Home » Industry » E-Commerceciti research report says amazon india will be aggressive, 2027 तक 70 अरब डॉलर हो जाएगी अमेजन इंडि‍या की GMV

रि‍पोर्ट: 2027 तक 70 अरब डॉलर हो जाएगी अमेजन इंडि‍या की GMV, एग्रेसि‍व ढंग से बढ़ेगी आगे

अमेजन का मार्केट शेयर भारत में 30 फीसदी हो गया है और वह 16 अरब डॉलर की कंपनी बन गई है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन का मार्केट शेयर भारत में 30 फीसदी हो गया है और वह 16 अरब डॉलर की कंपनी बन गई है। यह बात सि‍टी रि‍सर्च की नई रि‍पोर्ट में कही गई है। वहीं, फ्लि‍पकार्ट का मार्केट शेयर भी 30 फीसदी ही है। फ्लि‍पकार्ट ने हाल ही में वॉलमार्ट को 77 फीसदी हि‍स्‍सेदारी देने के बदले 16 अरब डॉलर का इन्‍वेस्‍टमेंट लि‍या है।   

 

फोर्ब्‍स की रि‍पोर्ट के मुताबि‍क, सि‍टी रि‍सर्च के लेखक मार्क मे और हू यान ने कहा कि‍ चीन में नि‍राशाजनक परि‍णामों के बाद अमेजन के फाउंडर जेफ बेजोस भारत में अपनी जीत को पुख्‍ता करना चाहते हैं। भारत अलगे एक दशक में सबसे बड़े और सबसे तेजी से बढ़ने वाले ई-कॉमर्स मार्केट्स में से एक है। दूसरे शब्दों में कहें तो अमेजन वि‍देशी ई-कॉमर्स मार्केट पर कब्‍जा करने की जंग लड़ रहा है और वॉलमार्ट ने उसकी यह चुनौती स्‍वीकार की है।  

 

भारतीय ई-कॉमर्स मार्केट का यूनि‍क फीचर

 

सि‍टी के मुताबि‍क, भारतीय ई-कॉमर्स मार्केट का एक यूनि‍क फीचर यह है कि‍ कानूनी लि‍हाज से ई-कॉमर्स कंपनी केवल मार्केटप्‍लेस के तौर काम कर सकती है। ई-कॉमर्स कंपनि‍यों के लि‍ए भारत में काफी संभावनाएं हैं। 1.3 अरब लोगों के देश में केवल करीब 6 फीसदी व्‍यस्‍क जनसंख्‍या के पास क्रेडि‍ट कार्ड है और यह मामला सालाना 25 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रहा है। भारत में 4.8 करोड़ इंटरनेट यूजर्स हैं और यह भी 25 फीसदी की ग्रोथ रेट से बढ़ रहे हैं।  

 

70 अरब डॉलर हो जाएगा अमेजन का जीएमवी

 

भारत में अमेजन ने 2013 में एंट्री की थी लेकि‍न अब तक उसे मुनाफे का इंतजार है। लेकि‍न कंपनी ने भारतीय ई-कॉमर्स मार्केट के करीब 30 फीसदी मार्केट पर कब्‍जा कर लि‍या है और वह 2027 तक 23 फीसदी की सालाना ग्रोथ को हासि‍ल कर सकती है। इसका मतलब है कि‍ अमेजन इंडि‍या का ग्रॉस मर्चेंडाइज वॉल्‍यूम (जीएमवी) 70 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा और रेवेन्‍यू 11 अरब डॉलर।  

 

फ्लि‍पकार्ट की जीएमवी कि‍तनी?

 

मौजूदा समय में फ्लि‍पकार्ट और उसकी सब्‍सि‍डयरी मिंत्रा 7.5 अरब डॉलर का एनुअल जीएमवी हासिल कर रही है। वॉलमार्ट के 16 अरब डॉलर इन्‍वेस्‍टमेंट के साथ कंपनी तेजी से बढ़ सकती है, खासतौर से कंपनी ग्रोसरी सेगमेंट का वि‍स्‍तार कर सकती है। सि‍टी के अनुमान के मुताबि‍क, अमेजन इंडि‍या करीब 5 अरब डॉलर जीएमवी के साथ दूसरे नंबर पर है। इसका यह भी मतलब है कि‍ अमेजन को एग्रेसि‍व होने की जरूरत है और यही सीईओ जेफ बेजोस के इरादे भी हैं। 

 

जेफ बेजोस को चीन से मि‍ली सीख

 

मे और यान ने लि‍खा है की अमेजन के फाउंडर एंड सीईओ जेफ बेजोस ने बीते साल बताया था कि‍ उन्‍होंने चीन में एक अहम पाठ सीखा है जि‍से वह भारत में दोहराना नहीं चाहते। वह है पर्याप्‍त एग्रेसि‍व नहीं होना और पर्याप्‍त इन्‍वेस्‍टमेंट नहीं करना। 

 

सि‍टी ने कहा कि‍ यही वजह है कि‍ अमेजन इंडि‍या के इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और ग्रोथ को बनाने के लि‍ए कंपनी 5 अरब डॉलर का इन्‍वेस्‍टमेंट करने के लि‍ए प्रति‍बद्ध है। कंपनी के पास पहले से ही 42 फुलफि‍लमेंट सेंटर्स, 150 डि‍लि‍वरी स्‍टेशन और 25 सोर्टेशन सेंटर्स हैं। रि‍पोर्ट के मुताबि‍क, अगले साल भारत का ई-कॉमर्स सेक्‍टर बढ़कर 202 अरब डॉलर का हो जाएगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss