स्कूल-कॉलेज से ड्रॉप आउट 6 अरबपति, 'बिना पढ़े' इन्होंने कमाए अरबों रुपए

moneybhaskar.com

Jun 13,2015 08:52:00 AM IST
आमतौर पर आपने सुना होगा कि बेहतर शिक्षा ही सफलता की कुंजी है, लेकिन भारत के कुछ दिग्गज कारोबारियों की कहानी इससे अलग है। ये वो लोग हैं जिन्हें बीच में ही पढ़ाई छोड़नी पड़ी। किसी ने स्कूल तो कोई कॉलेज की शिक्षा पूरी नहीं कर सका। आज ये न सिर्फ बेशुमार दौलत के मालिक हैं, बल्कि बिजनेस की दुनिया में नए आयाम स्थापित करते जा रहे हैं। इनमें से कुछ ने अपने पिता के कारोबार को आगे बढ़ाया तो किसी ने अपना बिजनेस खड़ा कर दिया। गौतम अदानी से लेकर नीरव मोदी तक 'बिना पढ़े' ही इन कारोबारियों ने दौलत का अंबार लगा दिया।
मनी भास्कर आपको ऐसे ही 6 भारतीय कारोबारियों की जिन्दगी से जुड़े दिलचस्प फैक्ट्स बता रहा है।
आइये जानते हैं कौन हैं ये दिग्गज कारोबारी...
1. गौतम अदानी
दौलत- करीब 66,000 करोड़ रुपए

फोर्ब्स रैंकिंग- दुनिया के 208वें व भारत के 8वें सबसे अमीर
अदानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अदानी की कंपनी इंफ्रास्ट्रक्चर बल्कि कोल माइनिंग, ऑयल एंड गैस ट्रांसपोर्टेशन, गैस डिस्ट्रीब्यूशन आदि जैसे कई क्षेत्रों में अपनी धाक बनाए हुए है। अदानी ने 1988 में अदानी एक्सपोर्ट्स की शुरूआत की थी। फोर्ब्स के मुताबिक, गौतम अदानी ने अपनी पढ़ाई गुजरात में ही शुरू की, लेकिन आर्थिक तंगी के चलते उन्हें गुजरात यूनिवर्सिटी से पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ी। वे अपनी बैचलर्स डिग्री पूरी नहीं कर पाए थे।
आगे की स्लाइड्स में क्लिक कीजिए और जानिए दौलतमंदों की जिंदगी से जुड़ा ये सच...
 
2. नीरव मोदी
 
दौलत- करीब 10,800 करोड़ रुपए
 
फोर्ब्स रैकिंग- दुनिया के 1054वें और भारत के 46वें अमीर
 
अरबपतियों की लिस्ट में डायमंड कारोबारी नीरव मोदी 2010 में तब लाइमलाइट में आए, जब उन्होंने लोटस नेकलेस तैयार किया। इस नेकलेस की खास बात ये थी कि इसमें 12.29 कैरट का गोलकोंडा डायमंड लगाया गया था। कहा जाता है कि गोलकोंडा डायमंड बामुश्किल ही मिलता है। इसे क्रिस्टी को 3.56 मिलियन डॉलर में बेचा गया था। नीरव मोदी भी अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाए थे। वो यूएस के व्हारटॉन स्कूल से पढ़ाई छोड़कर 1990 में भारत आए थे और अपने अंकल को डॉयमंड बिजनेस में मदद करने लगे। नीरव का मुंबई में अपना सैलून है, जहां उनका प्राइवेट कलैक्शन आर्टवर्क लोगों को खूब लुभाता है।
 
 
3. मुकेश अंबानी
 
दौलत- करीब 1,49,474 करोड़ रुपए
 
फोर्ब्स रैंकिंग- दुनिया में 39वें, भारत में पहले नंबर के अमीर
 
रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी दुनिया के टॉप अमीरों की लिस्ट में शामिल हैं, साथ ही भारत के सबसे अमीर व्यक्ति हैं। मुकेश मुंबई यूनिवर्सिटी से केमिकल इंजीनियरिंग पूरी करने के बाद स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से एमबीए करने के लिए गए थे। लेकिन, बिजनेस में पिता धीरूभाई अंबानी की मदद करने के लिए उन्हें कॉलेज ड्रॉप करना पड़ा और वह भारत लौट आए।
 
4. मिकी जगतियानी
 
दौलत- करीब 30,750 करोड़ रुपए
 
फोर्ब्स रैंकिंग- दुनिया के 291वें और भारत के 13वें अमीर
 
दुबई के रिटेल स्टोर्स ग्रुप लैंडमार्क के मालिक मिकी मुकेश जगतियानी भारतीय बिजनेसमैन हैं। चेन्नई, मुंबई और बेरट से स्कूलिंग करने के बाद जगतियानी ने लंदन अकाउंटिंग स्कूल में दाखिला लिया, लेकिन कुछ समय बाद ही ड्रॉप कर दिया। बहरेन जाकर पारिवारिक व्यवसाय को आगे बढ़ाने से पहले मिकी ने बतौर टैक्सी ड्राइवर अपने करियर की शुरूआत की थी।
 
5. सुभाष चंद्रा
 
दौलत- करीब 26460 करोड़ रुपए

फोर्ब्स रैंकिंग- दुनिया के 393वें व भारत के 17वें सबसे अमीर
 
सुभाष चंद्रा भारतीय उद्योगपति हैं और एसेल ग्रुप के चेयरमैन हैं। भारत में पहला सेटेलाइट टेलिविजन चैनल जीटीवी लाने वाले सुभाष चंद्रा की गिनती उन चंद लोगों में होती है, जिन्होंने अपनी मेहनत से अरबों रुपए का कारोबार खड़ा कर दिया। उनके लिए भी कहा जाता है कि वह हाई स्कूल से ड्रॉपआउट हैं।
 
6. जॉय अलुक्कस

दौलत- करीब 3994 करोड़ रुपए
 
फोर्ब्स रैकिंग- दुनिया के अमीर लोगों की लिस्ट से जॉय 2015 में बाहर हो गए। 2014 तक वह 1342वें स्थान पर थे। हालांकि, भारत में वो अभी 99वें सबसे अमीर व्यक्ति हैं।

ज्वैलरी ग्रुप जॉयलुक्कस के फाउंडर और चेयरमैन जॉय अलुक्कस की कंपनी के 9 देशों में 85 आउटलेट्स हैं। जॉय भी 1987 के स्कूल ड्रॉपआउट हैं। उन्हें अपनी पढ़ाई अधूरी छोड़कर पिता के साथ उनके ज्वैलरी शेरूम में काम करने के लिए जाना पड़ा था।
X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.