विज्ञापन
Home » Industry » E-CommerceAmazon is shutting down its China marketplace business Will Now Focus On India 

स्ट्रैटजी / चीन छोड़ने को मजबूर हुआ दुनिया का सबसे अमीर शख्स, अब भारत से करेगा कमाई

2013 से अब तक भारत में कर चुके हैं अरबों डॉलर का निवेश

1 of

नई दिल्ली.

दुनिया के सबसे अमीर शख्स जेफ बेजोस (Jeff Bezos) की कंपनी अमेजन (Amazon) चीन में अपने कारोबार का काफी हिस्सा बंद करने जा रही है। कंपनी ने चीनी ऑनलाइन कंपनियों के आगे हार मान ली है। कंपनी ने ऐलान किया है कि जुलाई से अमेजन चीनी मार्केटप्लेस बिजनेस को बंद कर देगी। यानी अमेजन के प्लेटफॉर्म पर चीन के लोकल सेलर्स का सामान अब से नहीं मिलेगा। इसकी जगह पर कंपनी ग्राहकों को ओवरसीज प्रोडक्ट ऑफर करेगी। इस कदम के चलते कंपनी को अच्छ-खासा नुकसान होगा क्योंकि इससे प्लेटफॉर्म पर सेलर्स की संख्या सीमित हो जाएगी।

 

अलीबाबा से मिल रहा तगड़ा कॉम्पटीशन

चीन के ई-कॉमर्स बाजार पर ई-कॉमर्स साइट Alibaba (अलीबाबा) और JD.com का बोलबाला है। नया ऐप Pinduoduo भी अमेजन को टक्कर दे रहा था। ऐसे में चीन में काम करते रहना अमेजन के लिए मुश्किल हो गया था। चीन के ई-कॉमर्स से बाहर निकलना अमेजन के लिए बड़ी नाकामी के तौर पर देखा जा रहा है।

 

2004 से चीन में ऑपरेट कर रही है अमेजन

अमेजन ने 2004 में एक चीनी ऑनलाइन बुक स्टोर को 520 करोड़ रुपए में खरीदकर चीन में कारोबार शुरू किया था। तब से अब तक कंपनी ने वहां वेयरहाउसेज और डाटा सेंटर में भारी निवेश किया है। इसके साथ ही कंपनी ने चीनी सेलर्स को अपना सामान अमेजन के ग्राहकाें को बेचने का प्रशिक्षण देने के लिए कई प्रोग्राम भी आयोजित किए हैं। 2016 में अमेजन ने चीन में अपना Prime Membership प्रोग्राम शुरू किया, ताकि हाई-क्वालिटी के वेस्टर्न सामान और फ्री इंटरनेशनल डिलीवरीज जैसी सुविधाओं से ग्राहकों को लुभा सकें। लेकिन प्राइम वीडियो जैसे एक्स्ट्रा फायदे यहां के ग्राहकों के लिए उपलब्ध नहीं हुए।

 

 

यह भी पढ़ें- Jio के बाद Reliance का नया धमाका, बसाएगी अपनी मेगासिटी, यहां होगा अंबानी का राज

 

भारत पर ध्यान देना चाहती है अमेजन

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन से अमेजन के निकलने की वजह है कि अब कंपनी भारत पर ज्यादा ध्यान देना चाहती है। चीन में अमेजन की हिस्सेदारी 1 फीसदी थी, जबकि भारत में अमेजन के प्रमुख ई-कॉमर्स प्लेयर बनने की संभावना ज्यादा है। 2013 में भारत में अपनी वेबसाइट लॉन्च करने के बाद से ही कंपनी ने यहां बिजनेस में अरबों डॉलर का निवेश करके 50 से भी ज्यादा वेयरहाउस तैयार किए हैं।

 

भारत में भी होगा चीनी ई-कॉमर्स कंपनियों से मुकाबला

अमेजन को भारत में भी चीनी ई-कॉमर्स कंपनियों से मुकाबला करना होगा। यहां भी अलीबाबा और अन्य चीनी कंपनियां अपने ऑपरेशंस में तेजी ला रही हैं या Paytm ई-कॉमर्स प्राइवेट और BigBasket में इन्वेस्ट कर रही हैं।

 

यह भी पढ़ें- दुनिया के टॉप अमीर को उसी के दांव से मात देंगे अंबानी, ताबड़तोड़ खरीदीं 26 कंपनियां

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss