विज्ञापन
Home » Industry » IT-TelecomFacebook a digital Gangster

फेसबुक डिजिटल गैंगस्टर है, नहीं करती है डाटा प्राइवेसी की परवाह

ब्रिटेन की संसद ने फेसबुक पर लगाए गंभीर आरोप, जकरबर्ग भी आए लपेटे में

1 of

नई दिल्ली. ब्रिटेन की एक संसदीय समिति ने सोशल नेटवर्किंग जायंट फेसबुक को डिजिटल गैंगस्टर करार दिया है। समिति ने कहा कि कंपनी जानबूझकर डेटा प्राइवेसी से जुड़े कानूनों को तोड़ती है। समिति ने फेसबुक के फाउंडर और सीईओ मार्क जकरबर्ग पर ब्रिटेन की संसद की अवमानना का आरोप भी लगाया।

 

सफाई देने नहीं आए जकरबर्ग 

एजेसीं की खबरों के मुतबाकि जकरबर्ग को डेटा प्राइवेसी के उल्लंघन से जुड़े मामलों में सफाई देने के लिए ब्रिटिश संसद में पेश होने के कहा गया था, लेकिन वे नहीं आए। ब्रिटेन की डिजिटल, मीडिया, कल्चर और स्पोर्ट कमेटी ने सोमवार को फेसबुक पर अपनी रिपोर्ट पेश की। समिति ने कहा कि इसने फेसबुक के कई इंटरनल ई-मेल का रिव्यू किया है। इसे पता चलता है कि कंपनी को डेटा प्राइवेसी की कोई परवाह नहीं है। साथ ही वह प्रतिस्पर्धा नियमों का भी जमकर उल्लंघन करती है। समिति ने कहा कि फेसबुक जैसी कंपनियों को डिजिटल गैंगस्टर की तरह व्यवहार करने की छूट नहीं मिलनी चाहिए। यह खुद को नियम से ऊपर मानती है।

फेसबुक पर मुकदमे की जानकारी 

समिति के हाथ सिक्स4थ्री एप के डेवलपर्स द्वारा फेसबुक पर किए गए मुकदमे से जुड़ी जानकारी भी हाथ लगी है। इनके मुताबिक फेसबुक एप डेवलपर्स तक डेटा पहुंचाने के लिए प्राइवेसी नियमों के उल्लंघन के लिए तैयार थी। समिति के मुताबिक जो एप डेवलपर फेसबुक की बातों को नहीं मानते हैं उन्हें कंपनी द्वारा बिजनेस से बाहर करने के लिए तमाम गलत तरीके अपनाए जाते हैं।

 

 

फेसबुक ने डेटा उल्लंघन के आरोपो को नकारा 

इस रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए फेसबुक यूके के पब्लिक पॉलिसी मैनेजर करीम पलांट ने कहा कि उनकी कंपनी डेटा प्राइवेसी नियमों का उल्लंघन नहीं करती है। सिक्स4थ्री मुकदमे जानबूझ कर चुनिंदा जानकारी लीक की गई है ताकि फेसबुक की छवि को खराब किया जा सके।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss