Home » Industry » E-CommerceUS and china dominate in e commerce industry across world

खास खबर: ई-कॉमर्स की पि‍च पर खेलेंगे सि‍र्फ US-चीन, भारत ही नहीं पूरी दुनिया पर किया कब्जा

अमेरि‍का से चीन तक और अब भारत में हर जगह ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों लेकर गि‍नी चुनी जगह पर ही जाते हैं।

1 of
 
नई दि‍ल्‍ली। अमेरि‍का से चीन तक और अब भारत में हर जगह ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों को गि‍नेे चुनेे  वि‍कल्‍प मि‍लेंगे। ऐसा इसलि‍ए है क्‍योंकि‍ अमेरि‍का और चीन की कंपनि‍यों ने लोगों के सामने ज्‍यादा ऑप्‍शन ही नहीं छोड़े हैं। चाहे अमेजन हो, या अलीबाबा या फि‍र जेडी.कॉम और अब वॉलमार्ट, तकरीबन हर देश में आपको यही वेबसाइट्स बि‍जनेस करती हुई मि‍लेंगी। एक्‍सपर्ट्स के मुताबि‍क, ऐसा इसलि‍ए है क्‍योंकि‍ इन कंपनि‍यों के पास खास तरह की ग्‍लोबल स्‍कि‍ल सेट है। हाल ही में वॉलमार्ट ने भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लि‍पकार्ट की 77 फीसदी हि‍स्‍सेदारी खरीदने की डील की है। इस डील के साथ यह भी तय हो गया है कि‍ जैसा दुनि‍या भर में हुआ, वैसा ही अब भारत में भी होगा। जहां केवल 3 कंपनि‍यों का ही कब्‍जा रहेगा। 

 
 
इंडि‍यन ई-कॉमर्स में होगा 3  कंपनि‍यों का राज
Greyhound के फाउंडर और सीईओ संचि‍त गोगि‍या ने बताया कि‍ भारत में बि‍ग3 यानी वॉलमार्ट (फ्लि‍पकार्ट शामि‍ल), अमेजन और अलीबाबा (पेटीएम) के बीच में कॉम्‍पीटि‍शन रहने वाला है। उन्‍होंने अपनी रि‍पोर्ट में कहा कि‍ आने वाले दि‍नों में वह स्‍पेशलाइज्‍ड ई-कॉमर्स कंपनि‍यों को खरीदेंगी। कुल मि‍लाकर हमारा मानना है कि इंडि‍यन ई-कॉमर्स में केवल इन तीन बड़े नामों का ही कब्‍जा रहेगा। 
 
 
केवल ग्‍लोबल स्‍किल सेट वाली कंपनि‍यों का कब्‍जा
संचि‍त गोगि‍या ने बताया कि‍ दुनि‍या भर की ई-कॉमर्स इंडस्‍ट्री में केवल उन्‍ही कंपनि‍यों का कब्‍जा है जि‍नके पास ई-कॉमर्स इंडस्‍ट्री का ग्‍लोबल स्‍कि‍ल सेट है। इसमें अमेजन और अलीबाबा के पास महारत है। वहीं, वॉलमार्ट भी धीरे-धीरे दूसरे देशों में ऑनलाइन स्‍पेस में उतरने के बाद भारत में आ गई है। 
 
भारत नहीं साउथ ईस्‍ट एशि‍या में प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनि‍यां
 
सिंगापुर
कंपनि‍यां प्रमुख शेयरहोल्‍डर
Qoo10 ईबे, सिंगापुर प्रेस होल्‍डिंग
Lazada 83 फीसदी अलीबाबा
Ezbuy वैंचर कैपि‍टल फंड
Zalora रॉकेट इंटरनेट
Amazon Prime Now अमेजन.कॉम
 
इंडि‍या
कंपनि‍यां प्रमुख शेयरहोल्‍डर्स
अमेजन अमेजन.कॉम
फ्लि‍पकार्ट सॉफ्टबैंक, टेनसेंट, ईबे, माइक्रोसॉफ्ट, नेस्‍पर्स
स्‍नैपडील सॉफ्टबैंक, अलीबाबा
पेटीएम पेटीएम, अलीबाबा
 
इंडोनेशि‍या
कंपनि‍यां प्रमुख शेयरहोल्‍डर्स
Lazada 83 फीसदी अलीबाबा
Akulaku वेंचर कैपि‍टल
Elevenia एसके प्‍लेनेट (एस.कोरि‍या), एजि‍याटा ग्रुप (मलेशि‍या)
Blibli वेंचर कैपि‍टल
Jd.id जेडी.कॉम (चीन)
 
मलेशि‍या
कंपनि‍यां प्रमुख शेयरहोल्‍डर्स
Lazada 83 फीसदी अलीबाबा
Zalora रॉकेट इंटरनेट
11 street Malaysia एसके प्‍लेनेट (एस.कोरि‍या), एजि‍याटा ग्रुप (मलेशि‍या)
 
थाईलैंड
कंपनि‍यां प्रमुख शेयरहोल्‍डर्स
Lazada 83 फीसदी अलीबाबा
11 street Thailand एसके प्‍लेनेट (एस.कोरि‍या), एजि‍याटा ग्रुप (मलेशि‍या)
(स्रोत: नि‍क्‍कई, एशि‍या रिव्‍यू)
 
 
वॉलमार्ट की ऑनलाइन शॉपिंग
 
अगस्‍त 2016 में वॉलमार्ट ने जेट.कॉम को 3 अरब डॉलर में खरीदा था। जेट.कॉम को खरीदने के बाद ही वॉलमार्ट को ई-कॉमर्स की ताकत समझ आ गई थी। वॉलमार्ट ने अपने ऑनलाइन मार्केट को ही नहीं बढ़ाया बल्‍कि‍ उन्‍होंने मार्क लोर को यूएस ई-कॉमर्स का हेड भी बनाया। मार्क लोर का इति‍हास बेजोस से साथ रहा है। मार्क ने अपनी कंपनी बेजोस को बेची थी और दो साल तक अमेजन में काम कि‍या था। लेकि‍न जेट.कॉम को शुरू करने के लि‍ए उन्‍होंने अमेजन छोड़ दि‍या।
 
वॉलमार्ट ने जनवरी 2017 में ई-कॉमर्स कंपनी शूबाय को खरीदा। इसके बाद, आउटडोर अपैरल रि‍टेलर Moosejaw को फरवरी में, वूमनवीयर साइट Modcloth  को मार्च में और डि‍लि‍वरी कंपनी Parcelको सितंबर में खरीदा था।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट