Home » Industry » IT-TelecomWhen 5G launch in india

2022 तक बदल जाएगी आपकी दुनिया, कुछ इस तरह होने जा रहे हैं बदलाव

5G तकनीक आपकी जिदंगी पर डालेगी असर

1 of

नई दिल्ली. भारत में वर्ष 2022 ऐसा दौर होगा, जब लोग तकनीकी तौर पर अगली पीढ़ी में प्रवेश करेंगे। उस दौर में सब कुछ काफी आसान हो जाएगा। घरों के उपकरण, ऑफिस की फाइल सब कुछ पहले के मुकाबले ज्यादा माकूल रहेंगी। इतना ही नहीं तेज इंटरनेट स्पीड से ऑडियो, वीडियो देखने का शानदार अनुभव होगा। आपके एक इशारे पर चीजें खुद काम करेंगी। इसके लिए किसी तीसरे की जरूरत नहीं होगी। सबसे ज्यादा बदलाव बड़े शहरों और मेट्रो सिटी में होंगे। क्योंकि मेट्रो के लोग नवीनतम टेक्नोलॉजी का सबसे पहले इस्तेमाल करते हैं। यह तकनीक है 5जी जो 2022 में भारत में पूूरी तरह से छा जाएगी। 

 

4G की तरह ही आएगा बदलाव

5G लोगों की जिंदगी पर ठीक उसी तरह असर डालेंगी, जैसे 10 साल पहले 4G का असर हुआ था। 4G से पहले लाइव वीडियो देखना, ऑडियो सुनना, नेविगेशन ऐप के जरिए ट्रैवलिंग करना और डिजिटल ट्रांजेक्शन करना काफी मुश्किल काम था। लेकिन अब 4G की मदद से ये सब बहुत आसान हो गया है। इसी तरह आने वाले दिनों में 5G लोगों की जिंदगी में बदलाव लाने जा रही है। 

 

क्या है 5G,  कैसे करेगा काम 
ये पांचवी पीढ़ी का मोबाइल नेटवर्क है। इससे न सिर्फ इंटरनेट की स्पीड बढ़ेगी, बल्कि तकनीकी तौर पर लोगो सशक्त होंगे। 5G के दौर में लाखों डिवाइस तेजी से डेटा कलेक्ट करेंगी और उन्हें आपस में इस्तेमाल में लाएंगी। उदाहरण के तौर पर आपका फोन घर की हर एक डिवाइस से कनेक्ट होगा और आपकी एक कॉल पर बिना कहीं जाएं घर के काम हो जाएंगे। आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की मदद से बिना ड्राइवर की कार का सपना सच हो सकेगा। 


लोगों में क्या आएगा बदलाव
मोबाइल इंडस्ट्री कुछ वर्षों में खुद को अपडेट और अपग्रेड करती रहती है। इसे ही नेक्स्ट जनरेशन कहा जाता है। 5G टेकनोलॉजी से नेटवर्क की दिक्कत दूरी हो सकेगी। साथ ही बैटरी ज्यादा वक्त तक चलेगी। इसके अलावा इंटरनेट की स्पीड तेज होगी। इस तकनीत को LTE, 4G वाले डिवाइस में अपडेट किया जा सकेगा। 

 

आगे पढ़ें-कब तक आएगा 5G

 

कब तक आएगा 5G

साउथ कोरिया, जापान और अमेरिका में अगले वर्ष यानी 2019 में 5G सर्विस लॉन्च होगी। चीन और ज्यादातर यूरोपियन शहरों में ये सर्विस 2020 में लॉन्च होगी। भारत में 5G सर्विस 2022 में लागू करने की योजना है। इसके लिए फाइबर केबल की जरूरत होगी। जो आज के वक्त में 15 लाख किमीं. तक बिछाई जा चुकी है। इसे 25 लाख किमीं. तक पहुंचाने की सरकार की योजना है।  

 

आगे पढ़ें- शहरों में होगा बड़ा बदलाव

 

शहरों में होगा बड़ा बदलाव

शहरों खासकर मेट्रो सिटी में 5G से बड़ा बदलाव आएगा। शहरों के इंफ्रास्ट्रक्चर जैसे ट्रैफिक, कूड़ा प्रबंधन, पॉवर सप्लाई सर्विस को इंटरनेट की मदद से आसान बनाया जा सकेगा। इससे शहरों में यातायात के साधनों की लोकेशन समेत कई दिक्कतों से छुटकारा मिल जाएगा। साथ ही इनकी निगरानी की जा सकेगी। 

 

आगे पढ़ें- वीडियो देखना का अलग होगा अनुभव 

 

वीडियो देखने का अलग होगा अनुभव 
इससे सिक्योरिटी सिस्टम को ठीक करने में मदद मिलेगी। घर की चीजों को वाइस कमांड से ऑपरेट किया जा सकेगा। सेंसर की मदद से दुर्टनाओं को कम करने में मदद मिलेगी। कपड़ों में लगे सेंसर स्वास्थ्य के बारे में अपडेट देंगे। 5G की मदद से IoT तकनीत बेहतर हो सकती। इसके जरिए सस्ते सेंसर बनाएं जा सकेंगे। वहीं बैटरी बैकअप दुरुस्त किया जा सकेगा। IoT को ऑफिस और प्राइवेट दफ्तर, हास्पिटल और एग्रीकल्चर में इंस्टॉल किया जा सकेगा। इससे निगरानी और प्रबंधन ठीक हो सकेगा। 5G से मोबाइल और कंप्यूटर में काम करने का अनुभव पहले से बेहतर होगा। साथ ही वर्चुअल वीडियों का उच्च क्वॉलिटी का वीडियों देख सकेंगे।  

 

आगे पढ़ें- किस मोबाइल नेटवर्क की क्या है स्पीड 

 

किस मोबाइल नेटवर्क की क्या है स्पीड 

मोबाइल नेटवर्क स्पीड 
1G 2.4kbps
2 14.4 kbps
3 3.1 mbps 
3.5 42.2 mbps 
4G 100  mbps 
4G/LTE 1,000 mbps 
5G 10,000 mbps 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट