेलिकॉमPay 153 rs per month for 100 channels from 1 February

अब सिर्फ इतने रुपए में देख सकेंगे 100 चैनल्स, ट्राई के नए नियमों से सस्ता हुआ टीवी देखना

एक चैनल के लिए अधिकतम 19 रुपए चार्ज किए जा सकते हैं

Pay 153 rs per month for 100 channels from 1 February

नई दिल्ली.

टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) के नए नियमों के मुताबिक आपको सौ चैनल्स देखने के लिए सिर्फ 153 रुपए चुकाने होंगे। इसमें जीएसटी शामिल है। ग्राहकों को 31 जनवरी से पहले अपनी पसंद के इन सौ चैनल्स का चुनाव करना होगा। नए नियम के तहत चैनल्स की कीमतें 1 फरवरी से लागू हो जाएंगी।

 

153 रुपए में मिलेंगे ये चैनल्स

100 फ्री टू एयर चैनल्स के स्लॉट के लिए नेटवर्क कैपेसिटी फीस के तौर पर आपको 153 रुपए देने होंगे। इसमें अगर आप केवल फ्री टु एयर चैनल्स चुनते हैं तो आपको अतिरिक्त कोई चार्ज नहीं देना है। लेकिन पेड चैनल्स चुनने पर आपको हर चैनल या बुके के लिए निर्धारित शुल्क देना होगा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बेस पैक में HD चैनल्स नहीं होंगे। अगर आप HD चैनल चुनते हैं तो तो बेस पैक में एक एचडी चैनल दो सामान्य चैनल्स के बराबर माना जाएगा।

Advertisement

 

अधिक चैनल्स के लिए देना होगा अधिक शुल्क

जानकारी के मुताबिक अगर आप 100 से ज्यादा चैनल्स देखते हैं तो आपको अगले 25 चैनल्स के लिए 20 रुपए अतिरिक्त देने होंगे। एक चैनल के लिए न्यूनतम 0 से अधिकतम 19 रुपये खर्च करने होंगे। TRAI ने सभी केबल और DTH ऑपरेटर्स को 1 फरवरी से नए सिस्टम को लागू करने का आदेश दिया है, जिसके तहत ग्राहकों को केवल उन्हीं चैनल्स के लिए चार्ज देना है, जो वे देखेंगे।

 

इन नंबरों पर करें इंक्वायरी

ट्राई ने सभी ग्राहकों के लिए फोन नंबर और ई-मेल आईडी जारी किया है, जिसपर ग्राहक अपने सवाल पूझ सकते हैं या अगर उनके सर्विस प्रोवाइडर उन्हें सेवा देने में आनाकानी कर रहे हैं तो उनकी शिकायत भी दर्ज करा सकते हैं। आप ब्रॉडकास्टिंग और केबल सर्विसेज डिविजन के इन अधिकारियों से संपर्क कर सकते हैं।

Advertisement

 

अनिल कुमार भारद्वाज

फोन नंबर- 011-23237922

ईमेल- advbcs-2@trai.gov.in

 

अरविंद कुमार

फोन नंबर- 011-23220209

ईमेल- arvind@gov.in

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement