बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-TelecomTech in Gadgets: लंबे समय तक ऐसे चलेगी स्‍मार्टफोन की बैट्री, भूल जाएंगे पावर बैंक

Tech in Gadgets: लंबे समय तक ऐसे चलेगी स्‍मार्टफोन की बैट्री, भूल जाएंगे पावर बैंक

फोन पुराना हो गया, इसका मतलब यह कतई नहीं है कि आपका फोन बैट्री बैकअप देना कम कर दे....

1 of

नई दिल्‍ली. स्‍मार्टफोन के बढ़ते यूज के साथ ही पावरबैंक भी अब हमारी लाइफ का हिस्‍सा बन चुका है। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि हमारे स्‍मार्टफोन की बैटरी पूरे दिन नहीं चल पाना। दरअसल जब तक हमारा स्‍मार्टफोन नया रहता है, तब तक तो अच्‍छा बैकअप देता है, पर जैसे जैसे यह पुराना होता जाता है, हमारी निर्भरता पावरबैंक पर बढ़ जाती है। हमने इस बारे में टेक एक्‍सपर्ट्स से बात की। उनका कहना है कि फोन पुराना हो गया, इसका मतलब यह कतई नहीं है कि आपका फोन बैट्री बैकअप देना कम कर दे। दरअसल फोन की बैट्री का एक निश्चित साइकिल होता है। अपनी हर साइकिल के दौरान बैट्री की परफॉर्मेंस सेम होती है। तो क्‍या यह मान लिया जाए कि हम फोन यूज करने में बेसिक गलतियां करते हैं। आपका फोन जल्‍दी डिस्‍चार्ज हो रहा है तो इसका यह मतलब कतई नहीं है कि उनकी बैटरी खराब हो गई है । 

 

अपडेशन का होता है बड़ा रोल 
टेक एक्‍सपर्ट विनीत रूपानी के मुताबिक, आपके स्‍मार्टफोन की बैटरी सही काम करे, इसमें आपके अपडेशन का अहम रोल होता है। अगर आप अपने फोन की बैटरी की लंबी उम्र चाहते हैं तो फोन में आने वाले हर अपडेशन को इग्‍जोर नहीं करें। एंड्रॉयड का हर नया वर्जन पुराने वर्जन के मुकाबले ज्‍यादा लाइट होता है और फोन की बैटरी कम खाता है। इसके चलते आपकी बैटरी की लाइफ ज्‍यादा होती है। विनीत के मुताबिक, अगर समय समय पर आप अपने फोन को अपडेट कर रहे हैं, तो एक बार चार्ज होने के बाद पूरे दिन आपके स्‍मार्टफोन को चार्जर की जरूरत नहीं पड़ेगी।    

 

सिम और नेटवर्क का खास ध्‍यान 
आपके फोन की बैटरी को लंबी उम्र देने में दूसरा सबसे बड़ा रोल अपकी टेलिकॉम कंपनी का होता है। आप उसी कंपनी का सिम यूज करें, जिसका नेटवर्क आपके घर और आसपास बेहतर हो। विनी‍त के मुताबिक, लगातार आता - जाता नेटवर्क आपके फोन की बैटरी का सबसे बड़ा दुश्‍मन है। इसके चलते आपकी बैटरी का परफॉर्मेंस 50 फीसदी कम हो जाता है। इसका सबसे बड़ा सबूत रोमिंग के दौरान हमें मिलता है। आता जाता नेटवर्क के चलते आपका फोन रोमिंग में जल्‍दी जल्‍दी डिस्‍चार्ज हो जाता है। जबकि आप रोमिंग में नहीं रहते हैं तो फोन ज्‍यादा देर तक बैकअप देता है। 
 
हो सके तो लिथियम-पोलिमर बैटरी चुनें 
मौजूदा समय में स्‍मार्टफोन में लिथियम आयन (Li‑ion) और लिथियम पॉलिमर बैटरी सबसे ज्‍यादा यूज हो रही हैं। ये लिथियम आयन बेहतर चार्जिंग पावर के साथ आती हैं। वहीं, पॉलिमर बैटरीज इनका एडवांस वर्जन है और इनसे ज्‍यादा पावरफुल होती हैं। हालांकि यह लिथियम आयन के मुकाबले महंगी होती हैं, हो सके तो आप इसे ही चुनें। 

 

ये तरीके भी आएंगे काम 

बैटरी की चार्जिंट 0 पर्सेंट पर जाने से पहले ही उसे चार्ज करें। डेड बैटरी रिस्‍की साबित हो सकती हैं। स्‍क्रीन टाइमआउट कम रखें। जब यूज न हो, तो ब्‍लूटूथ, वाई-फाई और जीपीएस को बंद रखें।  ऑटो सिंक भी काफी बैटरी चूसता है। इसलिए इसे बंद रखने में समझदारी है। जरूरी ऐप्‍स ही डाउनलोड कर के रखें। क्‍योंकि जितनी ज्‍यादा ऐप्‍स मोबाइल में रखेंगे, बैटरी उतनी ही जल्‍दी खत्‍म होगी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट