Home » Industry » IT-Telecomकौन सा चार्जिंग केबल बेस्‍ट है, USB चार्जिंग केबल कैसे

Tech in gadgets: खरीद रहे हैं स्‍मार्टफोन की चार्जिंग केबल, जरूर ध्‍यान में रखें ये 4 बातें

मार्केट से खरीदी गई केबल डाटा ट्रांसफर और चार्जिंग में वह क्षमता नहीं दिखा पाती है, जो कंपनी की केबल दिखा पाती है...

1 of

नई दिल्‍ली। स्‍मार्टफोन की चार्जिंग केबल का खराब होना आम बात है। इसके कई कारण हो सकते हैं। USB केबल का कट जाना, ज्‍यादा खींचने पर भीतर से डैमेज हो जाना, कनेक्‍टर का क्षतिग्रस्‍त हो जाना जैसे कई ऐसे कारण हैं, जिसके चलते यह बेकार हो जाती है। इसके बाद हम मार्केट से अक्‍सर कोई दूसरी केबल खरीद लाते हैं। पर आम तौर लोगों को शिकायत होती है कि जैसी USB केबल कंपनी के फोन के साथ मिलती है, वैसी केबल मार्केट में दोबारा नहीं मिल पाती है। उसका सबसे बड़ा कारण बाजार से खरीदी गई केबल का सही तरीके से परफॉर्म नहीं कर पाना है। 

 

मार्केट से खरीदी गई केबल डाटा ट्रांसफर और चार्जिंग में वह क्षमता नहीं दिखा पाती है, जो कंपनी की केबल दिखा पाती है। भले ही उसे कंपनी के साथ मिले एडॉप्‍टर के साथ यूज किया जाए। ऐसी केबल कंपनी के साथ मिली केबल से जल्‍दी खराब भी हो जाती हैं। Tech in gadgets के इस अंक में हम इसी पर बात करेंगे। हम जानेंगे कि आखिर वो कौन से पैरामीटर हैं, जो किसी केबल को बेस्‍ट बनाते हैं। कंपनी से मिलने वाली केबल की क्षमता मार्केट में मिल भी सकती है या नहीं। आखिर इसके पीछे ऐसी कौन सी टेक्‍नोलॉजी काम करती है। इस बारे में हमने टेक एक्‍सपर्ट विकास खिरवडकर से बात की।  

 

एडॉप्‍टर चार्जर और बैट्री का सही कॉम्बिनेशन समझें  
विकास के मुताबिक, आम तौर पर कंपनी की ओर से जो चार्जिंग एडॉप्‍टर और केबल मिलती हैं, वो स्‍मार्टफोन की बैट्री के हिसाब से मिलती हैं। मतलब अगर स्‍मार्टफोन की बैट्री ज्‍यादा mAh की है तो एडॉपटर और चार्जर की पॉवर भी उसी हिसाब से रखी जाती है। अगर केबल खराब भी हो जाए तो एडॉप्‍टर कंपनी का ही यूज करें और एक अच्‍छी केबल मार्केट से खरीद लें। इसके लिए आपको 4 प्‍वाइंट्स देखने की जरूरत होती है। 

 

ज्‍यादा वॉट मतलब ज्‍यादा तेज चार्जिंग 
विकास के मुताबिक, बिजली का सीधा सा सिद्धांत है, जो केबल जितनी तेजी के साथ एनर्जी ट्रांसफर करेगी, वह आपके फोन को उतनी ही तेजी के साथ चार्ज करेगी। आम तौर पर इसे वाट से नापते हैं। आपका केबल और स्‍मार्टफोन फास्‍ट चार्जिंग टेक्‍नोलॉजी जितने ज्‍यादा वॉट की क्षमता से एनर्जी ट्रांसफर करेगी, उतनी ही तेज आपका फोन चार्ज होगा। वॉट का स्‍पेसीफिकेश एडॉप्टर के ऊपर लिखा होता है। इसलिए एडॉप्‍टर जिनते वाट का हो, उसी के हिसाब से केबल खरीदें। 

 

तारों के रोल को समझो
आम तौर पर कोई भी चार्जिंग केबल 4 तारों से मिलकर बनती है। इनका रंग आम तौर पर लाल, सफेद, काला और लाल होता है। इसमें सफेद और हरा तार डाटा ट्रांसफर के लिए होता है। जबकि बाकी बचा काला और लाला तार इलेक्टिक ट्रांसफर के लिए। आम तौर पर ये दोनों तार अपने साथ 5 वोल्‍ट का करेंट ले जाने में सक्षम होते हैं। लेकिन खेल इनके गेज में होता है। 

 

क्‍या है अखिर गेज का खेल 
विकास के मुताबिक, एक स्‍टैंडर्ड चार्जर केबल 28 गेज की होती है। यह 0.5A (एम्पियर) की चार्जिंग क्षमता देती है। आम तौर पर यह किसी केबल का स्‍टैंडर्ड रेट है। हालांकि अगर आप फास्‍टर केबल लेना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि आप अपकी केबल के इंटरनल वॉयर 24 गेज के हों। ये वॉयर 5 वोल्‍ट क्षमता के साथ 2A या इससे ज्‍यादा की कैपेसिटी देते हैं। आम भाषा में कहें तो आपकी केबल के तार जिनते मोटे होंगे, आपका फोन उतनी ही फास्‍ट चार्ज करेगी। 

 

लंबी केबल से छोटी केबल बेहतर
अन्‍य फैक्‍टर जो किसी केबल को बेस्‍ट बनाते हैं वो है उसकी लंबाई। विकास के मुताबिक, इसका सीधा से गणित है। अगर आप लंबी केबल लेंगे, तो रास्‍ते में ही बहुत सी एनर्जी बर्बाद कर देंगे। बेहतर है कि एक सामन्‍य लंबाई की केबल खरीदें। 

 

कॉपर की केबल ही खरीदें 
विकास के मुताबिक, सस्‍ती केबल के चक्‍कर में नहीं पड़ें। बेहतर है जो केबल खरीद रहे हैं उसमें कॉपर की तारों का यूज किया  है। कॉपर करंट को एल्युमीनियम या अन्‍य धातु के मुकाबले ज्‍यादा स्‍मूथ ट्रांसफर करता है। 


डाटा ट्रांसफर स्‍पीड भी देखें 
आम तौर पर केबल चार्जिंग के अलावा डाटा ट्रांसफर के काम भी आती है। इसलिए उसकी क्षमता को आंकना बेहद जरूरी है। विकास के मुताबिक, 480Mbps या उससे ज्‍यादा क्षमता की केबल आपके लिए बेस्‍ट होगी। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss