विज्ञापन
Home » Industry » E-CommerceSuccess Story: Story of Pabiben Rabari

हुनर के दम पर बदली किस्मत, कभी पाई-पाई को थी मोहताज, अब खड़ा किया लाखों का कारोबार

जानिए, महज 1 रुपए में घरों में पानी भरकर गुजारा करने वालीं इस महिला की पूरी कहानी

1 of

नई दिल्ली. पाबीबेन लक्ष्मण राबड़ी गुजरात के कच्छ जिले के अजनार तालुका गांव में रहती है। एक वक्त ऐसा था कि पापीपेन मेहनत मजदूरी करने को मजबूर थी। महज चौथी कक्षा तक पढ़ीं 'पाबीबेन' ने अपने हुनर के बल पर 20 लाख रुपए सालाना के टर्नओवर वाला व्यवसाय खड़ा कर दिया है।


गरीबी में बीता बचपन

सीएनबीसी के मुताबिक पाबीबेन का जीवन काफी संघर्षों में बीता। बचपन में उनके पिता का देहांत हो गया और सारी जिम्मेदारी उनकी मां के कंधों पर आ गई। ऐसे में परिवार का खर्च चलाने के लिए पाबीबेन ने महज एक रुपए में लोगों के घरों में पानी भरने का काम किया। इसी दौरान उन्होंने अपनी मां से अपनी कढ़ाई का काम सीखा और धीरे-धीरे पारंपरिक 'हरी-जरी' नाम की कढ़ाई करने में महारत हासिल की।

 

हुनर को न मिला नाम तो शुरू किया खुद का कारोबार

पाबीबेन ने कढ़ाई के दम पर कई गुजरात में चर्चा होने लगी, तो कुछ गुजरात की कई संस्थाएं पाबीबेन से कढ़ाई का काम करने लगी और बदले में उन्हें मजदूरी दे देती थी। लेकिन पाबिबेन को एक बात हमेशा परेशान करती थी कि एक कारीगर के तौर पर उन्हें उनकी कला की पहचान नहीं मिल रही थी। एक कारीगर को उसकी कला की पहचान मिल सके। ऐसे में उन्होंने लगभग ढाई साल पहले अपना खुदा का कारोबार शुरू किया।

बिजनेस में ऐसे किया निवेश

पाबीबेन ने 20-25 हजार रुपए से बिजनेस शुरू किया था। इसके बदले उन्हें 70 हजार रुपए का बड़ा ऑर्डर मिला। इस तरह बिजनेस रफ्तार पकड़ता चला गया। उनकी एक वेबसाइट पाबीबेन.कॉम भी है। उनके साथ गांव की 50-60 महिलाएं जुड़ गई हैं, जो मिलकर 'हरी-जरी' नाम की कढ़ाई से 20 प्रकार से ज्यादा डिजायनों के बैग बनाती हैं। साथ ही ये महिलाएं पार्ट टाइम भी काम करती है। पाबीबेन अपने समुदाय की पहली महिला हैं जिन्होंने कोई कारोबार खड़ा किया है।

 

कैसे फैला पाबीबेन का बिजनेस

पाबीबेन के साथ एक अजीब वाक्या हुआ, जब उनके घर की शादी को देखने एक विदेशी पर्यटक आए। उन्होंने स्थानीय रीति-रिवाज को निभाते हुए अपने हाथ का बना बैग विदेशी पर्यटकों को दे दिया। जिसे उन्होंने पाबीबैग के नाम से प्रसिद्ध कर दिया। पाबीबेन का बिजनेस दुनिया के कई देशों में फैल चुका है। अमेरिका, जर्मनी, कोस्टा रिका, ब्रिटेन, दुबई जैसे कई देशों में उनके प्रोडक्ट्स की काफी डिमांड हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन