बिज़नेस न्यूज़ » Industry » E-Commerceऑनलाइन खरीद रहे हैं ये 5 सामान तो हो जाएं अलर्ट, हो सकता है नकली

ऑनलाइन खरीद रहे हैं ये 5 सामान तो हो जाएं अलर्ट, हो सकता है नकली

ई-कॉमर्स कंपनि‍यों पर भारतीय कंज्‍यूमर्स की निर्भरता बढ़ती जा रही है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। ई-कॉमर्स कंपनि‍यों पर भारतीय कंज्‍यूमर्स की निर्भरता बढ़ती जा रही है। कंज्‍यूमर्स को मि‍लने वाली पसंद और आराम देने वाली इन ई-कॉमर्स साइट्स पर हैवी डि‍स्‍काउंट्स पर प्रोडक्‍ट बि‍क रहे हैं। हैवी डि‍स्‍काउंट के झांसे में आकर लोग प्रोडक्‍ट्स तो खरीद लेते हैं लेकि‍न बाद में उनहें नुकसान उठाना पड़ता है। 

 

लोकलसर्कि‍ल की ओर से कि‍ए गए एक सर्वे में बताया गया है कि‍ कि‍न कैटेगरीज के प्रोडक्‍ट्स सबसे ज्‍यादा नकली भेजे जा रहे हैं। ऐसे में अगर आप प्रोडक्‍ट्स को ऑनलाइन खरीद रहे हैं तो सतर्क हो जाएं। लोकलसर्कि‍ल्‍स ने ऑनलाइन बि‍क रहे नकली प्रोडक्‍ट्स के मामले पर कंज्‍यूमर्स के वि‍चार जानने के लि‍ए 12 हजार यूनि‍क कंज्‍यूमर्स का सर्वे कि‍या है। 

 

हैवी डि‍स्‍काउंट पर नकली सामान

 

सर्वे में यह भी कहा गया है कि‍ फैशन, अपैरल्‍स और बैग्‍स कैटेगरी में नकली प्रोडक्‍ट्स की भरमार है। 51 फीसदी लोगों ने कहा है कि‍ उनहें बीते एक साल में इस कैटेगरी के नकली प्रोडक्‍ट्स भेजे गए हैं। इन प्रोडक्‍ट्स पर हैवी डि‍स्‍काउंट के साथ-साथ दूसरे कई ऑफर्स भी दि‍ए जाते हैं। इसके अलावा, 4 फीसदी लोगों ने कहा है कि‍ स्‍पोर्टिंग गुड्स कैटेगरी में भी नकली सामान की डि‍लि‍वरी हो रही है। 

 

आगे पढ़ें...

 

कि‍स कैटेगरी के समान सबसे ज्‍यादा नकली

 

सर्वे में कहा गया है कि‍ नकली प्रोडक्‍ट्स की कैटेगरी में सबसे ऊपर परफ्यूम और दूसरे फ्रेंगनेंस हैं। करीब 34 फीसदी कंज्यूमर्स ने कहा है कि‍ परफ्यूम या दूसरे कि‍सी फ्रेगनेंस के प्रोडक्‍ट्स नकली भेजे जा रहे हैं। 2014 में दि‍ल्‍ली हाई कोर्ट ने एक सेलर को बैन कि‍या था जोकि‍ शॉपक्‍लूज.कॉम पर अपने हर प्रोडक्‍ट के लि‍ए L'Oreal  नाम यूज कर रहा था। 

 

ये प्रोडक्‍ट्स भी नकली

 

सर्वे में आगे कहा गया है कि‍ 11 फीसदी लोगों के मुताबि‍क, शूज कैटेगरी में उनहें नकली प्रोडक्‍ट मि‍ल रहा है। जब प्रोडक्‍ट की डि‍लि‍वरी होने पर पता चलता है कि‍ या तो वह दि‍खने में अलग है या फि‍र उनकी पैकिंग या कलर अलग है। हाल ही में अमेरि‍का के लाइफस्‍टाइल और फुटवि‍यर ब्रांड Skechers ने फ्लि‍पकार्ट और चार सेलर्स को अपने प्‍लेटफॉर्म पर उनके नकली प्रोडक्‍ट्स बेचने का आरोप लगाया था।

 

आगे पढ़ें... 

 

कि‍स कंपनी पर ज्‍यादा नकली प्रोडक्‍ट

 

लोगों ने जब यह पूछा गया कि‍ कौन सी बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी ने बीते एक साल में नकली प्रोडक्‍ट भेजा है, तो जवाब में 12 फीसदी ने स्‍नैपडील, 11 फीसदी ने अमेजन और 6 फीसदी ने कहा फ्लि‍पकार्ट। 71 फीसदी लोग ऐसे हैं जो या तो ऑनलाइन शॉपिंग नहीं करते या उनहें नकली प्रोडक्‍ट नहीं मि‍ला है। 

 

वहीं, मार्केट रि‍सर्च प्‍लेटफार्म वेलोसि‍टी एमआर द्वारा कि‍ए गए एक दूसरे सर्वे में पाया गया कि‍ बीते छह माह में हर तीसरे ऑनलाइन शॉपिंग करने वाले को नकली प्रोडक्‍ट्स मि‍ले हैं। इस सर्वे में 3,000 लोगों को शामिल कि‍या गया।   

 

सर्वे में लोगों ने क्‍या कहा  

 

पहले पोल में 6,923 लोगों में से 38 फीसदी कंज्‍यूमर्स ने कहा कि‍ उनहें बीते एक साल में ई-कॉमर्स साइट से नकली प्रोडक्‍ट मि‍ले हैं। 45 फीसदी ने कहा कि‍ उनके साथ ऐसा नहीं हुआ है जबकि‍ 17 फीसदी ने कहा है कि‍ वह इसके बारे में कुछ नहीं जानते।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट