Home » Industry » E-CommerceZuckerberg once again admitted his lapses on data leak

डाटा लीक: जुकरबर्ग फिर बोले-यह बड़ी गलती और मेरी भूल, एक मौका और मिले

जुकरबर्ग ने बिना यूजर्स की मंजूरी के उनका डाटा लीक करने पर एक बार फिर माफी मांगी है।

1 of

वाशिंगटन. फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने बिना यूजर्स की मंजूरी के उनका डाटा लीक करने पर एक बार फिर माफी मांगी है। इसके साथ ही जुकरबर्ग ने फेसबुक को लीड करने का एक और मौका भी मांगा। फेसबुक डेटा लीक मामले में बुधवार को एक नया खुलासा हुआ था। फेसबुक के अनुसार, पॉलिटिकल कंसल्टेंसी फर्म कैंब्रिज एनालिटिका के साथ 5 करोड़ नहीं बल्कि 8.70 करोड़ से ज्यादा फेसबुक यूजर्स का डेटा शेयर हुआ था। इनमें से ज्यादातर अमेरिकी हैं। इनमें भारतीय यूजर्स की संख्‍या 5.62 लाख है। 

 

डाटा लीक पर कहा- यह मेरी गलती 
मार्क जुकरबर्ग फेसबुक के को-फाउंडर हैं। उन्‍होंने 2004 में फेसबुक की स्‍थापना की थी। फेसबुक यूजर्स का डाटा लीक मामले में भारी विरोध झेल रहे जुकरबर्ग ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा, 'यह एक भारी चूक है। यह मेरी गलती है।' फेसबुक को लीड करने के लिए क्‍या अभी भी वह (जुकरबर्ग) सही व्‍यक्ति हैं, इस सवाल के जवाब में जुकरबर्ग ने कहा, 'मुझे एक और मौका दें।' उन्‍होंने कहा, हां, लोग गलतियां करते हैं और उसी से सीखते हैं। मैं सबसे पहले यह स्वीकार करता हूं कि हमने हमारी जिम्‍मेदारियां क्या हैं, इस पर विचार नहीं किया। 

 

 

मुझसे पद छोड़ने के लिए नहीं कहा गया 
जुकरबर्ग ने कहा कि उन्‍हें यह नहीं पता है कि बोर्ड ने डाटा लीक स्‍कैंडल सामने के आने के बाद उनसे पद छोड़ने के लिए कहा था। क्‍या इस स्‍कैंडल के बाद बोर्ड ने क्‍या आपसे (जुकरबर्ग) पद छोड़ने के लिए कहा था, इस सवाल के जवाब में जुकरबर्ग ने कहा, 'मुझे इसकी जानकारी नहीं है। इस स्‍कैंडल के चलते किसी को भी नौकरी से नहीं निकाला गया।' उन्‍होंने कहा, 'इसको लेकर कई सवाल हैं। मैंने इस जगह को शुरू किया। मैं इसे चलाता हूं। जो भी हुआ उसके लिए मैं जिम्‍मेदार हूं। हमने जो गलतियां कीं, उसके मैं किसी दूसरे को जिम्‍मेदार नहीं ठहरा रहा हूं।'
 
बिजनेस पर नहीं हुआ खास असर 
जुकरबर्ग ने कहा कि स्‍कैंडल से उनके बिजनेस को कोई खास नुकसान नहीं हुआ है। उन्‍होंने कहा, मैं नहीं मानता कि कोई खास असर हुआ है, जैसाकि हम अनुमान लगा रहे थे। फिर भी, ये चीजें अच्‍छी नहीं है। लोग अभी भी बात कर रहे हैं कि यह लीक भरोसे के साथ बड़ा धोखा है। और, हमें इसे सही करने के लिए बहुत कुछ करना है। जुकरबर्ग ने कहा कि फेसबुक की इस समस्‍या को सुझलाने में कुछ साल लग सकते हैं। 

 

फेसबुक पर ये 6 बदलाव की तैयारी

कंपनी के चीफ प्राइवेसी ऑफिसर एरिन एगन ने कहा कि फेसबुक पर प्राइवेसी सेटिंग्स और मेन्यू को आसान बनाया जा रहा है, ताकि उपयोगकर्ता उनमें आसानी से बदलाव कर सकें। इसके साथ ही प्राइवेसी शॉर्टकट मेन्यू भी बनाए जा रहे हैं जिनसे उपयोगकर्ता का अपने अकाउंट और निजी जानकारियों पर पहले से ज्यादा नियंत्रण रहेगा। वे इसकी समीक्षा कर सकेंगे कि उन्होंने क्या शेयर किया है और उसे डिलीट कर सकेंगे। साथ ही, वे सभी पोस्ट जिन पर उपयोगकर्ता ने रिएक्ट किया है, जो फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी हैं और फेसबुक पर जिसके बारे में सर्च किया है, सभी की समीक्षा की जा सकेगी।
फेसबुक के साथ शेयर किए डेटा को डाउनलोड भी कर सकेंगे। इसमें अपलोड किए गए फोटो, कांटेक्ट्स और टाइमलाइन पर मौजूद पोस्ट को डाउनलोड किया जा सकेगा। इसे किसी दूसरी जगह शेयर करने की भी सुविधा होगी। कंपनी बताएगी कि उपयोगकर्ताओं से किस तरह की जानकारी ली जा रही है और उसका क्या उपयोग किया जा रहा है। तीसरे पक्ष के एप डेवलपर्स के लिए उपलब्ध निजी डेटा को भी प्रतिबंधित किया जाएगा।

 

 

आगे पढ़ें... क्‍या है पूरा मामला? 

 

क्या है मामला?
अमेरिकी और ब्रिटिश मीडिया ने पिछले महीने दावा किया था कि कैंब्रिज एनालिटिका ने 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स के डेटा का अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में गलत इस्तेमाल किया था। 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप ने इस कंपनी की सेवाएं ली थी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट