बिज़नेस न्यूज़ » Industry » E-CommerceCAIT ने वॉलमार्ट-फ्लि‍पकार्ट डील के खि‍लाफ CCI में दायर की याचि‍का

CAIT ने वॉलमार्ट-फ्लि‍पकार्ट डील के खि‍लाफ CCI में दायर की याचि‍का

CAIT ने कहा है कि‍ इस डील से अनुचि‍त प्रति‍स्‍पर्धा पैदा होगी और घरेलू कंपनि‍यों को बराबरी का मौका नहीं मि‍लेगा।

CAIT ने वॉलमार्ट-फ्लि‍पकार्ट डील के खि‍लाफ CCI में दायर की याचि‍का

नई दि‍ल्‍ली। ट्रेडर्स बॉडी कॉन्‍फेडरेशन ऑफ ऑल इंडि‍या ट्रेडर्स (CAIT) ने कहा है कि‍ उन्‍होंने वॉलमार्ट-फ्लि‍पकार्ट डील के खि‍लाफ कॉम्‍पीटि‍शन कमीशन ऑफ इंडि‍या (सीसीआई) में अपनी याचि‍का दायर की है। CAIT ने कहा है कि‍ इस डील से अनुचि‍त प्रति‍स्‍पर्धा पैदा होगी और घरेलू कंपनि‍यों   को बराबरी का मौका नहीं मि‍लेगा। CAIT ने कहा है कि डील से नॉन प्रेफर्ड सेलर्स को मार्केट में पहुंच नहीं मि‍ल पाएगी और इससे ऑफलाइन प्‍लेटफॉर्म के छोटे ट्रेडर्स पर भी असर पड़ेगा। 

 

CAIT ने क्‍या कहा

 

CAIT ने बयान में कहा है कि वॉलमार्ट-फ्लि‍पकार्ट के खि‍लाफ सीसीआई में अपनी आपत्‍ति‍ याचि‍का दायर की है। उन्‍होंने आरोप लगाया है कि‍ इन दो कंपनि‍यों के वि‍लय से अनुचि‍त प्रति‍स्‍पर्धा पैदा होगी और इस क्षेत्र में बराबरी का मौका नहीं मि‍लेगा। इसके अलावा, ये कंपनि‍यां पहले से कीमतें तय करने और भारी डि‍स्‍काउंट का फायदा उठाएंगी। 

 

CAIT का दावा

 

CAIT ने दावा कि‍या है कि फ्लि‍पकार्ट एक एक्‍सक्‍लूजि‍व टाई-अप्‍स और खास सेलर्स का कम्‍बि‍नेशन है जहां ऑनलाइन वेंडर्स को भी पक्षपात का सामना करना पड़ता है। वहीं, वॉलमार्ट फ्लि‍पकार्ट.कॉम के प्‍लेटफॉर्म पर मौजूद इंवेंटरी को सीधे या एसोसिएटेड प्रेफ्रर्ड सेर्ल्‍स के जरि‍ए बेचेगी।  उन्‍होंने यह भी कहा है कि‍ इससे ऑफलाइन और ऑनलाइन सेलर्स दोनों का नुकसान होगा। 

 

वॉलमार्ट दे रही है पॉलि‍सी को धोखा

 

CAIT ने कहा कि‍ यह डील कानून और सरकार की एफडीआई पॉलि‍सी को धोखा देने के लि‍ए है क्‍योंकि‍ वॉलमार्ट का असल मकसद देश के रि‍टेल ट्रेड में उतरा है। ई-कॉमर्स या रि‍टेल ट्रेड पर पॉलि‍सी का अभाव है, इसलि‍ए वॉलमार्ट के लि‍ए रि‍टेल मार्केट तक पहुंचने का यह आसान तरीका है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट