Advertisement
Home » Industry » IT-TelecomData Protection in India

मुकेश अंबानी ने कहा, देश में ही जमा हो भारतीयों की यह चीज, नहीं तो लड़नी होगी आजादी की लड़ाई

डाटा बचाने के लिए गांधी की तरह आजादी के आंदोलन के पक्ष में

Data Protection in India

नई दिल्ली. रिलायंस इंडस्ट्री के चेयरमैन एंड मैनेजिंग डायरेक्टर मुकेश अंबानी शुक्रवार को वाइब्रेंट गुजरात समिट में शामिल हुए, जहां उन्होंने डाटा संरक्षण के मालमे में बड़ा बयान दिया। उन्होंने भारत सरकार से इस मामले में कदम उठाने की मांग की। अंबानी के मुताबिक इस नई वैश्विक दुनिया में डाटा एक तरह का संपत्ति है, जिसे देश में ही सहेजकर रखना होगा। उन्होंने कहा कि भारतीयों के डाटा पर विदेश नियंत्रण से आजादी मिलनी चाहिए। 

 

डाटा पर विदेशों कंट्रोल से मुक्ति पर दिया जोर 

अंबानी ने कहा कि डाटा संरक्षण के लिए महात्मा गांधी की तरह एक आंदोलन शुरू करना होगा।गांधी जी ने जैसे आंदोलन से देश को गुलामी से आजादी दिलाई है और विदेशी कंट्रोल से मुक्त कराया था। उसी तरह के आंदोलन की जरूरत है, जिसमें सभी को साथ मिलकर शुरू करना चाहिए। 

 

पीएम मोदी से अंबानी की अपील 

मुकेश अंबानी ने कहा कि पूरा विश्व पीएम मोदी को मैन ऑफ एक्शन कहता है। उन्होंने कहा कि मुझे पूरी उम्मीद है कि पीएम मोदी इस दिशा में कदम उठाएंगे। इससे पीएम मोदी के डिजिटल इंडिया मिशन को मजबूती मिलेगी। बता दें कि पीएम मोदी ने भारतीयों के पेमेंट ट्रांजैक्शन डाटा की डिटेल देश में ही रहे। इसके लिए Rupay कार्ड शुरू किया था।

 

भारत में डाटा रखने को मजबूर हुई विदेशी कंपनियां 

पीएम मोदी की इस पहल का विदेशी पेमेंट कंपनी Mastercard और Visa ने विरोध किया था। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी Rupay कार्ड का राष्ट्रवाद से जोड़कर प्रचार करते हैं। हालांकि आरबीआई के नियमों के तहत इन कंपनियों को भारत में ही भारतीयों का डाटा रखने को मजबूर होना पड़ा। 


 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement