विज्ञापन
Home » Industry » E-CommerceMan faced online fraud while cancellation his order

Zomato से खाना मंगाना पड़ा भारी, एक प्लेट बिरयानी के काट लिए इतने हजार रुपए

ऑनलाइन साइट्स पर खाना ऑर्डर करने के लिए ग्राहकों को मिलते हैं कई ऑफर

Man faced online fraud while cancellation his order

Man faced online fraud while cancellation his order आज के समय  में कपड़े खरीदने से लेकर खाना ऑर्डर करने तक सभी काम ऑनलाइन हो जाते हैं। लेकिन कभी-कभी ऑनलाइन खरीदारी से लोगों को काफी नुकसान भी उठाना पड़ता है। अक्सर लोग भूख लगने पर ऑनलाइन फूड ऑर्डर करते हैं। भारत में कई ऐसी ऑनलाइन फूड कंपनियां हैं जो ग्राहकों की ओर से ऑर्डर किए गए फूड को घर तक पहुंचाती है। ऑनलाइन साइट्स पर खाना ऑर्डर करने के लिए ग्राहकों को कईं ऐसे ऑफर्स मिलते हैं जिससे कम पैसों में लोग स्वादिष्ट खाने का मजा ले सकते हैं।

नई दिल्ली। आज के समय  में कपड़े खरीदने से लेकर खाना ऑर्डर करने तक सभी काम ऑनलाइन हो जाते हैं। लेकिन कभी-कभी ऑनलाइन खरीदारी से लोगों को काफी नुकसान भी उठाना पड़ता है। अक्सर लोग भूख लगने पर ऑनलाइन फूड ऑर्डर करते हैं। भारत में कई ऐसी ऑनलाइन फूड कंपनियां हैं जो ग्राहकों की ओर से ऑर्डर किए गए फूड को घर तक पहुंचाती है। ऑनलाइन साइट्स पर खाना ऑर्डर करने के लिए ग्राहकों को कईं ऐसे ऑफर्स मिलते हैं जिससे कम पैसों में लोग स्वादिष्ट खाने का मजा ले सकते हैं। लेकिन हाल ही में ऑनलाइन खाना मंगाना एक आदमी के लिए काफी महंगा पड़ गया। 

 

जोमैटो से खाना मंगाना पड़ा महंगा


बिहार के निशांत राज नाम के व्यक्ति को एक प्लेट बिरयानी के लिए हजारों रुपए चुकाने पड़ गए। निशांत राज बंगाल घूमने गया था। यहां वह एक परिचित के यहां ठहरा था। एक दिन घर पहुंचने से पहले ही उसने एक प्लेट बिरयानी का आर्डर ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी जोमेटो से कर दिया। लेकिन घर पहुंचने पर देखा कि खाना बना हुआ है तो वह आर्डर कैंसिल करने के लिए जोमैटो (Zomato) के कस्टमर्स केयर का नंबर गूगल से सर्च किया। निशांत का कहना है कि नंबर पर कॉल करने पर उसे बताया गया कि कैंसिलेशन का पैसा आपके खाते में वापस आ जाएगा, इसके लिए एक ऐप डाउनलोड करना होगा।

 

अकाउंट से कटे हजारों रुपए


निशांत ने जैसे ही वह ऐप डाउनलोड किया, कुछ देर बाद ही उसके मोबाइल फोन पर मैसेज आने शुरू हो गए। थोड़ी ही देर में उसके बैंक अकाउंट से तीन बार में 19999, 19999 और 9999 रुपये कटने के मैसेज आ गए। हालांकि निशांत को समझते देर नहीं लगी कि उसके साथ धोखाधड़ी हुई है। वह तुरंत नजदीकी पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराने पहुंचा, लेकिन न तो पुलिस और न ही साइबर अपराध शाखा में उसका मुकदमा दर्ज किया गया।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन