बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-Telecomआरकॉम की टावर बिक्री पर 13 मार्च तक रोक, NCLT लेगा अंतिम फैसला

आरकॉम की टावर बिक्री पर 13 मार्च तक रोक, NCLT लेगा अंतिम फैसला

NCLT ने आज रिलायंस कम्‍युनिकेशन की सब्‍सिडरी रिलायंस इंफ्राटेल लिमिटेड के टावर एसेट्स की बिक्री पर रोक लगा दी है।

NCLT stays RComm tower arm asset sale to RJio

नई दिल्‍ली। नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) ने आज रिलायंस कम्‍युनिकेशन की सब्‍सिडरी रिलायंस इंफ्राटेल लिमिटेड के टावर एसेट्स की बिक्री पर रोक लगा दी है। यह रोक मंगलवार तक के लिए लगी है। रिलायंस इंफ्राटेल लिमिटेड के टावर एसेट्स की बिक्री रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड को होनी है। ट्रिब्‍यूनल HSBC डेजी इन्वेस्टमेंट्स (मॉरीशस) लिमिटेड द्वारा दायर की गई याचिका पर सुनवाई कर रहा था। ट्रिब्‍यूनल सोमवार को मामले पर अंतिम आदेश पारित करेगा।

 

HSBC  से कंपनी ने मांगी सहमति 
HSBC डेज़ी ने ट्रिब्यूनल को बताया कि कंपनी ने न तो बिक्री का ब्योरा दिया है और न ही बिक्री के लिए उसकी सहमति मांगी है। HSBC डेज़ी ने 2007 में 11 अरब रुपए के निवेश के जरिए कंपनी में 5% हिस्सेदारी अर्जित की थी। बता दें कि आरकॉम, रिलायंस कम्युनिकेशंस इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के साथ रिलायंस इंफ्राटेल में 95% हिस्सेदारी रखती हैं।

 

 

दिसंबर में हुई थी डील 


बता दें कि मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो इन्फोकॉम ने दिसंबर में रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) के स्पेक्ट्रम, मोबाइल टावर और ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क सहित अन्य मोबाइल बिजनेस एसेट्स खरीदने का सौदा किया था। इस सौदे को मुकेश अंबानी के छोटे भाई अनिल अंबानी की कंपनी आरकॉम के लिए बड़ी राहत के रूप में देखा जा गया। आरकॉम लगभग 45 हजार करोड़ रुपए के भारी बोझ से दबा है और लंबे समय से इसे चुकाने के प्रयासों में लगा हुआ है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट