Home » Industry » E-CommerceGovt looks to check sale of fake goods online

ई-कॉमर्स कंपनि‍यों ने बेचा नकली समान तो मि‍लेगा रिफंड, सरकार बना रही है सि‍स्‍टम

कंज्‍यूमर्स को मुआवजा देने के लि‍ए सरकार एक प्रणाली बनाने पर वि‍चार कर रही है।

Govt looks to check sale of fake goods online

नई दि‍ल्‍ली। ई-कॉमर्स प्‍लेटफॉर्म पर बिकने वाले नकली प्रोडक्‍ट्स को रोकने और कंज्‍यूमर्स को रिफंड देने के लि‍ए सरकार एक प्रणाली बनाने पर वि‍चार कर रही है। एक अधिकारी ने कहा कि‍ इस तरह के सि‍स्‍टम के लि‍ए बातचीत वैचारि‍क स्‍तर पर है। इस सि‍स्‍टम को 'कैशबैक' कहा जा सकता है। यह जानकारी अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर दी है। 

 

यह चर्चा ई-कॉमर्स कंपनि‍यों और डि‍पार्टमेंट ऑफ इंडि‍यन पॉलि‍सी एंड प्रोमोशन (डीआईपीपी) के बीच चल रही है। अधि‍कारी ने यह भी कहा कि‍ हमें इस मामले पर और स्‍टेकहोल्‍डर कंसलटेशन की जरूरत है क्‍योंकि‍ इसका मकसद डोमेस्‍टि‍क मार्केट में नकली प्रोडक्‍ट्स की बि‍क्री को रोकना है। इस प्रणाली को सरकार स्‍वैच्‍छि‍क स्‍वभाव के तौर पर इसे देख रही हैं।  

 

इस मामलों पर चल रही है चर्चा

 

इस प्रणाली में नकली प्रोडक्‍ट के लि‍ए शि‍कायत दर्ज करने और प्रोडक्‍ट नकली है या नहीं है इसे साबि‍त करने जैसी पर चर्चा की जा रही है। कॉमर्स एंड इंडस्‍ट्री मि‍नि‍स्‍ट्री के मुताबि‍क, नकली प्रोडक्‍ट तेजी से फैल रहा है जहां यह ग्‍लोबल मार्केट को भी प्रभावि‍त कर रहा है। 

 

नकली प्रोडक्‍ट से इकोनॉमि‍क लॉस

 

नकली प्रोडक्‍ट की वजह से मैन्‍युफैक्‍चरर्स और इंटीलेक्‍चुअल प्रॉपर्टी (आईपी) के ब्रांड वैल्‍यू, रेप्‍युटेशन और गुडवि‍ल को कम कर रहा है। इसकी वजह से सोशल और इकोनॉमिक असर पड़ते हैं। इससे टैक्‍स और रेवेन्‍यू में नुकसान होने की वजह से बड़े पैमाने पर इकोमॉनि‍क लॉस होता है। इतना ही नहीं इससे फंड्स का यूज दूसरे गैरकानूनी गति‍विधि‍यों में होता है और इस तरह प्रोडक्‍ट्स कंज्‍यूमर की हेल्‍थ और सेफ्टी के लि‍ए भी खतरा हैं।  

 

कंपनि‍यों की अपनी पॉलि‍सी

 

फ्लि‍पकार्ट, स्‍नैपडील और अमेजन जैसी दूसरी बड़ी ई-कॉमर्स कंपनि‍यां वि‍भि‍न्‍न मामलों में अधि‍कतम 30 दि‍न के भीतर प्रोडक्‍ट रीप्‍लेस या रीफंड करने के लि‍ए प्रति‍बध हैं। लेकि‍न इन सभी प्‍लेटफॉर्म्‍स पर कई सारे प्रोडक्‍ट अब भी रीफंड पॉलि‍सी से बाहर हैं, वहीं, कुछ माममों में रीफंड भी नहीं दि‍या जाता है। इसके अलावा, कस्‍टमर को रीफंड तभी दि‍या जाता है जब वह साबि‍त करते हैं कि‍ प्रोडक्‍ट नकली है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss