विज्ञापन
Home » Industry » IT-TelecomHUAWEI cuts salary of its two employee for sending new year message

Apple IPhone से नए साल की बधाई देना पड़ा महंगा, कंपनी ने काट ली 50000 रुपए की सैलरी, डिमोशन भी झेलना पड़ा

दो कर्मचारियों ने ट्वीट कर दी थी नए साल की बधाई

1 of

नई दिल्ली। नया साल हर किसी के जीवन में खुशहाली लेकर आता है। लोग एक-दूसरे को नए साल की बधाई देते हैं। लोग अपने परिजनों, परिचितों और दोस्तों को फोन करके और मैसेज भेजकर नए साल की बधाई देते हैं। लेकिन सोचिए अगर नए साल का बधाई मैसेज भेजने पर कोई कंपनी आपकी सैलरी ही काट ले तो कैसा लगेगा। जीहां, यह बिल्कुल सच है। एक चीनी कंपनी की ओर नए साल का बधाई मैसेज भेजने पर अपने दो कर्मचारियों की सैलरी काटने का मामला सामने आया है। 

 

इसलिए काटी सैलरी
ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, चीन की मोबाइल निर्माता कंपनी Huawei ने नए साल का बधाई मैसेज भेजने पर अपने दो कर्मचारियों की 50 हजार रुपए की सैलरी काट ली। इन कर्मचारियों की सैलरी इसलिए काटी है क्योंकि इन दोनों कर्मचारियों ने Apple के IPhone से बधाई संदेश भेजा था।  इतना ही नहीं Huawei ने इन दोनों कर्मचारियों का सिंगल लेवल का डिमोशन भी किया है। इन दोनों कर्मचारियों ने अपने IPhone से ट्वीट कर अपने दोस्तों और परिचितों को नए साल की बधाई दी थी। 

चीन ने लगा दिए हैं Apple पर प्रतिबंध

 

दरअसल, एक दिसंबर को Huawei की मुख्य वित्तीय अधिकारी मेंग वांझू  को अमेरिकी कानूनों का उल्लंघन करने पर कनाडा में गिरफ्तार कर लिया गया था। इसके बाद उनको अमेरिका प्रत्यर्पित कर दिया गया था। चीन ने मेंग वांझू की गिरफ्तारी पर अमेरिका के सामने विरोध जताया था, लेकिन उनको रिहा नहीं किया गया था। तभी से चीन ने अमेरिकी कंपनी Apple के उत्पादों की अपने देश में बिक्री पर अघोषित प्रतिबंध लगा दिया है। इसके अलावा चीनी कंपनियां Huawei के उत्पाद खरीदने पर सब्सिडी भी दे रही हैं। 

चीन ने 13 कनाडाई नागरिकों को हिरासत में लिया


Huawei की CFO की गिरफ्तारी के बाद चीन लगातार अमेरिकी कंपनियों पर निशाना बना रहा है। एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार, हाल ही में चीन ने कनाडा के 13 नागरिकों को हिरासत में लिया है। हालांकि, इसमें से 8 लोगों को छोड़ दिया गया है। हिरासत में लिए गए कनाडाई नागरिकों में पूर्व राजनयिक माइकल कोवरिग और कंसल्टेंट माइकल स्पावोर में शामिल हैं। इन्हें 10 दिसंबर को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए हिरासत में लिया गया था। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन