बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-Telecomमोबाइल में चलाते हैं फेसबुक तो जरूर पढ़ें यह खबर, हुआ ये खुलासा

मोबाइल में चलाते हैं फेसबुक तो जरूर पढ़ें यह खबर, हुआ ये खुलासा

दिसंबर 2017 तक सोशल मीडिया प्‍लेफॉर्म फेसबुक पर दुनिया भर में 20 करोड़ से अकांउट या तो फर्जी थे

1 of

हैदराबाद. यदि फेसबुक पर आपका अकाउंट है और आप अपना क्‍वालिटी टाइम उस पर व्‍यतीत करते हैं तो आपको इस खबर पर जरूर गौर करना चाहिए। खबर यह है कि दिसंबर 2017 तक सोशल मीडिया प्‍लेफॉर्म फेसबुक पर दुनिया भर में 20 करोड़ से अकांउट या तो फर्जी थे या डुप्लिकेट। खास बात यह है कि भारत उन देशों में है जहां इस तरह के अकाउंट सबसे ज्‍यादा हैं। 

 
फेसबुक ने अपनी हाल की सालाना रिपोर्ट में कहा है कि 2017 की चौथी तिमाही में हमारा अनुमान है कि डुप्लिकेट अकाउंट की संख्‍या दुनियाभर में मंथली एक्टिव यूजर्स (एमएयू) का करीब 10 फीसदी है। हमारा मानना है कि विकसित देशों की तुलना में  भारत, इंडोनेशिया और फिलिपींस जैसे डेवलपिंग मार्केट में फेक या डुप्लिकेट अकाउंट की संख्‍या अधिक है। 

 

फेसबुक ने अकाउंट्स के लिमिटेड सैम्‍पल के इंटरनल रिव्‍यू के आधार पर डुप्लिकेट और फर्जी अकाउंट का अनुमान लगाया है। फेसबुक ने यह भी साफ किया है कि डुप्लिकेट या फर्जी अकाउंट का यह अनुमानित आंकड़ा इस तरह के वास्‍तविक आंकड़ों से अलग हो सकता है। क्‍योंकि, डुप्लिकेट अकाउंट्स की पहचान करना काफी मुश्किल है। 

 

31 दिसंबर 2017 तक सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर मंथली एक्टिव यूजर्स की संख्‍या 2.13 अरब थी। 31 दिसंबर 2016 की तुलना में यह 14 फीसदी अधिक है। 31 दिसंबर 2016 तक मंथली एक्टिव यूजर्स की संख्‍या 1.86 अरब थी, इसमें 6 फीसदी यानी करीब 11.4 करोड़ डुप्लिकेट अकाउंट थे। 

 

भारत, इंडोनेशिया और वियतनाम में बढ़ें यूजर 

फेसबुक की रिपोर्ट के अनुसार, भारत, इंडोनेशिया और वियतनाम में यूजर्स की ग्रोथ 2016 के मुकाबले 2017 में सबसे अधिक रही। दिसंबर 2017 के दौरान औसतन दुनियाभर में डेली एक्टिव यूजर्स 14 फीसदी बढ़कर 1.40 अरब हो गए, जो दिसंबर 2016 के दौरान 1.23 अरब थे। 

 

आगे पढ़ें... डुप्लिकेट अकाउंट पर क्‍या कहता है फेसबुक 

 

 

कैसे हैं डुप्लिकेट और फर्जी अकाउंट 

फेसबुक की रिपोर्ट के अनुसार, डुप्लिकेट अकाउंट ऐसे हैं, जिन्‍हें यूजर ने अपने प्रिंसिपल अकाउंट के साथ मेन्‍टेन किया हुआ है। वहीं, फाल्‍स या फर्जी अकाउंट दो कैटेगरी के हैं। पहला, यूजर मिसक्‍लासिफाइड अकाउंट, जिन्‍हें  यूजर बिजनेस, ऑर्गनाइजेशन के लिए बनाता है, दूसरा नॉन- हृयुमन पहचान जैसेकि पेट या अवांक्षित अकाउंट के तौर पर क्रिएट करता है। यह अकाउंट फेसबुक के सेवा शर्तों का उल्‍लंघन करते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट