विज्ञापन
Home » Industry » E-CommerceSoftBank leads 200 million dollar investment in Grofers

Start-up / SoftBank ने ग्रोफर्स में किया 1400 करोड़ रु का निवेश, यूनिकॉर्न क्लब में हुई शामिल

भारत के ऑनलाइन ग्रॉसरी मार्केट पर आया निवेशकों का दिल, बिगबास्केट के बाद ग्रोफर्स में किया निवेश

SoftBank leads 200 million dollar investment in Grofers

अलीबाबा ग्रुप ने हाल में किया बिगबास्केट में किया निवेश

बेंगलुरू. भारत की अग्रणी ई-टेलर्स में से एक ग्रोफर्स (Grofers) ने जापान के सॉफ्टबैंक ग्रुप की अगुआई वाले निवेशकों के समूह से लगभग 20 करोड़ डॉलर (1400 करोड़ रुपए) जुटाने में कामयाबी हासिल की है। रॉयटर्स के मुताबिक, सॉफ्टबैंक ग्रुप ने अपने विजन फंड (Vision Fund) के माध्यम से भारत की ऑनलाइन ग्रॉसरी कंपनी में यह निवेश किया है। एक अन्य मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस निवेश के साथ ग्रोफर्स यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हो गई है। 1 अरब डॉलर से ज्यादा वैल्यूएशन वाले स्टार्टअप को यूनिकॉर्न कहा जाता है।

अलीबाबा ग्रुप ने हाल में किया बिगबास्केट में किया निवेश

हाल में चीन के अलीबाबा ग्रुप की अगुआई में निवेशकों ने ग्रोफर्स की राइवल कंपनी बिगबास्केट (Bigbasket) में 15 करोड़ डॉलर का निवेश किया था, जिससे उसकी वैल्युएशन 1 अरब डॉलर (7 हजार करोड़ रुपए) के आसपास पहुंच गई। ग्रोफर्स और बिगबास्केट दोनों को ही अमेजन और वालमार्ट के स्वामित्व वाली फ्लिपकार्ट जैसी दिग्गज कंपनियों के साथ कई कैटेगरीज में प्रतिस्पर्धा करनी पड़ रही है।

ऑनलाइन ग्रॉसर सेक्टर में सबसे बड़ा निवेश

एक अन्य मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यह भारत के ऑनलाइन ग्रॉसरी मार्केट में अब तक सबसे बड़ा निवेश है। 5 साल पुरानी ग्रोफर्स भारत के 13 शहरों में 5,000 स्टोर के सथ मिलकर काम करती है। 
ग्रोफर्स द्वारा जारी एक बयान में कंपनी के चीफ एग्जीक्यूटिव अलबिंदर ढींढसा ने कहा, ‘ताजा निवेश से कंपनी को विस्तार करने में मदद मिलेगी। साथ ही ज्यादा से ज्यादा कस्टमर्स सही कीमत पर गुणवत्तापूर्ण उत्पाद हासिल कर सकेंगे।’ हालांकि ग्रोफर्स ने इस फंडिंग के अपनी वैल्युएशन के बारे में कोई टिप्पणी नहीं की।

2017 में हुई थी सॉफ्टबैंक के विजन फंड की स्थापना

सॉफ्टबैंक के विजन फंड की स्थापना वर्ष 2017 में हुई थी और अब यह अपने पोर्टफोलियो में उबर टेक्नोलॉजी इंक, चिप डिजाइनर एआरएम और शेयर्ड वर्कस्पेस कंपनी वीवर्क की मौजूदगी के साथ दुनिया की सबसे बड़ी टेक्नोलॉजी इन्वेस्टमेंट फंड बन चुकी है।

जापान की कंपनी अब अपने 100 अरब डॉलर के फंड के लिए आईपीओ लाने पर विचार कर रही है।

 

23 मई को देखिए सबसे तेज चुनाव नतीजे भास्कर APP पर


 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन