बिज़नेस न्यूज़ » Industry » E-Commerceडील पर फ्लिपकार्ट के सीईओ ने सेलर्स को किया आश्वस्त

डील पर फ्लिपकार्ट के सीईओ ने सेलर्स को किया आश्वस्त

देश की सबसे बड़ी ई—कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट की वॉलमार्ट से डील के बाद सेलर्स के बीच कई तरह की आशंका चल रही है।

No change in the operating processes Flipkart CEO Kalyan Krishnamurthy to sellers

नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी ई—कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट की वॉलमार्ट से डील के बाद सेलर्स के बीच कई तरह की आशंका चल रही है। लेकिन इन आशंकाओं पर कंपनी के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति ने विराम लगाते हुए सेलर्स को आश्वस्त किया है। उन्होंने अपने सेलर्स को आज आश्वस्त करते हुए कहा कि वालमार्ट द्वारा अधिग्रहण के बाद भी उसके आॅपरेशंस के तरीके में कोई बदलाव नहीं होगा। 

 

- उन्होंने कहा कि फ्लिपकार्ट और वॉलमार्ट अलग - अलग ब्रांड होंगे और आॅपरेशंस का ढांचा भी अलग होगा।

- उन्होंने कहा कि फ्लिपकार्ट एक ऐसा प्लेटफॉर्म बना रहेगा जो देश भर के सेलर्स को उपभोक्ताओं से जुड़ने का अवसर प्रदान करेगा। 

- इस बीच फ्लिपकार्ट और अमेजन जैसी ई - कॉमर्स कंपनियों के 3,5०० सेलर्स के संगठन ऑल इंडिया ऑनलाइन वेंडर्स एसोसिएशन के एक प्रवक्ता ने कहा कि वॉलमार्ट किस तरह फ्लिपकार्ट पर कंट्रोल बढ़ाती है , इसपर हमारी नजर रहेगी। 

 

 

बता दें कि कल्‍याण कृष्‍णमूर्ति‍ को जनवरी 2017 में तब फ्लिपकार्ट का सीईओ बनाया गया था। जब कंपनी की वैल्‍यूएशन घट रही थी। वहीं, अमेजन से भी कंपनी को कड़ी टक्‍कर मि‍ल रही थी। ऐसे समय में कल्‍याण कृष्‍णमूर्ति‍ ने कंपनी को संभाला और फंडि‍ग लाने केे साथ-साथ कड़े फैसले लि‍ए। अपने कार्यकाल के दौरान कृष्‍णमूर्ति‍ कंपनी को उस लेवल तक ले गए जहां वह देश की सबसे कामयाब ई-कॉमर्स वेबसाइट है। इसी के चलते आज वॉलमार्ट के साथ 1 लाख करोड़ की डील हो सकी है। 
  
4 साल में फ्लिपकार्ट को बनाया नंबर-1  
 
कल्‍याण कृष्‍णमूर्ति‍ ने 2013 में चीफ फाइनेंशि‍यल ऑफि‍सर के रूप में फ्लिपकार्ट ज्‍वॉइन की। इसके बाद जब सचि‍न ने सीईओ का पद छोड़ा तो जनवरी 2017 में कृष्‍णमूर्ति‍ को कंपनी का सीईओ बनाया गया। यह वह समय था जब अमेजन चीन में अलीबाबा से पि‍छड़ने के बाद भारत में अपनी मार्केटि‍ंग पर और ज्‍यादा अग्रेसि‍व स्‍ट्रेटजी अपना रही थी। अमेजन ने लोगों को अपनी ओर खींचने के लि‍ए करीब 5.5 अरब डॉलर का इनवेस्‍टमेंट प्‍लान बनाया था। लेकि‍न कृष्‍णमूर्ति‍ की ओर से नई पॉलि‍सी और टॉप मैनेजमेंट लेवल पर कि‍ए गए बदलाव के चलते फ्लिपकार्ट ने सि‍र्फ 4 साल में अमेजन को पीछे छोड़ नंबर एक कंपनी की पॉजि‍शन हासि‍ल कर ली। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट