Home » Industry » IT-TelecomAirtel Payments Bank cuts interest rate to 5.5 per cent

इस बैंक ने पौने 2% घटा दिया है ब्‍याज, कहीं आपका तो नहीं है इसमें अकाउंट

एयरटेल बैंक ने अपने सेविंग अकाउंट्स पर ब्‍याज दर पौने 2 फीसदी घटाने का फैसला किया है।

1 of

नई दिल्‍ली. टेलिकॉम कंपनी एयरटेल की बैंकिंग इकाई एयरटेल पेमेंट्स बैंक ने अपने सेविंग अकाउंट्स पर ब्‍याज दर पौने 2 फीसदी घटाने का फैसला किया है। कंपनी सूत्रों के अनुसार, एयरटेल बैंक ने सेविंग अकाउंट्स पर ब्‍याज दर 7.25 फीसदी से घटाकर 5.5 फीसदी करने का फैसला किया है। नई ब्‍याज दरें 1 मार्च से लागू हो जाएंगी। हालांकि, अभी तक यह जानकारी सामने नहीं आई है कि बैंक ने ब्‍याज दरें क्‍यों घटाई हैं। हालांकि, यह माना जा रहा है कि ब्‍याज दरों को कॉम्पिटिटिव रखने के लिए कंपनी ने यह कदम उठाया है।


पहली बार घटाया ब्‍याज

एयरटेल के स्‍वामित्‍व वाले पेमेंट्स बैंक के लॉन्‍च होने के बाद यह पहला मौका है, जब बैंक ने ब्‍याज दरों में कटौती की है। एयरटेल पेमेंट्स बैंक 12 जनवरी 2017 को लॉन्‍च हुआ था। यह कस्‍टमर्स को एक ट्रेडिशनल बैंक की तरह सुविधाएं देता है। 

 

लॉन्‍च के समय दिए थे कई फायदे 

एयरटेल पेमेंट्स बैंक जब लॉन्‍च हुआ था, उस समय कस्‍टमर्स को कई ऑफर दिए गए। इसमें 1 लाख का पर्सनल एक्‍सीडेंट इन्‍श्‍योरेंस, एक डिजिटल डेबिट कार्ड, बैंक अकाउंट्स और पेमेंट्स बैंक सेविंग अकाउंट के बीच आसानी से लेनदेन जैसे फीचर शामिल थे। इसके अलावा 7.25 फीसदी ब्‍याज दर भी ऑफर किया था। बैंक ने लॉन्चिंग के समय कहा था कि वह मार्केट की हालत के अनुसार ब्‍याज दरों में जब भी जरूरत होगी, बदलाव कर देगा। हालांकि, इसकी उम्‍मीद नहीं थी कि एयरटेल पेमेंट बैंक ब्‍याज दरों में इतनी कटौती कर देगा। 
 

 

आगे पढ़ें... ई-केवाईसी विवाद से क्‍यों गिरी साख?  

 

e-KYC विवाद से गिरी साख 

एयरटेल पेमेंट्स बैंक भारत में अपनी तरह का पहला बैंक है और इसने अपने लॉन्‍च होने के एक हफ्ते के भीतर ही लाखों अकाउंट होल्‍डर बना लिए थे। कंपनी की तरफ से हाल ही में कस्‍टमर्स की ई-केवाईसी विवाद सामने आने के बाद बैंक की साख गिरी है। इसमें आरोप था कि पेमेंट्स बैंक के कर्मचारी कस्‍टमर्स के सेविंग अकाउंट बिना उनकी सहमति के खोल रहे थे। बैंक के आउटलेट्स पर मौजूद उनके प्रतिनिधि धोखे से कस्‍टमर्स के आधार नंबर का यूज कर ऐसे अकाउंट खोल रहे थे। इसकी खबर मिलने के बाद आधार जारी करने वाली अथॉरिटी यूआईडीएआई ने बैंक का ई-केवाईसी लाइसेंस निरस्‍त कर दिया था और कंपनी को जांच पूरी होने तक ऐसे अकाउंट्स खोलने पर रोक लगा दी थी। इस विवाद के चलते एयरटेल पेमेंट बैंक के सीईओ शशि अरोड़ा को कंपनी छोड़नी पड़ी थी। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट