बिज़नेस न्यूज़ » Industry » E-Commerceफ्लिपकार्ट की 51% स्टेक खरीदने के करीब वालमार्ट, 78 हजार करोड़ रु तक हो सकती है डील

फ्लिपकार्ट की 51% स्टेक खरीदने के करीब वालमार्ट, 78 हजार करोड़ रु तक हो सकती है डील

वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट को खरीदने की तैयारी पूरी कर ली है।

1 of

नई दिल्ली. वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट को खरीदने की तैयारी पूरी कर ली है। रॉयटर्स के मुताबिक अमेरिकी कंपनी भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी की 51 फीसदी या ज्यादा हिस्सेदारी खरीदना चाहती है। इसके साथ ही वालमार्ट पहले ही शेयरहोल्डर एग्रीमेंट या ऑफर प्रपोजल जारी कर चुकी है और स्टेक खरीदने के लिए 10-12 अरब डॉलर (65 हजार करोड़ से 78 हजार करोड़ रुपए) चुकाने पर विचार कर रही है। अगर इस कीमत पर डील होती है तो फ्लिपकार्ट की वैल्यू लगभग 20 अरब डॉलर (1.30 लाख करोड़ रुपए) हो सकती है।

एक अन्य सूत्र ने कहा कि अभी तक डील फाइनल नहीं हुई है, साथ ही दोनों कंपनियों और फ्लिपकार्ट के इन्वेस्टर्स के बीच बातचीत जारी है।

 

 

डील से बढ़ेंगी अमेजन की मुश्किलें
वालमार्ट और फ्लिपकार्ट के बीच किसी भी तरह की डील से भारत में अमेजन की मुश्किलें बढ़ जाएंगी। मीडिया में कुछ ऐसी भी खबरें आई हैं कि अमेजन भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी को खरीदने के लिए बड़ा ऑफर देने की संभावनाएं खंगाल रही है। अमेजन दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी है और उसे सबसे भारत में सबसे तगड़ी चुनौती फ्लिपकार्ट से ही मिल रही है। इसके साथ ही अमेजन की भारतीय बाजार में पैठ बढ़ाने के लिए हजारों करोड़ रुपए खर्च करने की योजना है।

 

 

अनुमान से ज्यादा हिस्सेदारी खरीदेगी वालमार्ट
वहीं वालमार्ट पहले की चर्चाओं की तुलना ज्यादा हिस्सेदारी खरीदने पर विचार कर रही है। रॉयटर्स की फरवरी की रिपोर्ट के मुताबिक वालमार्ट, फ्लिपकार्ट की 40 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए बातचीत कर रही है, जो उसकी अब तक की सबसे बड़ी ओवरसीज डील हो सकती है। फ्लिपकार्ट में सॉफ्टबैंक ग्रुप, टाइगर ग्लोबल, ईबे, ऐस्सेल पार्टनर्स, नैसपर्स, टेनसेंट होल्डिंग्स और माइक्रोसॉफ्ट कॉर्प का भी निवेश है।

 

 

200 अरब डॉलर का हो सकता है ई-कॉमर्स मार्केट
इस संबंध में वालमार्ट और फ्लिपकार्ट ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। सॉफ्टबैंक ने भी इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, वहीं एक अन्य इन्वेस्टर टाइगर से संपर्क नहीं हो सका।
अमेजन के दो पूर्व इम्प्लाॉइज द्वारा शुरू की गई फ्लिपकार्ट इन दिनों भारतीय बाजार में अमेजन को टक्कर दे रही है। मॉर्गन स्टैनली के मुताबिक भारतीय ई-कॉमर्स बाजार एक दशक में 200 अरब डॉलर का हो सकता है।
वालमार्ट के निवेश से फ्लिपकार्ट को अमेजन को चुनौती देने के लिए अतिरिक्त फंड मिलेगा, साथ ही कंपनी अपनी रिटेलिंग, लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन मैनेजमेंट को मजबूत बना सकेगी।

 

 

भारत में 5 अरब डॉलर का निवेश करेगी अमेजन
इस डील से एशिया की तीसरी बड़ी इकोनॉमी में अमेजन को सीधे तौर पर चुनौती मिलेगी। अमेजन ने अपने ऑनलाइन ग्रॉसरी मार्केट में विस्तार के लिए 5 अरब डॉलर के निवेश की प्रतिबद्धता जाहिर की है।
रिपोर्ट के मुताबिक वालमार्ट प्राइमरी और सेकंडरी शेयर परचेज के माध्यम से फ्लिपकार्ट की मेजॉरिटी स्टेक खरीदेगी, जिससे भारतीय कंपनी की वैल्यु 21 अरब डॉलर हो सकती है।

 

 

40 फीसदी मार्केट पर है फ्लिपकार्ट का कब्जा
अमेजन के पूर्व इम्प्लॉई सचिन बंसल और बिनी बंसल द्वारा वर्ष 2007 में स्थापित फ्लिपकार्ट का भारत के 40 फीसदी ऑनलाइन रिटेल मार्केट पर कब्जा है। रिसर्च कंपनी फॉरेस्टर के मुताबिक अमेजन फिलहाल फ्लिपकार्ट से पीछे है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट