Home » Industry » IT-Telecomtelecom price war by jio, mukesh ambani will continue price war in telecom sector

नहीं थमेगी Jio की प्राइस वार, 40 करोड़ ग्राहक होने के बाद ही मानेंगे अंबानी, यूजर्स को मिलता रहेगा फायदा

आने वाले वक्‍त में भी जारी रहेगी फ्री डेटा-कॉल स्‍कीम

telecom price war by jio, mukesh ambani will continue price war in telecom sector

नई दिल्ली। Jio के जरिए मुकेश अंबानी की RIL की ओर से शुरू की गई प्राइस वॉर अभी नहीं थमेगी। आने वाले वक्‍त में भी टेलिकॉम, वोडाफोन और आइडिया जैसी प्रतिस्‍पर्धी कंपनियों को दबाव का सामना करना पड़ेगा। ब्‍लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, Jio अपना कस्‍टमर बेस जबतक बढ़ाकर 40 करोड़ नहीं कर लेती है तब तक वह कीमतों में इजाफा नहीं करेगी। यह वॉर अभी एक और साल तक जारी रह सकती है। ऐसे में यूजर्स को सस्ते टैरिफ का फायदा मिलता रहेगा।

 

दबाव में रहेंगी एयरटेल वोडाफोन 
हॉन्गकॉन्ग स्थित एनॉलिस्ट कुणाल अग्रवाल के मुताबिक, अंबानी की टेलिकॉम कंपनी अपने ग्राहकों की संख्‍या 40 करोड़ तक पहुंचाने के बाद ही कीमतों में बढ़ोतरी की ओर बढ़ेगी। इसके चलते आने वाले एक दो सालों तक इंडियन टेलिकॉम सेक्‍टर में गलाकाट प्रतियोगिता जारी रहेगी। इसके चलते अन्य घरेलू कंपनियों ( जैसे एयरटेल और वोडाफोन) को कमजोर रेवेन्यू की स्थिति से गुजरना पड़ेगा। 


अन्‍य कंपनियों को लगा है तगड़ा झटका 
बता दें कि सितंबर, 2016 में फ्री कॉल्स और डेटा के साथ अपनी लॉन्चिंग के बाद से ही JIO ने बाजार की अन्य प्रतिस्पर्धी कंपनियों को रेवेन्यू और यूजर बेस के मामले में गहरा झटका दिया है। 

 

अभी जियो के पास 21.5 करोड़ यूजर हैं 
बता दें कि मौजूदा समय में Jio के पास 21.5 करोड़ यूजर हैं। अग्रवाल का अनुमान है कि Jio अब इंडस्ट्री में नंबर वन बनने की ओर बढ़ेगी। खासतौर पर भारत में तेजी से बढ़ते मोबाइल यूजर्स पर कंपनी की नजर है। आने वाले 2 से 3 साल में भारत में मोबाइल यूजर्स की संख्या 1.2 अरब के करीब होगी। फिलहाल यह 1.13 अरब है। 

 

होगी 3 तरफा प्राइस वार 

ब्लूमबर्ग की ओर से जुटाए गए डेटा के मुताबिक, मार्केट शेयर में Jio की ग्रोथ की बात करें तो यह खासी तेज है। एक साल के 10 फीसदी के मुकाबले इस साल मई में Jio कस्‍टमर बेस  18.2 फीसदी पहुंच चुका है। इंडियन टेलिकॉम मार्केट में अब Jio तीसरी सबसे बड़ी कंपनी है। आइडिया और वोडाफोन के मर्जर के बाद अब टेलिकॉम मार्केट में  3-वे जंग भी होगी। दरअसल रिलायंस की एंट्री के बाद से ही कई छोटे प्लेयर्स को मैदान छोड़ना पड़ा है या फिर किसी बड़ी कंपनी के साथ मर्जर करना पड़ा है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट