Home » Industry » E-Commerce5 Rural Places in India for Cultural Holidays

ये हैं भारत के 5 खूबसूरत गांव, बना देंगे आपकी ट्रिप को यादगार

आज हम आपको भारत के कुछ गांवों के बारे में बताने जा रहे हैं

1 of

नई दिल्ली: भारत पर्यटकों के घूमने के लिए एक बेहद ही खूबसूरत देश है। हर साल लाखों टूरिस्ट घूमने के लिए भारत आते हैं। इनमें से ज्यादातर टूरिस्ट गोवा, दिल्ली, मुंबई, कोलकाता जैसे शहरों का रुख करते हैं। लेकिन अगर आपको शोर-शराबे से दूर शांत और सुकून भरी जगह पसंद हैं तो गांव एक बेहतर विकल्प हो सकता है। आज हम आपको भारत के कुछ ऐसे गांवों के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां की ट्रिप आपके लिए यादगार हो सकती है। यहां आप शुद्ध हवा, फ्रेश फूड और चूल्हे में बनी रोटियां का लुत्फ भी उठा सकते हैं।

 

1. मावलिननांग गांव, (Mawlynnong) मेघालय

मेघालय में स्थित मावलिननांग गांव को एशिया का सबसे साफ गांव कहा जाता है। इस गांव को 'भगवान का अपना बगीचा' भी कहा जाता है। यह गांव मेघालय की राजधानी शिलॉन्ग से थोड़ी दूर स्थित खासी हिल्स क्षेत्र में आता है। मेघालय का खासी इलाका अपने साफ पानी के झरनों और नदियों के लिए भी जाना जाता है। यहां पेड़ों की जड़ों से प्राकृतिक पुल बने हुए हैं और ऐसे पुल केवल मेघालय में ही पाए जाते हैं। इस जगह पर आप साल के किसी भी महीने में जा सकते हैं। 

 

2. लाचुंग और लाचेन (Lachung and Lachen), सिक्किम

सिक्किम का यह गांव पर्यटकों के घूमने के लिए बहुत अच्छी जगह है। यह हनीमून डेस्टिनेशन्स के तौर पर भी खासा पॉपुलर है। यह लाचुंग, लाचेन और लाचुंग नदियों के किनारे पर स्थित है। नदी के किनारे बसे होने से इस गांव की खूबसूरती कई गुना बढ़ जाती है। यहां घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से जून के बीच होता है। 

आगे पढ़ें... 

3. मुनस्यारी (Munsiyari)

 

मुनस्यारी उत्तराखंड में बसी हुई एक छोटी सी जगह है जो अपनी हरियाली से लोगों को लुभाती है। यहांं के बुग्याल,ग्लेशियर और झरने न सिर्फ़ मन को लुभाते हैं बल्कि यहांं की हरी भरी वादिया भी पर्यटकों को आकर्षित करती हैं। काठगोदाम, हल्‍द्वानी रेलवे स्‍टेशन से मुनस्‍यारी की दूरी लगभग 295 किलोमीटर है और नैनीताल से 265 किलोमीटर है। काठगोदाम से मुनस्‍यारी की यात्रा बस अथवा टैक्‍सी के माध्‍यम से की जा सकती है और रास्‍ते में कई खूबसूरत स्‍थल आते हैं। यहां आप मार्च से जून और सितंबर से अक्टूबर के बीच जा सकते हैं।

 

4. माजुली (Majuli)

माजुली असम के ब्रह्मपुत्र नदी के बीच बसा एक बड़ा नदी द्वीप है। यहां पर आप गावों में घूम सकते हैं हैं। यहां राइस बीयर और ट्राइबल फूड फेमस है। यहां पर आप नाव से घूम सकते हैं। यह द्वीप रास उत्सव, टेराकोटा और नदी पर्यटन के लिए मशहूर है। मिसिंग, देउरी, सोनोवाल, कोच, कलिता, नाथ, अहोम,नेराली और अन्य जातियों की मिली-जुली आबादी वाले माजुली को मिनी असम और सत्रों की धरती भी कहा जाता है। 

 

आगे पढ़ें

5. नॉहकलिकई फॉल (Nohkalikai falls)

 

चेरापूंजी से करीब 7 किमी दूर स्थि‍त नॉहकलिकई फॉल भारत का 5वां सबसे ऊंचा वॉटर फॉल है। इस वॉटरफॉल के पीछे एक कहानी है। कहते हैं कि का लिकई नाम की एक महिला थी, जिसने अपने पहले पति की मौत के बाद दूसरी शादी की। पहले पति से उसकी एक बेटी थी। का लिकई अपनी बेटी से बहुत प्यार करती थी और दूसरे पति को यह पसंद नहीं था। एक दिन लिकई किसी काम से बाहर गई थी और दूसरे पति ने उसकी बेटी की हत्या कर उसके टुकड़े को भोजन में डालकर पका दिया। लिकई लौटी तो उसे घर में बेटी की उंगली मिली, जिससे पूरा मामला खुला। बताया जाता है कि इसके बाद लिकई ने इसी वॉटरफॉल से कूदकर जान दे दी, जिसके बाद वॉटरफॉल का नाम नॉहकलिकई फॉल पड़ गया। खासी भाषा में नॉह का मतलब कूदना होता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट