बिज़नेस न्यूज़ » Industry » IT-TelecomTech in gadgets: रैम नहीं प्रोसेसर पर लगाएं दांव, स्‍मार्टफोन की स्पीड में नहीं खाएंगे धोखा

Tech in gadgets: रैम नहीं प्रोसेसर पर लगाएं दांव, स्‍मार्टफोन की स्पीड में नहीं खाएंगे धोखा

चाहते हैं कि आपका फोन स्‍मूथ चले, हैंक होने और अटकने की समस्‍या से आजाद रहे तो प्रोसेसर पर दांव लगाइए

1 of

नई दिल्ली. स्‍मार्टफोन अब रैम के मामले में 8GB तक पहुंच गए हैं। हालांकि उनके अटकने और हैंग होने का पुराना रोग अब भी बरकरार है। टेक एक्‍सपर्ट मानते हैं कि सिर्फ रैम के दमपर आप अपने स्‍मार्टफोन को कभी भी स्‍मूथ नहीं रख सकते हैं। इसके लिए जरूरी है कि रैम के साथ आपके स्‍मार्टफोन के प्रोसेसर में जान हो। टेक एक्‍सपर्ट विकास खिरवड़कर  के मुताबिक, अगर चाहते हैं कि आपका फोन लंबे समय तक स्‍मूथ चले, हैंक होने और अटकने की समस्‍या से आजाद रहे तो रैम की जगह प्रोसेसर पर दांव लगाइए।

 

प्रोसेसर ही बनाता है स्‍मार्टफोन को स्‍मार्ट 
किसी स्मार्टफोन को और ज्यादा स्मार्ट बनाने में सबसे बड़ी भूमिका उसके प्रोसेसर की होती है। प्रोसेसर जितना बेहतरीन होगा, वह डिवाइस भी उतनी ही बेहतरीन होगी। बिना बेहतर प्रोसेसर के स्मार्टफोन स्पीड के मामले में आपको धोखा दे सकता है। आइए जानते हैं कि आखिर एक बेहतरीन प्रोसेसर वाला स्मार्टफान कैसे सेलेक्ट करें और मार्केट में ऐसे कौन से प्रोसेसर हैं, जो आपके स्मार्टफोन को एक बेहतरीन डिवाइस बना सकते हैं।
 

आखिर प्रोसेसर करता क्या है ?
जैसा कि ऊपर कहा गया है कि प्रोसेसर ही किसी स्मार्टफोन की जान होता है। आपका स्मार्टफोन कितनी तेजी के साथ काम करेगा, यह उनके प्रोसेसर पर ही डिपेंड करता है। जितना बेहतरीन प्रोसेसर होगा, स्मार्टफोन का आउटपुट उतना ही बेहतरीन होगा।
 
कैसे चुनें एक बेहतरीन स्मार्टफोन ?
यूं तो किसी स्मार्टफोन को सेलेक्ट करते समय कई पहलुओं पर ध्यान देना चाहिए, लेकिन कोर और गीगा हर्टट  ही किसी प्रोसेसर की असल ताकत होते हैं। इसलिए अगली बार जब भी अपना नया स्मार्टफोन खरीदें तो उसके प्रोसेसर में ये 2 दो चीजें जरूर चेक करें। 
 
ऐसे समझें कोर का खेल
किसी भी प्रोसेसर की परफॉर्मेंस उसके कोर पर डिपेंड करती हैं। विनीत के मुताबिक, मौजूदा समय में मार्केट में 8 कोर तक वाला प्रोसेसर है। इसमें 4 छोटे और  4 बड़े कोर का काम्बिनेशन होता है। तकनीकी भाषा में 8 कोर वाले प्रोसेसर को आक्टा कोर प्रोसेसर कहते हैं। 10 कोर वाले फोन को हेक्‍सा कोर कहा जाता है। 
 
कोर को ऐसे समझें
विनीत के मुताबिक, किसी भी प्रोसेसर में जितने ज्यादा कोर होंगे, उसकी टास्किंग उतनी ही फास्ट होगी। पहले 2 कोर वाले प्रोसेसर आते थे, मतलब डिवाइस को मिले टास्क को पहले 2 लोग करते थे, लेकिन जब उसी काम को 8 लोग करेंगे तो रिजल्ट अच्छा ही मिलेगा।
 

गीगाहर्ट्ज के खेल को भी समझना जरूरी
 

विकास के मुताबिक, गीगाहर्ट्ज किसी प्रोसेसर को फास्ट बनाता है। मौजूदा समय में 2 गीगा हर्ट्ज तक की स्पीड वाले प्रोसेसर आते हैं। अगर आपके प्रोसेसर में कम कोर है, लेकिन  गीगाहर्ट्ज ज्यादा हो तो उस प्रोसेसर की परफॉर्मैंस 8 कोर वाले प्रोसेसर से भी बेहतरीन होगी। हालांकि  गीगाहर्ट्ज कम हो तो प्रोसेसर में ज्यादा कोर को तरजीह दें। विकास के मुताबिक, कोर और  गीगाहर्ट्ज का बेहतरीन कॉम्बिनेशन ही किसी प्रोसेसर को बेहतरीन बनाता है। एक बेहतरीन प्रोसेसर ही किसी स्मार्टफोन को बेस्ट बनाता है। इसलिए आगे से जब भी अपना नया स्मार्टफोन खरीदने जाएं तो उसके प्रोसेसर में कोर और गीगा हर्ट्ज के कॉम्बिनेशन को जरूर चेक करें। 
 
 
मार्केट में आने वाले कुछ प्रोसेसर के बारे में
विनीत के मुताबिक, मौजूदा दौर में स्नैपड्रैगन और मीडिया टेक 2 प्रोसेसर दुनिया भर के स्मार्टफोन में यूज होते है। विनीत स्नैपड्रैगन के प्रोसेसर को मीडियाटेक प्रोसेसर के मुकाबले ज्यादा बेहतर बताते हैं। अगर बजट फोन की बात करें तो कुछ डिवासेस में स्नैपड्रैगन 625 सीरीज के प्रोसेसर आ रहे है। 10 हजार की रेंज के कई ऐसे स्मार्टफोन हैं, जिनमें यह प्रोसेसर आपको मिल जाएगा। विनीत स्नैप ड्रैगन 430 और 435 को भी अच्छा प्रोसेसर मानते हैं।
 
कई कंपनियां अपने प्रोसेसर भी यूज करती हैं
कुछ कंपनियां अपने प्रोसेसर भी यूज करती है। इनमें आईफोन, सैमसंग और हुआवेई के नाम शामिल है। सैमसंग अपने आई इंड फोन में खुद का डेवलप किया हुआ एक्सीनोस प्रोसेसर यूज करती है। हुआवेई के अपने प्रोसेसर का नाम काईरे है।

 


 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट